--Advertisement--

जापान / बाढ़ का पानी निकालने के लिए दुनिया में पहली बार जमीन के अंदर बनी 6 किमी लंबी सुरंग



japan makes underground tunnel for flooding in tokyo
X
japan makes underground tunnel for flooding in tokyo

  • जापान में चक्रवाती तूफान और तेज बारिश के चलते उफान पर रहती हैं नदियां
  • 14 हजार करोड़ रुपए की लागत से बनाई गई सुरंग, इसमें 70 मीटर ऊंचे 5 टैंक भी
  • टैंक इतने ऊंचे कि इसमें स्पेस शटल भी समा जाए

Dainik Bhaskar

Dec 05, 2018, 07:50 AM IST

टोक्यो. जापान की राजधानी को बाढ़ से बचाने के लिए 6.3 किमी लंबी अंडरग्राउंड सुरंग बनाई गई है। पानी की निकासी के लिए बनाया गया यह दुनिया का पहला सिस्टम है। सुरंग धंसे नहीं, इसके लिए 500 टन के पिलर भी खड़े किए गए हैं। सुरंग बनाने में 2 अरब डॉलर (करीब 14 हजार करोड़ रुपए) का खर्च आया।

 

सिंगापुर के ली कुआन यू स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट ऑफ वॉटर पॉलिसी की एक्सपर्ट सिसिलिया टोर्टाजाडा कहती हैं कि आप सुरंग देखकर अंदाजा लगा सकते हैं कि टोक्यो को किस तरह डिजाइन किया गया है। सुरंग को मेट्रोपॉलिटन एरिया आउटर अंडरग्राउंड डिस्चार्ज चैनल नाम दिया गया है। इसके बनने के बाद उत्तरी टोक्यो में बाढ़ का खतरा खत्म हो गया है।

 

5 नदियों से घिरा है टोक्यो
जापान में चक्रवाती तूफान आते रहते हैं। टोक्यो 5 बड़ी नदियों से भी घिरा हुआ है। कई अन्य छोटी नदियां भी हैं जो तेज बारिश होने पर उफान पर आ जाती हैं। घने नगरीकरण और तेजी से उद्योगों के बढ़ने के चलते शहर में भारी बाढ़ का खतरा रहता है। 1947 में आए तूफान काथलीन में 1100 लोग मारे गए थे और 31 हजार घर खत्म हो गए थे। 

 

एक हफ्ते में 400 मिमी बारिश में डूब गया था शहर
एक दशक बाद कानोगावा तूफान से एक हफ्ते में टोक्यो में 400 मिमी बारिश हो गई थी। इसके चलते पूरा शहर डूब गया था। जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी (जीका) की आपदा एक्सपर्ट मिकी इनाओका कहती हैं कि 1950-60 के दशक में जापान युद्ध से उबर रहा था। तब सरकार आपदा और खतरा कम करने के प्रयासों पर महज 6-7% खर्च करती थी।

 

13 साल में बनकर तैयार हुई सुरंग
2006 में 13 साल में बनकर तैयार हुई इस सुरंग को बाढ़ के पानी की निकासी के िलए दुनिया का सबसे बड़ा सिस्टम बताया गया है। टोर्टाजाडा के मुताबिक- जापान एक ऐसा देश है जो सीखने में यकीन रखता है। सुरंग इसी का नतीजा है। सुरंग में इतनी जगह है कि छोटे या मध्यम आकार की नदी समा सकती है।

 

5 टैंक भी बनाए गए
सुरंग में पानी इकट्ठा करने के लिए 70 मीटर ऊंचे 5 टैंक भी बनाए गए हैं। इन टैंकों की ऊंचाई इतनी है कि इसमें स्पेस शटल समा सकता है। सुरंग से पानी निकालने के लिए 13 हजार हॉर्स पावर की मशीन लगाई गई है। ये मशीन 200 टन पानी प्रति सेकंड सुरंग से बाहर निकालेगी। टोक्यो प्रशासन ऐसी तैयारी भी कर रहा है कि अगर एक घंटे में 50 मिमी बारिश हो जाए तो किसी को तकलीफ न हो। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि 21वीं सदी में जापान की बारिश में 10% का इजाफा हो सकता है।

 

Japan

 

आलोचनाएं भी हो रहीं
टोक्यो के एक वार्ड के पूर्व चीफ सिविल इंजीनियर नोबुकुई सूचिया कहते हैं कि अफसर योजनाएं बनाने में काफी वक्त बर्बाद कर रहे हैं। दुर्भाग्य यह है कि जापान में जलवायु परिवर्तन को देखते हुए बाढ़ नियंत्रण योजना बनाई ही नहीं गई। नोबुकुई ने 2014 में अपनी किताब शूतो सुइबोत्सू (डूबी हुई राजधानी) में लिखा था कि ग्लोबल वॉर्मिंग के चलते आने वाली बाढ़ के लिए टोक्यो तैयार नहीं है। बाढ़-ज्वार से निचले इलाकों में रहने वाले 25 लाख लोगों पर असर पड़ सकता है।  
 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..