• Hindi News
  • National
  • Jet Airways: Lenders reasonably hopeful of successful bidding process for stake sale

जेट का संकट / कर्जदाताओं ने कहा- एयरलाइन को बचाने के लिए सशर्त बोलियां मांगना सबसे अच्छा तरीका

X

  • जेट के 75% शेयर बेचने के लिए बैंकों ने बोलियां मांगी
  • बोली के पहले चरण में 4 कंपनियों के प्रस्ताव मिले
  • 10 मई तक प्रक्रिया पूरी होनी है, जेट का भविष्य इसी पर निर्भर

Apr 18, 2019, 09:15 AM IST

मुंबई. शेयर बाजार खुलने से पहले गुरुवार सुबह जेट एयरवेज के कर्जदाताओं ने बयान जारी किया कि एयरलाइन की हिस्सेदारी बेचने के लिए जारी बोली प्रक्रिया सफल रहने की उम्मीद है। लेकिन इससे शेयर में गिरावट नहीं रुकी। एनएसई पर शेयर 31.08% (74.75 रुपए) की गिरावट के साथ 165.75 रुपए पर बंद हुआ। इंट्रा-डे में 34% तक लुढ़क गया था। बीएसई पर 32.23% (77.95 रुपए) नीचे 163.90 रुपए पर क्लोजिंग हुई। बैंकों से इमरजेंसी फंड नहीं मिलने की वजह से जेट एयरवेज ने बुधवार रात से सभी उड़ानें बंद कर दीं। इस वजह से एयरलाइन के शेयरों में बिकवाली बढ़ गई।

 

जेट एयरवेज के कर्जदाताओं ने तय किया है कि एयरलाइन को बचाने के लिए समर्थ निवेशकों से सशर्त बोलियां मांगना सबसे अच्छा तरीका है। एयरलाइंस के 75% तक शेयर बेचने के लिए बैंकों ने बिडिंग की प्रक्रिया शुरू की थी। पहले चरण में मिले प्रस्तावों (एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट) के आधार पर चुने गए निवेशकों को 16 अप्रैल को बोली के दस्तावेज जारी किए जा चुके हैं। 10 मई तक प्रक्रिया पूरी होगी।

 

जेट की उड़ानें फिर से शुरू करने में मदद करेंगे: डीजीसीए

एविएशन रेग्युलेटर डीजीसीए का कहना है कि जेट एयरवेज की उड़ानें फिर से शुरू करने के लिए उससे ठोस और भरोसेमंद प्लान मांगा जाएगा। नियामक दायरे में रहते हुए एयरलाइन की मदद की जाएगी। बुधवार को नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने भी कहा था कि नियमों के मुताबिक जेट के रेजोल्यूशन प्रोसेस में मदद करेगी। 
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना