• Hindi News
  • National
  • Project Cheetah Facts; Satellite Collar And Jumbo Jet Welcome Video | Kuno National Park

भारत आ रहे चीतों की पहली झलक, VIDEO:जंबो जेट नामीबिया से चीतों को लेकर रवाना, हर चीते को पहनाया सैटेलाइट कॉलर

5 महीने पहले

70 साल बाद भारत में फिर से चीतों की वापसी हो रही है। देश से लुप्त हो चुके इस जीव को नामीबिया से लाकर मध्य प्रदेश के कूनो में शनिवार को छोड़ा जाएगा। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद रहेंगे। नामीबिया से ये चीते शुक्रवार रात भारत रवाना हो गए। इन चीतों का पहला वीडियो सामने आया है। VIDEO देखने के लिए आप ऊपर लगी फोटो पर क्लिक कर सकते हैं...

प्रोजेक्ट चीता से जुड़े 6 बड़े फैक्ट्स
1. प्रोजेक्ट चीता के चीफ एसपी यादव ने कुछ अहम बातें बताई हैं। उनके मुताबिक नामीबिया से चीते बोइंग 747 से आएंगे यानी जंबो जेट से। इस एयरक्राफ्ट को इसलिए चुना गया है ताकि री-फ्यूलिंग के लिए रुकना न पड़े और चीते डायरेक्ट इंडिया आएं। ये एयरक्राफ्ट बिना रुके दुनिया के एक कोने से दूसरे कोने तक जा सकता है।

प्रोजेक्ट चीता के लिए इस जंबो जेट को स्पेशियली डिजाइन किया गया है। नामीबिया से यह शुक्रवार रात भारत के लिए रवाना हुआ। फोटो नामीबिया में भारत के हाईकमिश्नर ने पोस्ट की है।
प्रोजेक्ट चीता के लिए इस जंबो जेट को स्पेशियली डिजाइन किया गया है। नामीबिया से यह शुक्रवार रात भारत के लिए रवाना हुआ। फोटो नामीबिया में भारत के हाईकमिश्नर ने पोस्ट की है।

2. फ्लाइट में 8 चीतों के साथ क्रू, वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट, डॉक्टर्स, साइंटिस्ट, नामीबिया में भारत के हाई कमिश्नर मौजूद रहेंगे। इनके अलावा चीता एक्सपर्ट लॉरी मार्कर अपने 3 बायोलॉजिस्ट के साथ मौजूद रहेंगे।

4. चीतों के लिए इंटरनेशनल स्टैंडर्ड के स्पेशल क्रेट्स रहेंगे। ये लकड़ी के बने होंगे। चीते नामीबिया से 16 सितंबर को रात रवाना हो गए। ये 17 सितंबर की सुबह 7:30 बजे कूनो पहुंचेंगे।

5. सभी चीतों की मॉनिटरिंग के लिए उन्हें सैटेलाइट रेडियो कॉलर पहनाया गया है। इससे उनकी लोकेशन मिलती रहेगी। हर चीते की मॉनिटरिंग के लिए एक व्यक्ति होगा, जो इनके मूवमेंट और हर अपडेट्स की जानकारी देगा।

6. प्रधानमंत्री मोदी 3 चीतों को कूनो में छोड़ेंगे। बाकी चीतों को उनके अपने इलाकों में बाद में छोड़ दिया जाएगा।

भारत आ रहे चीतों को ग्राफिक्स के जरिए जानिए

देश में चीतों के गृह प्रवेश से जुड़ी कुछ स्पेशल रिपोर्ट्स भी पढ़ सकते हैं....

कूनो में लड़ सकते हैं चीते और तेंदुए

भास्कर ने वन विहार भोपाल के पूर्व डायरेक्टर डॉ. सुदेश वाघमारे से पूछा कि तेंदुओं का क्या होगा? फिर कूनो पहुंचकर CCF उत्तम शर्मा से और अन्य अधिकारियों से भी यही सवाल दोहराया।
वाघमारे ने बताया कि जंगल में सबसे ताकतवर जानवर का ही राज चलता है। चीता तेंदुओं से ज्यादा शक्तिशाली और फुर्तीला है। 20 सेकेंड में अपने शिकार को झपट्‌टा मारने का माद्दा रखता है। ये भी तय है कि तेंदुओं और चीतों के बीच शिकार को लेकर फाइट होगी, लेकिन दोनों की अपनी स्ट्रैटजी है। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें...

120 किमी/घंटे की रफ्तार, मिनटभर में शिकार का काम तमाम

चीते की रफ्तार को लेकर वैज्ञानिक अनुमान है कि यह 120 किमी/घंटा तक तेजी हासिल कर सकता है। टॉप स्पीड पर चीता 23 फीट यानी करीब 7 मीटर लंबी छलांग लगाता है। चीता हर एक सेकेंड में ऐसी 4 छलांग लगाते हुए दौड़ता है। मिनटभर के भीतर अपने शिकार का काम तमाम कर देता है। चीते से जुड़े सभी फैक्ट्स पढ़िए भास्कर एक्सप्लेनर में, क्लिक करिए...

ऐतिहासिक इवेंट की पूरी रिपोर्ट, पिंजरे के ऊपर होगा प्रधानमंत्री का मंच

कूनो नेशनल पार्क के गेट पर अफसरों की गाड़ियां हर 10 मिनट में भीतर-बाहर हो रही हैं। चीतों के आने से ज्यादा इस बात को लेकर हलचल है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 सितंबर को अपने जन्मदिन पर इन चीतों के पिंजरे खोलेंगे। सवाल यह है कि जंगल के सबसे तेज दौड़ने वाले इस जानवर से क्या प्रधानमंत्री की सुरक्षा को खतरा नहीं है? इस इवेंट की तैयारियों से जुड़ी डिटेल रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करिए...

खबरें और भी हैं...