पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंतरिम प्रमुख की नियुक्ति को चुनौती: जस्टिस एनवी रमना ने खुद को अलग किया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ज. रमना ने कहा- मैं नागेश्वर राव की बेटी की शादी में गया था, सुनवाई नहीं कर सकता 
  • याचिका पर सुनवाई से 10 दिन में सुप्रीम कोर्ट के तीन जज कर चुके इनकार

नई दिल्ली. सीबीआई के अंतरिम डायरेक्टर एम नागेश्वर राव की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई से गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस एनवी रमना भी हट गए। जस्टिस रमना ने कहा, “नागेश्वर राव मेरे पैतृक नगर से हैं और मेरे पारिवारिक मित्र भी हैं। मैं उनकी बेटी की शादी में भी गया था। इसलिए मैं इस मामले की सुनवाई नहीं कर सकता।’

 

बता दें कि राव के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई से 10 दिन में सुप्रीम कोर्ट के तीन जज इनकार कर चुके हैं। इससे पहले 21 जनवरी को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और 24 जनवरी को जस्टिस एके सिकरी भी सुनवाई से अलग हो गए थे।

 

याचिकाकर्ता प्रशांत भूषण की ओर से सीनियर एडवोकेट दुष्यंत दवे ने जस्टिस रमना से कहा कि आपके इस फैसले से हमें बहुत निराशा हुई है। हर कोई इस मामले की सुनवाई से हट रहा है। क्या हम यह मामला दिल्ली हाईकोर्ट लेकर जाएं? इस पर जस्टिस रमना ने कहा कि मेरे साथ यह परिस्थितियां नहीं होती तो मैं जरूर सुनवाई करता। 

 

इस मामले की सुनवाई अब शुक्रवार को जस्टिस अरुण मिश्रा और नवीन सिन्हा की बेंच करेगी। जस्टिस मिश्रा ने हाल ही में फैसलों को राजनीतिक रंग देकर जजों की आलोचना करने वाले वकीलों को फटकार लगाई थी।