• Hindi News
  • National
  • Kamal Haasan: Kamal Haasan On Home Minister Amit Shah Over Hindi as National Language Hindi of country

हिंदी विवाद / हासन ने कहा- भाषा के लिए जलीकट्टू से भी बड़ा आंदोलन होगा, राहुल बोले- भाषाई विविधता भारत की कमजोरी नहीं



अभिनेता कमल हासन। -फाइल अभिनेता कमल हासन। -फाइल
X
अभिनेता कमल हासन। -फाइलअभिनेता कमल हासन। -फाइल

  • कमल हासन ने कहा- 1950 में देशवासियों से वादा किया गया था कि उनकी भाषा और संस्कृति की रक्षा की जाएगी
  • स्टालिन ने कहा- 20 सितंबर की सुबह 10 बजे तमिलनाडु के सभी जिलों में प्रदर्शन किया जाएगा

Dainik Bhaskar

Sep 16, 2019, 09:45 PM IST

चेन्नई. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाए जाने की अपील का कई नेता विरोध कर रहे हैं। फिल्मों से राजनीति में आए कमल हासन ने सोमवार को कहा कि 1950 में देशवासियों से वादा किया गया था कि उनकी भाषा और संस्कृति की रक्षा की जाएगी। कोई शाह, सम्राट या सुल्तान इस वादे को अचानक से खत्म नहीं कर सकता। इस बीच, द्रमुक चीफ एमके स्टालिन ने कहा कि तमिलनाडु के सभी जिलों में 20 सितंबर से प्रदर्शन किया जाएगा। वहीं, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि भाषाई विविधता भारत की कमजोरी नहीं हैं।

 

मक्कल नीधि मय्यम (एमएनएम) नेता हासन ने इसे लेकर एक वीडियो भी जारी किया। वे अशोक स्तंभ और प्रस्तावना के बगल में खड़े होकर कह रहे हैं कि भाषा को लेकर एक और आंदोलन होगा, जो तमिलनाडु में जल्लीकट्टू विरोध प्रदर्शन की तुलना में बहुत बड़ा होगा। हम सभी भाषाओं का सम्मान करते हैं, लेकिन तमिल हमेशा हमारी मातृभाषा रहेगी।

 

 

‘लोग अपनी भाषा और संस्कृति को छोड़ना नहीं चाहते’

हासन ने कहा कि बहुत सारे राजाओं ने भारत को संघ बनाने के लिए अपना राजपाठ छोड़ दिया। लेकिन लोग अपनी भाषा, संस्कृति और पहचान को छोड़ना नहीं चाहते। भारत या तमिलनाडु को इस तरह की लड़ाई की जरूरत नहीं है। देश के सभी लोग खुशी से बंगाली में अपने राष्ट्रगान को गर्व से गाते हैं और आगे भी ऐसा ही करते रहेंगे। क्योंकि, राष्ट्रगान लिखने वाले कवि ने राष्ट्रगान के भीतर सभी भाषाओं और संस्कृतियों को उचित सम्मान दिया है, इसलिए यह हमारा राष्ट्रगान बन गया है। ऐसी नीतियों की वजह से सभी को नुकसान होगा। वीडियो के अंत में उन्होंने कहा कि तमिल को हमेशा जिंदा रहने दो, देश को समृद्ध बनाओ।

 

कांग्रेस ने कहा- केवल वोट के लिए इसका इस्तेमाल नहीं होना चाहिए

राहुल गांधी ने ट्वीट कर 23 भाषाओं को सूचिबद्ध भी की। वहीं, कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने सोमवार को कहा कि हिंदी देश की आधिकारिक भाषा है। हम चाहते हैं कि इसका विकास हो, लेकिन क्षेत्रिय भाषाओं को भी प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। भाषा को लेकर कई मतभेद नहीं होना चाहिए। हिंदी का विकास जारी है, यहीं हम सब चाहते हैं। लेकिन दबाव डालकर केवल वोट के लिए इसका इस्तेमाल करना उचित नहीं है।

 

कांग्रेस ने शनिवार को कहा था कि तीन भाषाओं के फार्मूले के साथ छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए। आधिकारिक भाषा अधिनियम, 1963 के अनुसार, हिंदी और अंग्रेजी केंद्र सरकार और संसद के लिए आधिकारिक भाषा हैं। संविधान की आठवीं अनुसूची में कुल 22 भाषाओं को मान्यता मिली है।

 

अमित शाह ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की अपील की थी

कमल हासन ने दो मिनट का वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर तमिल और अंग्रेजी में पोस्ट किया। अमित शाह ने 14 सितंबर को कहा था कि हिंदी हमारी राजभाषा है। हमारे देश में कई भाषाएं बोली जाती हैं, लेकिन एक ऐसी भाषा होनी चाहिए जो दुनियाभर में देश की पहचान को आगे बढ़ाए और हिंदी में ये सभी खूबियां हैं। केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और बंगाल के नेता पहले ही इस पर विरोध जता चुके हैं। 

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना