गांधी परिवार पर भिड़े सिब्बल-गहलोत:सिब्बल बोले- सोनिया और राहुल पद छोड़ें तो दूसरों को मौका मिले; गहलोत ने कहा- आप कांग्रेस की ABCD नहीं जानते

नई दिल्ली5 महीने पहले

यूपी, पंजाब सहित 5 राज्यों में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। CWC की बैठक के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि कांग्रेस की कमान गांधी परिवार को छोड़ देनी चाहिए, ताकि दूसरों को मौका मिले। सिब्बल ने पार्टी के भीतर राहुल की दखलंदाजी को लेकर भी सवाल उठाया।

वहीं सिब्बल के बयान पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पलटवार किया है। गहलोत ने कहा कि सिब्बल को कांग्रेस का कल्चर नहीं पता है। वे पार्टी की ABCD नहीं जानते हैं। सिब्बल अच्छे वकील रहे हैं, सोनिया जी और राहुल जी ने उन्हें बहुत मौके दिए हैं।

इधर, पार्टी में मचे घमासान के बीच कपिल सिब्बल ने बुधवार को अपने आवास पर G-23 नेताओं को डिनर पर बुलाया है। माना जा रहा है कि बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा हो सकती है।

घर की कांग्रेस नहीं, सबकी कांग्रेस पर हमारा फोकस
इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में सिब्बल ने कहा कि राहुल गांधी डीफेक्टो प्रेसिडेंट रहे हैं। पंजाब में सीएम बनाने में उन्होंने फैसला किया था। आप बताइए किस हैसियत से उन्होंने यह डिसिजन लिया था? सिब्बल ने कहा कि हमारी मांग है कि घर की कांग्रेस के बजाय सबकी कांग्रेस हो। मैं इसके लिए आखिरी सांसें तक लड़ूंगा।

अगस्त 2020 में कांग्रेस के 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को पार्टी में सुधार के लिए पत्र लिखा था। पत्र वायरल होने के बाद कांग्रेस में हलचल मच गई थी।
अगस्त 2020 में कांग्रेस के 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को पार्टी में सुधार के लिए पत्र लिखा था। पत्र वायरल होने के बाद कांग्रेस में हलचल मच गई थी।

राहुल ने नहीं दिया रिप्लाई, टैगोर बोले- संघ की भाषा बोल रहे हैं
सिब्बल के घर की कांग्रेस के सवाल पर राहुल गांधी ने कोई जवाब नहीं दिया। पार्लियामेंट जाने के दौरान राहुल से सिब्बल को लेकर सवाल पूछा गया था, लेकिन बिना जवाब दिए वे आगे बढ़ गए। वहीं उनके करीबी कांग्रेस नेता मणिक्कम टैगोर ने सिब्बल पर अटैक किया है। टैगोर ने कहा कि सिब्बल संघ की भाषा बोल रहे हैं।

सांसद मणिक्कम टैगोर ने ट्वीट कर कहा कि सिब्बल RSS की भाषा बोल रहे हैं। कांग्रेस के बिना आइडिया ऑफ इंडिया की कल्पना नहीं की जा सकती है।
सांसद मणिक्कम टैगोर ने ट्वीट कर कहा कि सिब्बल RSS की भाषा बोल रहे हैं। कांग्रेस के बिना आइडिया ऑफ इंडिया की कल्पना नहीं की जा सकती है।

G-23 गुट के सदस्य हैं कपिल सिब्बल
कपिल कांग्रेस के भीतर बदलाव की मांग करने वाले G-23 गुट के सदस्य हैं। पिछले दिनों हार के बाद गुलाम नबी आजाद के आवास पर G-23 सदस्यों की बैठक भी हुई थी। हालांकि, बैठक के बाद G-23 के दो सदस्य गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा CWC की मीटिंग में भी शामिल हुए थे।

सोनिया ने की थी इस्तीफे की पेशकश
5 राज्यों में हार के बाद CWC की मीटिंग में कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी। सोनिया गांधी ने कहा था कि अगर आप सबको लगता है कि गांधी परिवार की वजह से कांग्रेस कमजोर हो रही है, तो मैं, राहुल और प्रियंका कोई भी त्याग करने के लिए तैयार हैं। हालांकि, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा सहित CWC के सभी सदस्यों ने इसे एक स्वर में खारिज कर दिया।