• Hindi News
  • National
  • Karnataka Basavaraj Bommai Govt; National Anthem Mandatory In Schools And Colleges

कर्नाटक के स्कूल-कॉलेज में राष्ट्रगान अनिवार्य:3 स्कूलों में जन-गण-मन नहीं हो रहा था, शिकायत मिलने के बाद शिक्षा मंत्री ने आदेश जारी किया

बेंगलुरुएक महीने पहले
बेंगलुरु के सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट क्षेत्र में सेंट जोसेफ बॉयज हाई स्कूल, बिशप कॉटन बॉयज हाई स्कूल और बाल्डविन गर्ल्स हाई स्कूल के खिलाफ राष्ट्रगान नहीं गाने की शिकायत मिली थी।

कर्नाटक के स्कूल शिक्षा मंत्री बीसी नागेश ने राज्य के सभी स्कूलों में मॉर्निंग प्रेयर के बाद राष्ट्रगान गाना अनिवार्य कर दिया है। यह आदेश तब जारी किया गया जब बेंगलुरु के तीन स्कूलों में राष्ट्रगान नहीं होने की शिकायत मिली थी। 17 अगस्त का आदेश सभी गवर्नमेंट, सेमी-गवर्नमेंट, निजी स्कूलों और प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेजों पर लागू होगा।

जांच करने पहुंची थीं टीमें
सरकारी आदेश लागू होने के बावजूद बेंगलुरु के 3 स्कूलों में राष्ट्रगान नहीं गाया जा रहा था। इसके बाद बेंगलुरु के सार्वजनिक निर्देश विभाग, नॉर्थ और साउथ डिवीजन के उप निदेशकों ने संबंधित स्कूलों का दौरा किया और पुष्टि की कि वहां सुबह की प्रार्थना में राष्ट्रगान नहीं हो रहा था।

बेंगलुरु नॉर्थ के डीडीपीआई लोहिताश्व रेड्डी ने कहा- पिछले हफ्ते उन स्कूलों को नोटिस जारी किए गए थे, जहां छात्र राष्ट्रगान नहीं गा रहे थे। अब उन्होंने आश्वासन दिया है कि अब वहां नियमित रूप से राष्ट्रगान गाया जाएगा।

कर्नाटक में नियम- क्लास में करवाएं राष्ट्रगान
इससे पहले नागेश ने बेंगलुरु के सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट क्षेत्र में सेंट जोसेफ बॉयज हाई स्कूल, बिशप कॉटन बॉयज हाई स्कूल और बाल्डविन गर्ल्स हाई स्कूल के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई का आदेश दिया था। कर्नाटक शिक्षा अधिनियम की धारा 133 (2) के अनुसार नियम है कि सामूहिक प्रार्थना के लिए जगह की कमी होने पर क्लासेस में राष्ट्रगान गाया जाना चाहिए।

स्कूल गणेश चतुर्थी भी मना सकते हैं

राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश गणेश चतुर्थी को धार्मिक आयोजन नहीं माना जाना चाहिए। यह एक आंदोलन है।
राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश गणेश चतुर्थी को धार्मिक आयोजन नहीं माना जाना चाहिए। यह एक आंदोलन है।

कर्नाटक के स्कूल शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने कहा है कि स्कूल और कॉलेज परिसरों में गणेश चतुर्थी मनाने के लिए स्वतंत्र हैं। नागेश ने 17 अगस्त को बेंगलुरु में प्रेस से बात करते हुए कहा, "स्कूलों को इस साल गणेश चतुर्थी मनाने की पूरी आजादी है और वे इसे हर साल की तरह जारी रख सकते हैं।" हालांकि बाद में उन्होंने स्पष्ट किया कि गणेश चतुर्थी को धार्मिक आयोजन नहीं माना जाना चाहिए।

इस बयान की मुस्लिम संगठनों ने आलोचना की, जिन्होंने स्कूलों और कॉलेजों में हिजाब पर बैन का सपोर्ट करते हुए गणेश चतुर्थी के लिए मंत्री की हरी झंडी पर सवाल उठाया। कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) की स्टूडेंट ब्रांच कैंपस फ्रंट ने नागेश के बयान की निंदा की। संगठन ने कहा कि राज्य सरकार एक समुदाय के पक्ष में अन्य समुदायों की भावनाओं को आहत कर रही है।

हालांकि नागेश ने बाद में स्पष्ट किया कि गणेश चतुर्थी को धार्मिक आयोजन नहीं माना जाना चाहिए। यह एक आंदोलन है। यह आजादी के पहले से ही मनाया जाता रहा है और यह त्योहार लोगों को एकजुट करेगा।