• Hindi News
  • National
  • BS Yediyurappa: BS Yediyurappa BJP Government Cancels Tipu Jayanti Celebrations in Karnataka

कर्नाटक / येदियुरप्पा का फैसला: टीपू सुल्तान की जयंती अब नहीं मनाई जाएगी, कांग्रेस ने कहा- भाजपा धर्मनिरपेक्ष नहीं

-फाइल -फाइल
X
-फाइल-फाइल

  • 2015 से हर साल नवम्बर में इसका आयोजन बड़े धूमधाम से हो रहा था
  • भाजपा विधायक केजी बोपैया ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया था कि इसका आयोजन न हो
  • भाजपा शुरू से ही टीपू जयंती समारोह का विरोध करती आई है

दैनिक भास्कर

Jul 30, 2019, 07:44 PM IST

नई दिल्ली. कर्नाटक में हर साल नवम्बर महीने में टीपू जयंती समारोह आयोजित होता है। मगर इस बार प्रदेश सरकार ने इसे रद्द करने का फैसला लिया है। मंगलवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कन्नड़ और संस्कृति विभाग को इसका आयोजन न किए जाने को लेकर निर्देश दिए। सरकार के इस कदम पर कांग्रेस ने कहा- भाजपा धर्मनिरपेक्ष नहीं है।

 

येदियुरप्पा सरकार ने सोमवार को कैबिनेट की बैठक में इसका निर्णय लिया। दरअसल, भाजपा विधायक केजी बोपैया ने मुख्यमंत्री से टीपू जयंती समारोह आयोजित न करने का अनुरोध किया था। 

 

टीपू देश के पहले स्वतंत्रता सेनानी: सिद्दारमैया

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्दरमैया ने कहा- टीपू जयंती मनाने का रिवाज मैंने शुरू किया था। मेरे अनुसार वह देश के पहले स्वतंत्रता सेनानी थे। भाजपा के लोग सेक्युलर नहीं हैं। 

 

कोडागू जिले में धूमधाम से आयोजन होता है

टीपू जयंती समारोह का आयोजन राज्य के कोगाडू जिले में धूमधाम से होता था। कांग्रेस सरकार ने 2015 से इसकी शुरुआत की थई। इस दौरान कुछ हिंसक घटनाएं भी हुईं, जिसमें विश्व हिंदू परिषद के एक कार्यकर्ता कुटप्पा की मौत भी हुई थी।

 

दक्षिणपंथी दल टीपू को हिंदूविरोधी मानता है
टीपू की राजनीतिक विरासत को लेकर एक राय नहीं है। अंग्रेजों के खिलाफ 4 युद्ध लड़ने के कारण एक वर्ग टीपू का समर्थन करता है। जबकि भाजपा और अन्य दक्षिणपंथी पार्टियां टीपू सुल्तान को मुस्लिमपरस्त और हिंदूविरोधी शासक मानते रहे हैं। भाजपा शुरू से ही टीपू जयंती समारोह को लेकर विरोध करती रही है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना