• Hindi News
  • National
  • Karnataka Mengaluru Auto Rickshaw Blast Update; Terrorist Mohammed Shariq; Union Minister Of State For Agriculture And Farmers Welfare Shobha Karandlaje; Manjunath Swami Temple

मंगलुरु ब्लास्ट में मंजूनाथ मंदिर था टारगेट:केंद्रीय मंत्री का दावा- आरोपी शारिक ने ISIS से ट्रेनिंग ली, 40 से ज्यादा लोगों को ट्रेंड किया

बेंगलुरु2 महीने पहले

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे ने शुक्रवार को कहा कि मंगलुरु विस्फोट के आरोपियों ने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) से ट्रेनिंग ली हुई है। इतना ही नहीं, इन लोगों ने देश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए 40 से ज्यादा लोगों को प्रशिक्षित भी किया है।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि आरोपी शारिक 19 नवंबर को कुकर बम से मंगलुरु के कादरी मंजूनाथ स्वामी मंदिर में विस्फोट करने वाला था। शारिक से मंगलुरु और उसके आसपास के इलाकों में स्थित कई मंदिरों के नक्शे मिले हैं। उन्होंने कहा कि आरोपियों ने इसके लिए पुख्ता प्लान तैयार कर रखा था।

करंदलाजे ने दावा किया कि आरोपियों का उद्देश्य तटीय कर्नाटक में सांप्रदायिक तनाव पैदा करना था। उनके टारगेट पर मंदिर और कई नेता भी थे। भाजपा नेता ने यह भी कहा कि केरल और कर्नाटक के तटीय क्षेत्र में ISIS द्वारा प्रशिक्षित लोग और प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के सदस्य आतंकवादी गतिविधियों में शामिल हैं।

मोहम्मद शारिक मैसूर में किराए के मकान में रह रहा था। वह पहले भी जेल जा चुका है।
मोहम्मद शारिक मैसूर में किराए के मकान में रह रहा था। वह पहले भी जेल जा चुका है।

2020 में जांच की वजह से जमानत पर छूटा
शोभा करंदलाजे ने 2020 में शारिक की गिरफ्तारी और उसके जमानत पर छूटने की वजह भी बताई। केंद्रीय मंत्री ने बताया- मंगलुरु ब्लास्ट के आरोपी 24 साल के मोहम्मद शारिक ने 2020 में मंगलुरु शहर में कुछ सार्वजनिक दीवारों पर आतंकियों के समर्थन में कुछ नारे लिखे थे। तब वह सही जांच नहीं होने की वजह से जमानत पर छूट गया था।

19 नवंबर को ऑटो रिक्शा में हुआ था धमाका
बता दें कि कर्नाटक के मंगलुरु में 19 नवंबर को ऑटो रिक्शा में एक ब्लास्ट हुआ था। इसका मुख्य आरोपी शारिक है। पुलिस के मुताबिक आरोपी मोहम्मद शारिक कुकर बम लेकर ऑटो में पैसेंजर बनकर बैठा था। उसका टारगेट शहर का भीड़-भाड़ वाला इलाका था। गनीमत रही कि बम ऑटो में ही फट गया और खुद शारिक इसका शिकार हाे गया। राज्य सरकार ने इसे आतंकी घटना बताते हुए मामले की जांच NIA को सौंप दी है।

विस्फोट इसी ऑटो रिक्शा में हुआ था। धमाके में शारिक और ऑटो ड्राइवर झुलस गए थे।
विस्फोट इसी ऑटो रिक्शा में हुआ था। धमाके में शारिक और ऑटो ड्राइवर झुलस गए थे।

शारिक 40 फीसदी तक झुलसा, अस्पताल में भर्ती
पुलिस के अनुसार आरोपी शारिक ने ऑटो में बैठते ही कहा कि उसे पंपवेल एरिया जाना है। ADGP ने कहा कि शारिक विस्फोटक को नगौरी में प्लांट करना चाहता था, लेकिन इससे पहले ही इसमें विस्फोट हो गया। वह 40 फीसदी तक जल चुका है। फिलहाल पुलिस की देखरेख में ऑटो चालक और आरोपी शारिक का इलाज चल रहा है।

मंगलुरु ब्लास्ट से जुड़ी ये खबर भी पढ़ें...

शारिक के मैसूर स्थित मकान पर पुलिस की रेड, बम बनाने का सामान और फेक ID बरामद

मंगलुरु ब्लास्ट केस में रविवार को पुलिस फोरेंसिक साइंस लैबोरेटरी डिवीजन मैसूर के पास मदहल्ली में शारिक के घर पहुंची, जो उसने किराए पर लिया था। यहां से टीम को विस्फोटक बनाने का सामान मिला है। टीम को उसके घर से दो फर्जी आधार कार्ड, एक फर्जी PAN कार्ड और एक FINO डेबिट कार्ड मिला है। पढ़ें पूरी खबर...

मंगलुरु ऑटो ब्लास्ट में घायल मोहम्मद शरीक ही आरोपी, मैसूर स्थित मकान पर पुलिस की रेड

कर्नाटक के मंगलुरु में शनिवार को एक ऑटो में हुए ब्लास्ट मामले में आरोपी की पहचान कर ली गई है। आरोपी का नाम मोहम्मद शारिक है और वह 24 साल का है। दरअसल, धमाके में ऑटो ड्राइवर और एक पैसेंजर घायल हो गए थे। जांच में पुलिस को पता चला कि यह पैसेंजर मोहम्मद शारिक है, जिस पर पहले से ही टेरर लिंक के कई केस चल रहे हैं। पढ़ें पूरी खबर...

ब्लास्ट से पहले खुद को हिंदू बताता रहा शारिक:कुकर बम से मंगलुरु शहर दहलाने निकला, पहले ही धमाका हो गया

मंगलुरु में शनिवार को ऑटो में हुए धमाके के मामले में रोज नई परत खुल रही है। पुलिस के मुताबिक आरोपी मोहम्मद शारिक कुकर बम लेकर ऑटो में पैंसेंजर बनकर बैठा था। उसका टारगेट शहर का भीड़-भाड़ वाला इलाका था। गनीमत रही कि बम ऑटो में ही फट गया और खुद शारिक इसका शिकार हाे गया। वह 40 फीसदी तक जल चुका है। पढ़ें पूरी खबर...

ब्लास्ट से पहले शारिक ने की थी रिहर्सल:अमेजन से टाइमर खरीदा, शिवमोगा में तुंगा नदी के किनारे किया था ब्लास्ट
​​​​​​
कर्नाटक के मंगलुरु में 19 नवंबर को हुए ऑटो रिक्शा ब्लास्ट से पहले आरोपी मोहम्मद शारिक ने इसकी रिहर्सल की थी। शारिक दो साथियों सैयद यासीन, माज मुनीर अहमद के साथ शिवमोगा जिले की तुंगा नदी के किनारे केम्मानगुड़ी में गया था। यहीं पर इन लोगों ने ब्लास्ट की रिहर्सल की। पढ़ें पूरी खबर...