• Hindi News
  • National
  • Kashmiri Pandit Murder | Terrorists Shoot At Revenue Officer In Jammu Kashmir Budgam

फिर कश्मीरी पंडित की हत्या:तहसील ऑफिस में घुसकर आतंकियों ने क्लर्क को गोली मारी, अस्पताल में मौत

श्रीनगर2 महीने पहले

जम्मू-कश्मीर के बडगाम में आतंकियों ने चडूरा तहसीलदार ऑफिस के क्लर्क राहुल भट को ऑफिस में घुसकर गोली मार दी। मौके पर मौजूद लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इस घटना के बाद सुरक्षाबलों ने इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। राहुल कश्मीरी पंडित थे।

कश्मीर में आतंकी कई महीनों से कश्मीरी पंडितों को निशाना बनाकर हमले कर रहे हैं। 14 अप्रैल को आतंकियों ने सतीश कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

पुलिस ने बताया कि दो आतंकियों ने ऑफिस में घुसकर उन पर पिस्टल से गोलियां चलाई थीं। राहुल को गोली मारने के बाद आतंकी मौके से फरार हो गए, उनकी तलाश जारी है।

खबर को आगे पढ़ने से पहले नीचे दिए गए पोल में शामिल होकर अपनी राय दें...

केंद्र सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस
कश्मीरी पंडित की हत्या के बाद कांग्रेस फिर केंद्र सरकार पर हमलावर हो गई है। कांग्रेस नेता अश्विनी हांडा ने कहा, सरकार घाटी में कश्मीरी पंडितों को सुरक्षा नहीं दे पा रही है। यहां आए दिन कश्मीरी पंडितों को निशाना बनाया जाता है।

फारूक बोले- अल्पसंख्यकों को सुरक्षा देने में सरकार नाकाम
जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीरी पंडित राहुल भट की हत्या पर सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार अल्पसंख्यकों को सुरक्षा देने में पूरी तरह विफल साबित हुई है।

उपराज्यपाल ने कहा- आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा
जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने राहुल भट की हत्या की निंदा की है। उन्होंने कहा कि आतंकी हमले के पीछे जो लोग हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। इस दुख की घड़ी में जम्मू-कश्मीर सरकार शोक संतप्त परिवार के साथ खड़ी है।

दो आतंकियों ने सरकारी ऑफिस में घुसकर राहुल भट पर गोलियां चलाईं।
दो आतंकियों ने सरकारी ऑफिस में घुसकर राहुल भट पर गोलियां चलाईं।

इस साल 75 आतंकी हुए ढे़र
कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान जारी है। अधिकारियों का कहना है कि सुरक्षाबलों ने साल 2022 में 75 आतंकियों को मार गिराया है। वहीं जम्मू-कश्मीर में करीब 168 आतंकवादी अभी भी एक्टिव हैं। इसमें 21 विदेशी भाड़े के सैनिक भी शामिल हैं। जब तक जम्मू-कश्मीर में आतंकियों का सफाया नहीं हो जाता, सेना का अभियान जारी रहेगा। वहीं 2021 में सुरक्षाबलों ने 180 आतंकियों का सफाया किया था, जिनमें 18 विदेशी थे।

200 आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में घुसने को तैयार
उत्तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने 6 मई को कहा था कि घाटी में आतंकी घुसपैठ में भारी कमी आई है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि, वर्तमान में करीब 200 आतंकवादी पाकिस्तान से जम्मू-कश्मीर में घुसने के लिए तैयार बैठे हैं।

कम हो रही आतंकी घटनाएं
लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने कहा कि,जम्मू-कश्मीर में प्रशिक्षित आतंकवादियों की संख्या घट रही है क्योंकि उन्हें स्थानीय समर्थन नहीं मिल रहा है और इसके अभाव में इस साल अब तक 21 विदेशी आतंकवादियों का सफाया कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान लगातार आतंकवादियों को आश्रय दे रहा है। सीमा के उस पार 6 बड़े और 29 छोटे आतंकी कैंप अब भी बने हुए हैं। कश्मीर में 40 से 50 विदेशी आतंकी सक्रिय थे।