• Hindi News
  • National
  • Kashmiri Pandit Rahul Bhatt Murder Case | Terrorists Shoot At Revenue Officer In JK Budgam

जम्मू-कश्मीर में 24 घंटे में दो टारगेट किलिंग:जम्मू से लेकर कश्मीर तक कश्मीरी पंडित कर रहे विरोध; प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

श्रीनगरएक महीने पहले

जम्मू-कश्मीर में 90 के दशक में हुईं टारगेट किलिंग का दौर फिर लौट आया है। आतंकवादी जवानों के साथ कश्मीरी पंडितों को निशाना बना रहे हैं। कश्मीर में 24 घंटों के अंदर हत्या की दो घटनाएं सामने आई हैं। इसके बाद से कश्मीरी पंडित अपनी सुरक्षा को लेकर जम्मू से लेकर श्रीनगर तक प्रदर्शन कर रहे हैं। कई जगहों से पुलिस और पंडितों के बीच धक्का-मुक्की की भी जानकारी मिली है।

इस खबर को आगे पढ़ने से पहले नीचे दिए गए पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दें...

घाटी में तनाव की स्थिति हो गई है। कश्मीरी पंडित जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं। उधर, बडगाम के शेखपोरा में प्रदर्शन कर रहे कश्मीरी पंडितों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले और लाठीचार्ज का इस्तेमाल किया। यह सभी लोग श्रीनगर एयरपोर्ट अड्डे की ओर मार्च कर रहे थे।

इससे पहले कश्मीर में 350 से अधिक कश्मीरी पंडित प्रधान मंत्री पैकेज कर्मचारियों ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा को सामूहिक इस्तीफा भेजा। इनका कहना है कि राहुल भट्ट की आतंकवादियों द्वारा हत्या के बाद वे यहां सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं।

क्या है मामला
बडगाम में गुरुवार शाम आतंकियों ने चडूरा तहसीलदार ऑफिस के क्लर्क राहुल भट्ट को ऑफिस में घुसकर गोली मार दी। मौके पर मौजूद लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनकी मौत हो गई। आज यानी शुक्रवार को पुलवामा के गुदूरा में आतंकियों ने SPO रियाज अहमद थोकर पर फायरिंग कर दी। अस्पताल में उनकी मौत हो गई।

पुलवामा जिले में रियाज के लिए एक पुष्पांजलि समारोह आयोजित किया गया।
पुलवामा जिले में रियाज के लिए एक पुष्पांजलि समारोह आयोजित किया गया।

डीआईजी दक्षिण कश्मीर रेंज अब्दुल जब्बार ने बताया कि रियाज छुट्टी पर था और अपने बच्चे की स्कूल बस का इंतजार कर रहा था। इस दौरान दो अज्ञात बाइक सवारों ने उस पर कथित तौर पर गोलियां चला दीं।

राहुल के शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाते परिजन।
राहुल के शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाते परिजन।

राहुल भट्ट के अंतिम संस्कार में उमड़ी भीड़
राहुल भट्ट का शुक्रवार सुबह बनतालाब में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान जम्मू के ADGP मुकेश सिंह, डिविजनल कमिश्नर रमेश कुमार, डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा सहित काफी संख्या में लोग मौजूद रहे। वहीं, मौके पर पहुंचे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना का लोगों ने विरोध किया।

राहुल भट्ट के अंतिम संस्कार में हजारों लोग शामिल हुए।
राहुल भट्ट के अंतिम संस्कार में हजारों लोग शामिल हुए।

आतंकियों ने पूछा- राहुल भट्ट कौन है और गोली चला दी
राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने बताया कि आतंकियों ने ऑफिस में जाकर पूछा राहुल भट्ट कौन है और गोलियां चला दीं। कोई कर्मचारी ही आतंकियों से मिला था, तभी राहुल का नाम आतंकियों को पता था। उन्होंने बताया कि राहुल लगातार ट्रांसफर की मांग कर रहे थे, लेकिन किसी ने उनकी नहीं सुनी। मीनाक्षी ने सेना से कहा है कि उनके पति के हत्यारों को दो दिन में मार गिराया जाए।

मीनाक्षी बोलीं- आतंकी घाटी में दहशत फैलाना चाहते हैं, इसलिए पंडितों को टारगेट किया जा रहा है।
मीनाक्षी बोलीं- आतंकी घाटी में दहशत फैलाना चाहते हैं, इसलिए पंडितों को टारगेट किया जा रहा है।

जम्मू-कश्मीर में जगह-जगह प्रदर्शन
इससे पहले गुरुवार रात को जगह-जगह प्रदर्शन किए गए। कश्मीरी पंडितों ने शव के साथ सड़क पर विरोध जताया और उप राज्यपाल के आने तक शव उठाने से इनकार कर दिया। बाद में DIG सुजीत कुमार के आश्वासन पर शव को घर ले जाया गया ।

राहुल की हत्या के बाद पंडितों ने हाइवे जाम कर दिया।
राहुल की हत्या के बाद पंडितों ने हाइवे जाम कर दिया।

पंडित बोले- सुरक्षा नहीं मिलने तक नौकरी पर नहीं लौटेंगे
वहीं, बडगाम में शेखपोरा पंडित कॉलोनी के पास कश्मीरी पंडितों ने विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि जब तक उन्हें सुरक्षा का पूरा आश्वासन नहीं मिलता, वो लोग नौकरियों पर नहीं जाएंगे। उधर, कैंप में रह रहे कश्मीरी पंडितों ने हाइवे पर जाम लगाकर केन्द्र और राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कई जगहों पर कैंडल कर विरोध प्रदर्शन किया गया। पंडितों का कहना है कि वो यहां सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं और सरकार के कश्मीरी पंडितों के वापसी के दावे फेल होते नजर आ रहे हैं।

बडगाम में शेखपोरा पंडित कॉलोनी के पास गुरुवार को कश्मीरी पंडितों ने प्रदर्शन किया।
बडगाम में शेखपोरा पंडित कॉलोनी के पास गुरुवार को कश्मीरी पंडितों ने प्रदर्शन किया।

अनंतनाग में विरोध प्रदर्शन
अनंतनाग में कश्मीरी पंडित सरकारी कर्मचारी संघ द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। प्रदर्शन कर रहे अमित ने बताया कि पिछले 3 महीने में ये हमारे समुदाय में तीसरी हत्या है। हमें सरकार से सुरक्षा चाहिए।

कश्मीरी पंडित सरकारी कर्मचारी संघ कर रहा प्रदर्शन।
कश्मीरी पंडित सरकारी कर्मचारी संघ कर रहा प्रदर्शन।

आर्टिकल 370 हटने के बाद 4 कश्मीरी पंडितों समेत 14 हिंदू की हत्या
कश्मीर में टारगेट किलिंग अक्टूबर में शुरू हुईं। यहां में पांच दिनों में सात नागरिक मारे गए इनमें एक कश्मीरी पंडित, एक सिख और प्रवासी हिंदू शामिल हैं, जो नौकरी की तलाश में आए थे। 14 अप्रैल को आतंकियों ने सतीश कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

इससे पहले शनिवार को आतंकियों ने अली जान रोड स्थित ऐवा ब्रिज पर पुलिस कर्मी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। अब राहुल की हत्या के बाद कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा पर फिर से सवाल खड़ा हो गया है। कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने के बाद 4 कश्मीरी पंडितों समेत 14 हिंदू आतंकी हमलों में मारे गए। गृह मंत्रालय ने संसद में इसकी जानकारी दी थी।

कश्मीर के वेसु काजीगुंड में कश्मीरी पंडितों ने मोमबत्तियां जलाकर राहुल को श्रद्धांजलि दी।
कश्मीर के वेसु काजीगुंड में कश्मीरी पंडितों ने मोमबत्तियां जलाकर राहुल को श्रद्धांजलि दी।

संजय राउत बोले- गृह मंत्री को इस बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए
राहुल भट्ट की हत्या पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि कश्मीरी पंडितों की घर वापसी की बात हो रही थी। 7 साल कितनों की घर वापसी हुई पता नहीं, लेकिन जो वहां रह रहे थे उनको भी रहने नहीं दिया जा रहा है, उनकी भी हत्या हो रही है। मुझे लगता है गृह मंत्री को इस बारे में गंभीरता से सोचना होगा।

फिर कश्मीरी पंडित की हत्या:तहसील ऑफिस में घुसकर आतंकियों ने क्लर्क को गोली मारी, अस्पताल में मौत