पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Kerala Karnataka Flood landslides News Updates; Kerala, Karnataka Monsoon Rains Bring Severe Flooding Landslides

केरल और कर्नाटक में बाढ़-भूस्खलन से 118 मौतें, उत्तराखंड के चमोली में बादल फटने से 6 की जान गई

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
केरल के मलप्पुरम में बाढ़ से हालात खराब।
  • केरल में 8 अगस्त से भारी बारिश के कारण 8 जिलों में बाढ़ के हालात, ढाई लाख लोग राहत शिविरों में
  • मलप्पुरम और वायनाड में बड़े पैमाने पर भूस्खलन के बाद मलबे से 21 शव मिले, 57 लापता
  • राहुल गांधी बाढ़ का जायजा लेने वायनाड पहुंचे, अमित शाह ने बेगलावी का हवाई सर्वे किया

तिरुवनंतपुरम/देहरादून. केरल में लगातार दूसरे साल बारिश और भूस्खलन से तबाही हुई है। राज्य के 8 जिले भीषण बाढ़ की चपेट में हैं। 8 अगस्त के बाद से अब तक 76 लोगों की मौत हो चुकी है। मलप्पुरम और वायनाड जिले में भूस्खलन के मलबे में 57 लोग के दबे होने की आशंका है। बाढ़ प्रभावित इलाकों से ढाई लाख से ज्यादा लोगों को विस्थापित कर 1640 राहत शिविरों में रखा गया है। पिछले साल बाढ़ में 400 लोगों की जान चली गई थी। दूसरी ओर, कर्नाटक के 17 जिले भी बाढ़ की चपेट में हैं। यहां बीते 12 दिन में 42 लोगों की जान गई, जबकि 14 लोग लापता हैं।

दूसरी ओर, उत्तराखंड के चमोली जिले के दो गांवों में सोमवार सुबह बादल फटा। इससे तीन घर मलबे की चपेट में आ गए। इस दौरान एक महिला और उसकी 9 महीने की बच्ची समेत छह लोगों की मौत हो गई। विकास खंड घाट इलाके में भारी बारिश के बाद एक घर भी ढहकर नदी में समा गया। मौसम विभाग ने राज्य के सात जिले- चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, पिथौड़ागढ़, देहरादून, नैनीताल और पौड़ी और कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित बेलगावी में 13 से 16 अगस्त तक बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।
 

केरल में बारिश के बाद 100 जगहों पर भूस्खलन
मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने बताया कि 8 अगस्त से लगातार जारी बारिश और बाढ़ में 76 लोग जान गंवा चुके हैं। राज्य में 2500 से ज्यादा घर पूरी तरह बर्बाद हो गए। भारी बारिश के चलते करीब 100 जगहों पर भूस्खलन की घटनाएं हुईं। रविवार शाम तक मलप्पुरम में 23, कोझिकोड में 17 और वायनाड में 12 और शव बरामद हुए। पलक्कड़ जिले के करीब 10 आदिवासी इलाके का संपर्क टूटने से सैकड़ों लोग बाढ़ में फंसे हुए हैं। केरल में रेलवे ट्रैक पर पेड़ और चट्टान गिरने की वजह से ट्रैफिक पर असर पड़ा है।
 

निलांबुर और पुथुमाला में 57 लोग मलबे में दबे
कांग्रेस नेता राहुल गांधी बाढ़ का जायजा लेने के लिए अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड पहुंचे हैं। रविवार को उन्होंने मलप्पुरम के निलांबुर का दौरा किया। यहां 8 अगस्त भूस्खलन के बाद 35 घर दब गए। एनडीआरएफ रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही है। निलांबुर में अब तक 11 लोगों के शव मलबे से निकाले गए हैं। अधिकारियों के मुताबिक, 50 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। वायनाड जिले के पुथुमाला में भी भूस्खलन से 10 लोगों की मौत हुई। यहां 7 लोग लापता हैं। 

कर्नाटक में बाढ़ से 12 दिन में 42 की जान गई
दूसरी ओर, कर्नाटक के 17 जिले बारिश और बाढ़ में सबसे ज्यादा प्रभावित हुए। 1 अगस्त से अब तक 42 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 14 लापता हैं। सेना और एनडीआरएफ ने राज्य में 5 लाख 81 हजार लोगों को सुरक्षित निकाला। सरकार ने बाढ़ पीड़ितों के लिए 1168 राहत शिविर बनाए हैं। रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बेलगावी में बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। कर्नाटक सरकार ने मृतकों के परिजन को 5 लाख रु. के मुआवजे का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने बाढ़ को राज्य में 45 साल की सबसे बड़ी आपदा बताया है। उन्होंने केंद्र से 3 हजार करोड़ रु. की मदद मांग की।
 

दक्षिण भारत में भारी बारिश क्यों हो रही है?
पश्चिम प्रशांत महासागर क्षेत्र में उठे दो तूफानों लेकिमा और क्रोसा के कारण देश के दक्षिणी राज्यों में भारी बारिश हो रही है। मौसम वैज्ञानिकों ने यह दावा किया है। उनका कहना है कि पहले पश्चिम प्रशांत महासागर का भारतीय क्षेत्रों पर प्रभाव सीमित था। अब यह हिंद महासागर को डंप यार्ड के तौर पर इस्तेमाल करने लगा है। इसी का असर केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु में भारी बारिश के रूप में दिख रहा है।
 


 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें