• Hindi News
  • National
  • Saji Cheriyan Constitution | Kerala Minister Saji Cheriyan Controversial Remarks On Constitution

केरल के मंत्री ने संविधान पर दिया बयान:साजी चेरियन बोले- ये 75 साल से जनता को लूट रहा, ट्रोल होने के बाद मांगी माफी

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केरल के CPI(M) नेता और सरकार में मंत्री साजी चेरियन ने संविधान की आलोचना करते हुए विवादित टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान देश के संसाधनों को लूटने के लिए बनाया गया है। ये बयान उन्होंने मंगलवार को एक कार्यक्रम में दिया। हालांकि चेरियन ने अपनी संविधान विरोधी टिप्पणी के लिए माफी मांगी और कहा कि उनके बयानों की गलत व्याख्या की गई है। वहीं विपक्ष ने CM पिनाराई विजयन से उन्हें बर्खास्त करने की मांग की है।

देश के लोगों को लूटने के लिए है संविधान- चेरियन
चेरियन ने कहा कि हम सभी कहते हैं कि हमारे पास एक सुंदर लिखित संविधान है। लेकिन, मैं कहूंगा कि संविधान इस तरह से लिखा गया है कि इसका इस्तेमाल देश के लोगों को लूटने के लिए किया जा सकता है। भारतीय संविधान श्रमिक वर्ग के लिए उचित नहीं है क्योंकि उनके लिए कोई सुरक्षा नहीं है।

आगे चेरियन ने कहा कि संविधान वह है जो अंग्रेजों ने तैयार किया और भारतीयों ने लिखा है। यह कुछ ऐसा है जो लूट की अनुमति देता है और श्रम के लिए कुछ भी नहीं। 75 साल से इस सिस्टम का गर्व से पालन किया जा रहा है।

केरल के राज्यपाल ने इस मामले में कहा कि सार्वजनिक पद पर बैठे लोगों का कर्तव्य है कि वे संविधान और कानून-व्यवस्था को बनाए रखे। CM को सूचित किया गया है, CM स्पष्टीकरण मांग चुके हैं। अभी मैंने कोई रिपोर्ट नहीं मांगी है, हम निगरानी रख रहे हैं।

भाजपा ने की बर्खास्त करने की मांग
भाजपा नेता केजे अल्फोंस ने चेरियन के असंवैधानिक बयानों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि केरल के कैबिनेट मंत्री के लिए संविधान के निर्वाचित प्रतिनिधि होने के खिलाफ टिप्पणी करना गलत था। चेरियन ने संविधान की रक्षा की शपथ ली है और अब वह इसका मजाक उड़ा रहे हैं। अल्फोंस ने कहा कि उन्हें CM पिनाराई विजयन को उन्हें तुरंत बर्खास्त कर देना चाहिए या राज्यपाल को मुख्यमंत्री को अपने मंत्री को बर्खास्त करने की सिफारिश करनी चाहिए।

अल्फोंस के अलावा, राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता वी डी सतीशन सहित कई लोगों ने भी चेरियन की विवादास्पद टिप्पणी के लिए आलोचना की। सतीशन ने कहा कि अगर विजयन कार्रवाई नहीं करते हैं, तो हम कानूनी सहारा लेंगे।

पार्टी ने किया बचाव
हालांकि चेरियन की वकालत करते हुए CPI(M) ने कहा कि चेरियन के बयान को गलत संदर्भ में लिया गया है। साथ ही कहा कि वह संविधान के सम्मान में कुछ कमियों की ओर इशारा कर रहे थे। चेरियन ने भी अपनी संविधान विरोधी टिप्पणी के लिए माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि मैं एक लोक सेवक हूं जो हमारे संविधान का सम्मान करता है और इसके महान मूल्यों को बनाए रखता है। मेरा कभी भी संविधान का अपमान करने या इसके खिलाफ कुछ भी कहने का इरादा नहीं था।

पार्टी की सफाई पर बोले वी मुरलीधरन

विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा कि जो पार्टी संविधान के बारे में जो सोचती है, यही उन्होंने बोला है।
विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा कि जो पार्टी संविधान के बारे में जो सोचती है, यही उन्होंने बोला है।

विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा यह जुबान की फिसलन नहीं है। पार्टी संविधान के बारे में जो सोचती है, यही उन्होंने बोला है। उन्होंने कहा चेरियन ने अपने भाषण में भारतीय संविधान का अपमान किया। यह उनका देश विरोधी बयान है। इससे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि वह अब सफाई दे रहे हैं। उन्हें संविधान के बारे में कुछ नहीं पता है।