पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Governments Hack Journalists And Human Rights Advocates; Indian Hacked Related Report, Private Israeli Firm, Hacking For Hire Firm, Indian Government, US Government

भारत में पत्रकारों की जासूसी:द वायर की रिपोर्ट में दावा- देश में इजराइली सॉफ्टवेयर के जरिए 40 जर्नलिस्ट के फोन हैक हुए, केंद्र सरकार ने किया इनकार

नई दिल्ली/वॉशिंगटन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत में मंत्रियों, विपक्ष के नेताओं, पत्रकारों, लीगल कम्युनिटी, कारोबारियों, सरकारी अफसरों, वैज्ञानिकों, एक्टिविस्ट समेत करीब 300 लोगों की जासूसी की गई है। द वायर की रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें से करीब 40 पत्रकार हैं। इन पर फोन के जरिए निगरानी रखी जा रही थी। वॉशिंगटन पोस्ट और द गार्जियन के अनुसार 3 प्रमुख विपक्षी नेताओं, 2 मंत्रियों और एक जज की भी जासूसी की पुष्ट हो चुकी है, हालांकि इनके नाम नहीं बताए हैं। इस जासूसी के लिए इजराइल के पेगासस स्पायवेयर का इस्तेमाल किया गया था।

पेगासस स्पायवेयर एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम है, जिसके जरिए किसी के फोन को हैक करके, उसके कैमरा, माइक, कंटेंट समेत सभी तरह की जानकारी हासिल की जा सकती है। इस सॉफ्टवेयर से फोन पर की गई बातचीत का ब्यौरा भी जाना जा सकता है।

इजराइल की कंपनी सरकारों को देती है पेगासस
पेगासस बनाने वाली कंपनी NSO ग्रुप का कहना है कि वह किसी निजी कंपनी को यह सॉफ्टवेयर नहीं बेचती है, बल्कि इसे केवल सरकारों को ही सप्लाई किया जाता है। ऐसे में सवाल खड़ा हो गया है कि क्या सरकार ने ही भारतीय पत्रकारों की जासूसी कराई?

भारत सरकार ने गैरकानूनी फोन हैकिंग से इनकार किया
द वायर की रिपोर्ट पब्लिश होने के तुरंत बाद केंद्र सरकार ने इस पर जवाब दिया कि उसकी ओर से देश में किसी का भी फोन गैरकानूनी रूप से हैक नहीं किया है। IT मिनिस्ट्री की तरफ से जारी चिट्ठी में कहा गया कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मसलों पर तयशुदा कानूनी प्रक्रिया का पालने करते हुए ही किसी का फोन टेप करने की इजाजत दी जा सकती है।

IT मिनिस्ट्री के लैटर में फोन टेपिंग को लेकर गाइडलाइन्स का जिक्र किया गया है।
IT मिनिस्ट्री के लैटर में फोन टेपिंग को लेकर गाइडलाइन्स का जिक्र किया गया है।

द वायर की रिपोर्ट- बड़े मीडिया संस्थान थे निशाने पर
द वायर समेत दुनियाभर के 16 मीडिया संस्थानों की रिपोर्ट कहती है कि पेगासस स्पायवेयर के जरिए इंडियन एक्सप्रेस, हिंदुस्तान टाइम्स, न्यूज 18, इंडिया टुडे, द हिंदू, द वायर और द पायनियर जैसे राष्ट्रीय मीडिया संस्थानों में काम करने वाले पत्रकारों को टारगेट किया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2017 से 2019 के बीच एक भारतीय एजेंसी ने 40 से ज्यादा भारतीय पत्रकारों की निगरानी की थी। इस सूची में नीचे लिखे नाम शामिल हैं..

पत्रकार का नामसंबंधित मीडिया ग्रुप
1शिशिर गुप्ताहिंदुस्तान टाइम्स
2रोहिणी सिंहद वायर
3सुशांत सिंहइंडियन एक्सप्रेस
4प्रशांत झाहिंदुस्तान टाइम्स
5औरंगजेब नक्शबंदीहिंदुस्तान टाइम्स
6ऋतिका चोपड़ाइंडियन एक्सप्रेस
7संदीप उन्नीथनइंडिया टुडे
8मनोज गुप्ताटीवी 18
9विजेता सिंहद हिंदू
10सिद्धार्थ वरदराजनद वायर
11एमके वेणुद वायर
12देवीरूपा मित्राद वायर
13प्रेमशंकर झास्वतंत्र पत्रकार
14स्वाति चतुर्वेदीद वायर
15विजेता सिंहद हिंदू
16जे. गोपीकृष्णनद पायनियर
17सैकत दत्तास्वतंत्र पत्रकार
18परंजॉय गुहा ठाकुरतान्यूजक्लिक वेबसाइट
19स्मिता शर्माद ट्रिब्यून
20सिद्धांत सिब्बलविऑन टीवी चैनल
21मनोरंजना गुप्ताफ्रंटियर टीवी
22संजय श्यामस्वतंत्र पत्रकार
23जसपाल सिंह हेरनस्वतंत्र पत्रकार
24रूपेश कुमार सिंहस्वतंत्र पत्रकार

पेगासस ने कहा- रिपोर्ट गलत अंदाजों से भरी हुई
सायबर इंटेलीजेंस कंपनी NSO ग्रुप ने फोन हैकिंग पर इस रिपोर्ट को गलत बताया है। NSO के बयान में कहा गया, 'रिपोर्ट गलत अनुमानों और अपुष्ट थ्योरी से भरी हुई है। यह रिपोर्ट ठोस तथ्यों पर आधारित नहीं है। रिपोर्ट में दिया गया ब्योरा हकीकत से परे है।'

पेगासस की तरफ से द वायर की रिपोर्ट को लेकर जारी बयान।
पेगासस की तरफ से द वायर की रिपोर्ट को लेकर जारी बयान।

पेगासस सॉफ्टवेयर ऐसे काम करता है
पेगासस के जरिए जिस व्यक्ति को टारगेट करना हो, उसके फोन पर एसएमएस, वॉट्सएप, आई मैसेज (आईफोन पर) या किसी अन्य माध्यम से एक लिंक भेजा जाता है। यह लिंक ऐसे संदेश के साथ भेजा जाता है कि टारगेट उस पर एक बार क्लिक करे। सिर्फ एक क्लिक से स्पाइवेयर फोन में एक्टिव हो जाता है। एक बार एक्टिव होने के बाद यह फोन के एसएमएस, ईमेल, वॉट्सएप चैट, कॉन्टैक्ट बुक, जीपीएस डेटा, फोटो व वीडियो लाइब्रेरी, कैलेंडर हर चीज में सेंध लगा लेता है।

क्रिमिनल हैकिंग का खतरा बढ़ा
ये रिपोर्ट उस वक्त सामने आई है, जब उन साइबर हथियारों को लेकर चिंता जाहिर की जा रही है जो कि पहले कुछ देशों तक ही सीमित थे। अब ये तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। असहमति जाहिर करने वालों और विरोधियों की इस तरह की जासूसी से क्रिमिनल हैकिंग का खतरा भी बढ़ता जा रहा है। इनमें वसूली के लिए की इस्तेमाल किए जाने वाले कैंपेन भी शामिल हैं, जिसने हाल ही में अमेरिका में ऑयल सप्लाई और मीट प्रोडक्शन को बाधित कर दिया था।

मिडिल ईस्ट और एशिया के देशों में फैला नेटवर्क
साइबर सिक्युरिटी रिसर्च ग्रुप सिटिजन लैब की रिपोर्ट के मुताबिक, इसकी संभावना है कि कैंडिरू ने मिडिल ईस्ट और एशिया के देशों को जासूसी के उपकरण बेचे हैं। सिटिजन लैब ने ऐसे लोगों की पहचान की है, जो कैंडिरू के सॉफ्टवेयर का शिकार हुए और इसी आधार पर माइक्रोसॉफ्ट ने अपनी रिपोर्ट भी बनाई है। सरकारों ने इन उपकरणों का इस्तेमाल स्वतंत्र रूप से जासूसी के लिए किया।

कंपनियां साइबर वेपन बना रहीं

  • माइक्रोसॉफ्ट की डिजिटल सिक्युरिटी यूनिट के जनरल मैनेजर क्रिश्चियन गुडविन ने कहा कि प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां साइबर वेपन बना रही हैं और उन्हें बेच रही हैं, ये उपभोक्ताओं, व्यापार और हर तरह की सरकार के लिए खतरनाक है।
  • रिसर्च में कहा गया है कि कैंडिरू ने सरकारों को अपने टूल्स इस्तेमाल करने के लिए दिए और सरकारें इनका इस्तेमाल नागरिकों और देश की सीमाओं से बाहर रह रहे आलोचकों को चुप करने के लिए कर रही हैं। इन टूल्स का इस्तेमाल फिलिस्तीन, ईरान, लेबनान, यमन, स्पेन, ब्रिटेन, तुर्की, अरमेनिया और सिंगापुर में किया गया।

रैनसमवेयर पर बाइडेन ने पुतिन को दी थी चेतावनी
इस तरह के रैनसमवेयर को लेकर हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को चेतावनी भी दी थी। उन्होंने कहा था कि वो अपने देश में बैठे क्रिमिनल ग्रुपों की पहचान करें, वरना नतीजे भुगतने होंगे। हालांकि, जासूसी उपकरणों की इंडस्ट्री को लेकर अमेरिका उतना ज्यादा आक्रामक नहीं दिखाई देता।

खबरें और भी हैं...