कोलकाता मेट्रो / ट्रेन में चढ़ते वक्त यात्री का हाथ दरवाजे में फंसा, ट्रैक पर गिरने से मौत



कोलकाता मेट्रो का प्रतीकात्मक फोटो कोलकाता मेट्रो का प्रतीकात्मक फोटो
X
कोलकाता मेट्रो का प्रतीकात्मक फोटोकोलकाता मेट्रो का प्रतीकात्मक फोटो

  • घटना शनिवार शाम को राजधानी के पार्क स्ट्रीट मेट्रो स्टेशन पर हुई
  • मेयर ने कहा- घटना में लापरवाही सामने आई तो दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा
  • कोलकाता में मेट्रो की शुरुआत 1995 में हुई, यह देश की पहली अंडरग्राउंड ट्रेन
     

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 09:55 PM IST

कोलकाता. पश्चिम बंगाल के कोलकाता में मेट्रो ट्रेन में लापरवाही की वजह से एक यात्री की जान चली गई। घटना शनिवार शाम को राजधानी के पार्क स्ट्रीट मेट्रो स्टेशन पर हुई। यहां 40 साल का युवक ट्रेन में चढ़ने की कोशिश कर रहा था, तभी उसका हाथ गेट में फंस गया। ट्रेन आगे बढ़ी तो घिसटता हुआ प्लेटफॉर्म से नीचे ट्रैक पर गिरा और उसकी मौत हो गई।

 

कोलकाता मेट्रो के सभी गेट ऑटोमैटिक हैं और सेंसर से लैस हैं। बताया जा रहा है कि इनका ठीक तरह मेंटेनेंस नहीं होने से हादसा हुआ। अधिकारियों के मुताबिक, मारे गए युवक का नाम सुजल कुमार कांजीलाल है। घटना के बाद पुलिस उसे फौरन अस्पताल ले गई, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका।

 

शहर के मेयर फिरहाद हकीम ने घटनास्थल का दौरा किया। उन्होंने कहा कि मेट्रो अथॉरिटी ने जांच का जिम्मा कोलकाता मेट्रो के जनरल मैनेजर को सौंपा है। लापरवाह अफसरों को बख्शा नहीं जाएगा।

 

1995 में शुरू हुई थी कोलकाता मेट्रो
कोलकाता में मेट्रो का नेटवर्क नोआपारा से कवि सुभाष के बीच 27 किलोमीटर से ज्यादा दूरी तक फैला है। इसके 24 स्टेशन हैं। यह मेट्रो लाइन शहर के उत्तर और दक्षिण इलाके को जोड़ती है। मेट्रो की पांच अन्य लाइनों पर निर्माण कार्य चल रहा है। कोलकाता में मेट्रो की शुरुआत फरवरी 1995 में हुई थी और यह देश की पहली अंडरग्राउंड ट्रेन है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना