• Hindi News
  • National
  • Lance Naik Nazir Wani To Get Ashok Chakra Posthumously For Kashmir Opration

आतंकियों का साथ छोड़कर सेना में आए शहीद लांस नायक को मिलेगा अशोक चक्र

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अशोक चक्र शांतिकाल में दिया जाने वाला सर्वोच्च सैन्य वीरता पुरस्कार
  • इस साल वीर सैनिकों को 5 कीर्ति और 12 शौर्य तक्र भी दिए जाएंगे
  • शहीद नजीर वानी 34 राष्ट्रीय राइफल्स में लांस नायक थे

नई दिल्ली. कश्मीर में आतंकियों का साथ छोड़कर सेना में शामिल हुए लांस नायक नजीर अहमद वानी को मरणोपरांत अशोक चक्र से नवाजा जाएगा। यह सम्मान गणतंत्र दिवस समारोह में उनके परिजनों को दिया जाएगा। पिछले साल नवंबर में शोपियां में मुठभेड़ के दौरान नजीर शहीद हो गए थे। इस ऑपरेशन में छह आतंकी मारे गए थे।

1) नजीर आत्मसमर्पण कर सेना में शामिल हुए थे

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, कुलगाम के चेकी अश्मुजी गांव में रहने वाले नजीर वानी कभी आतंकियों के साथ थे, लेकिन उन्होंने रास्ता बदला और 2004 में टेरिटोरियल आर्मी की 162वीं बटालियन में शामिल हो गए। शहादत के वक्त वे 34 राष्ट्रीय राइफल्स में थे।

शहीद वानी के परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। उन्होंने आतंकियों के खिलाफ कई ऑपरेशन में हिस्सा लिया। वीरता के लिए उन्हें 2007 और 2018 में सेना मेडल से भी नवाजा गया था। शहादत के बाद सेना के प्रवक्ता ने उन्हें सच्चा सैनिक बताया था।

केंद्र सरकार की ओर से हर साल वीर सैनिकों को सम्मानित किया जाता है। इस साल गणतंत्र दिवस के मौके पर शहीद वानी के अलावा चार अफसरों और एक सैनिक को कीर्ति चक्र, वहीं 12 सैनिकों को शौर्य चक्र से नावाजा जाएगा।

लांस नाइक वानी की पत्नी महजबीन ने न्यूज एजेंसी को बताया कि उन्हें दो दिन पहले तक नहीं पता था कि अशोक चक्र जैसा कोई पुरस्कार मौजूद है। हालांकि, उन्होंने पति को अवॉर्ड दिए जाने के ऐलान पर खुशी जताई। महजबीन अपने दो बच्चों के साथ कुलगाम जिले के चेकी अश्मुजी इलाके में रहती हैं। 26 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उन्हें वानी का अशोक चक्र देंगे। 

खबरें और भी हैं...