जम्मू-कश्मीर / बिजबेहरा में सुरक्षाबलों ने लश्कर कमांडर समेत 2 आतंकी मारे, 3 दिन में दूसरी बड़ी मुठभेड़

सुरक्षाबलों को बिजबेहरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। (फाइल) सुरक्षाबलों को बिजबेहरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। (फाइल)
X
सुरक्षाबलों को बिजबेहरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। (फाइल)सुरक्षाबलों को बिजबेहरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। (फाइल)

  • सुरक्षाबलों ने 20 जनवरी से अब तक कश्मीर में 14 आतंकियों का सफाया किया
  • अवंतिपोरा इलाके में 19 फरवरी को गजवत-उल-हिंद के 3 दहशतगर्द मारे गए थे

दैनिक भास्कर

Feb 22, 2020, 10:29 AM IST

श्रीनगर. दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में शुक्रवार देर रात सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। शनिवार तड़के मारे गए दोनों आतंकियों के शव और भारी मात्रा में हथियार, गोला-बारूद बरामद हुआ। पुलिस के मुताबिक, आतंकी लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े थे। सूत्रों ने बताया कि किसी तरह के प्रदर्शन को रोकने के लिए आसपास के इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षाबल तैनात कर दिया गया है। इससे पहले 19 फरवरी को पुलवामा जिले के अवंतिपोरा में 3 आतंकी मारे गए थे।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पुलिस को संगम बिजबेहरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की खुफिया सूचना मिली थी। इसके बाद सेना, सीआरपीएफ और पुलिस के जवानों ने रात को तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान खुद को घिरता देख आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई में उन्हें ढेर कर दिया। एक सैन्य अधिकारी ने बताया कि मारे गए आतंकी नवीद भट उर्फ फुरकान और अकीब यासीन भट कौमोर (कश्मीर) के रहने वाले थे। फुरकान लश्कर का शीर्ष कमांडर था।

अवंतिपोरा में गजवत के 3 आतंकी ढेर हुए थे

कश्मीर में इस हफ्ते सुरक्षाबलों को दूसरी बड़ी कामयाबी मिली है। इससे पहले 19 फरवरी को पुलवामा जिले के अवंतिपोरा में 3 आतंकी मारे गए थे। वे अंसार गजवत-उल-हिंद संगठन से जुड़े थे। इनमें शामिल जहांगीर रफी वानी पहले त्राल में हिजबुल मुजाहिदीन का सेकंड कमांड था। वह इसी साल जनवरी में गजवत हिंद में आया था। ये आतंकी लंबे वक्त से लोगों को मारने और धमकाने की घटनाओं में शामिल थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना