• Hindi News
  • National
  • Madhya Pradesh 2 Kidnapped Children Killed By Kidnappers News And Updates

सतना से 11 दिन पहले अगवा हुए 2 जुड़वां बच्चों की 20 लाख रु. फिरौती लेने के बाद हत्या

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 12 फरवरी को बदमाशों ने 5 साल के शिवम और देवांग को बस से अगवा किया था, सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई थी घटना
  • बच्चों को बाइक पर बैठाकर फरार हो गए थे बदमाश

सतना. मध्यप्रदेश में सतना जिले के चित्रकूट से 12 फरवरी को अगवा किए गए जुड़वां भाइयों श्रेयांश और प्रियांश की हत्या कर दी गई। हाथ-पैर बंधे दोनों बच्चों के शव उत्तरप्रदेश के बांदा में यमुना नदी से शनिवार देर रात बरामद किए गए। पुलिस के मुताबिक, अपहरणकर्ताओं ने दो करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी। परिजन ने 20 लाख रुपए दे भी दिए थे। छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामला दो राज्यों से जुड़ा होने की वजह से राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप भी शुरू हो गए हैं। 

 

बच्चों का हत्या की खबर के बाद चित्रकूट में तनाव का माहौल है। उग्र लोगों ने कई जगहों पर तोड़फोड़ और उपद्रव किया।

 

स्कूल परिसर से किए गए अगवा

मृत बच्चों की उम्र छह साल थी। उनका घर उत्तरप्रदेश के चित्रकूट धाम (कर्वी) के रामघाट में था। बच्चों के पिता बृजेश रावत तेल व्यवसायी हैं। दोनों बच्चे चित्रकूट (मप्र) के सद्गुरु पब्लिक स्कूल में पढ़ते थे। वे 12 फरवरी को दोपहर करीब एक बजे स्कूल की छुट्टी के बाद बस से घर लौट रहे थे। स्कूल परिसर में ही बाइक से आए दो नकाबपोश युवकों ने पिस्तौल दिखाकर बस को रोका और बच्चों को अगवा कर लिया था। यह वारदात सीसीटीवी में भी कैद हुई थी।


मास्टरमाइंड समेत 6 गिरफ्तार

रीवा जोन के आईजी चंचल शेखर ने बताया कि बच्चों के अपहरण और हत्या के मुख्य आरोपी पद्म शुक्ला सहित छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पद्म, बजरंगदल के संयोजक विष्णुकांत शुक्ला का भाई है। हालांकि, अब तक की जांच में इस मामले में विष्णु की कोई भूमिका सामने नहीं आई है। आरोपियों ने अपराध में बाइक और कार का इस्तेमाल किया था। बाइक की नंबर प्लेट पर रामराज्य लिखा हुआ था और कार पर भाजपा का झंडा लगा हुआ था। 

 

आरोपी ने बच्चों की पिता से एक बार करवाई थी बात

चंचल शेखर ने बताया कि आरोपियों ने एक बार इंटरनेट कॉलिंग के जरिए बच्चों की पिता से बात करवाई थी। अपहरण के दो दिन बाद ही आरोपियों ने राह चलते लोगों से फोन मांगकर बच्चों के पिता को फोन किया और उनसे दो करोड़ रुपए फिरौती की रकम मांगी थी। 19 फरवरी को बच्चों के परिजनों ने 20 लाख रुपए दिए। 21 फरवरी को बच्चों की हत्या कर दी गई।

 

चित्रकूट में धारा 144 लागू, पुलिस के 1500 जवान तैनात
घटना से आक्रोशित लोग सड़कों पर उतर आए हैं। यहां धारा 144 लगा दी गई है। जानकी कुंड इलाके में लोगों ने जाम लगाकर पुलिस और सद्गुरु सेवा ट्रस्ट के खिलाफ नारेबाजी की। पूरे इलाके में दो से तीन हजार की संख्या में लोग जुटे हैं। कुछ जगहों पर नाराज लोगों ने तोड़फोड़ भी की। पूरा बाजार बंद है, वहीं यात्री बसें और ऑटो को रोक जा रहा है। उग्र भीड़ को नियंत्रण करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी दागे।

 

कमलनाथ ने बच्चों के पिता से की बात

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मृतक बच्चों के पिता से फोन पर बात की। सीएम ने परिजनों को भरोसा दिलाया है कि सरकार उनके साथ है। मध्यप्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा भाेपाल में कहा कि बच्चों की तलाश में उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश पुलिस का संयुक्त अभियान चल रहा था। अपराध उत्तरप्रदेश में हुआ है। यह वहां की भाजपा सरकार की नाकामी है। छह लोग गिरफ्तार किए गए हैं। मामला फास्टट्रैक कोर्ट में चलाया जाएगा। उत्तरप्रदेश सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए।

 

सीसीटीवी में कैद हुए थे घटना के फुटेज

दोनों बच्चे चित्रकूट (मप्र) के सद्गुरु पब्लिक स्कूल में पढ़ते थे। वे 12 फरवरी को दोपहर करीब एक बजे स्कूल की छुट्टी के बाद बस से घर लौट रहे थे। स्कूल परिसर में ही बाइक से आए दो नकाबपोश युवकों ने पिस्तौल दिखाकर बस को रोका और बच्चों को अगवा कर लिया था। यह वारदात सीसीटीवी में भी कैद हुई थी।

खबरें और भी हैं...