• Hindi News
  • National
  • Uddhav Thackeray Eknath Shinde Devendra Fadnavis | Maharashtra Political Crisis LIVE Updates; Shiv Sena MLA Y+ Security

महाराष्ट्र की लड़ाई:आदित्य ठाकरे बोले- हम शरीफ क्या हुए, दुनिया बदमाश हो गई; शिंदे ने राज ठाकरे को फोन कर तबीयत का हाल जाना

नई दिल्ली2 महीने पहलेलेखक: गुवाहाटी से मनीषा भल्ला और मुंबई से आशीष राय

महाराष्ट्र का सियासी घमासान अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। 16 बागी विधायकों ने डिप्टी स्पीकर के नोटिस को शीर्ष अदालत में चुनौती दी है। सुप्रीम कोर्ट सोमवार को इस पर सुनवाई करेगा​​​​​​। शनिवार को डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल ने 16 विधायकों को सदस्यता रद्द करने का नोटिस भेजा था।

वहीं,आदित्य ठाकरे ने बताया कि एकनाथ शिंदे को 20 मई को ही मुख्यमंत्री बनने का ऑफर उद्धव जी की ओर से दिया गया था, लेकिन फिर भी उन्होंने बगावत की। बोले- हम शरीफ क्या हुए, दुनिया बदमाश हो गई... बाला साहेब होते तो जवाब देते।

उधर, एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे से फोन पर बातचीत की। उन्होंने राज से उनकी तबीयत का हाल जाना। साथ ही वर्तमान राजनीतिक हालात पर भी बात की। शिंदे ने एक ट्वीट कर कहा कि बाला साहेब ठाकरे के हिंदुत्व और बाला साहेब की शिवसेना के लिए हमें मरना भी पड़े तो उसे हम अपना भाग्य समझेंगे।

सियासी संकट के 3 बड़े अपडेट्स...

  • शिवसेना के मंत्री उदय सावंत गुवाहाटी पहुंच गए। सुबह से उनका मोबाइल फोन बंद था। सावंत उद्धव के करीबी हैं।
  • शिवसेना में उठे विद्रोह को रोकने के लिए उद्धव की पत्नी रश्मि ठाकरे ने भी मोर्चा थाम लिया है। सूत्रों के मुताबिक रश्मि ने बागी विधायकों की पत्नियों को मैसेज भेजा है और कहा है कि अपने पति को मनाएं।
  • राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने महाराष्ट्र के डीजीपी,मुंबई पुलिस कमिश्नर और केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला को चिट्ठी लिखकर बागी शिवसेना विधायकों को उचित सुरक्षा मुहैया कराने की मांगी की है। केंद्र सरकार ने 15 बागी विधायकों को Y प्लस सुरक्षा दी है। विधायकों के घरों और दफ्तरों पर शिव सैनिकों के हमलों के बाद यह फैसला लिया गया है।

राउत बोले- मन से जिंदा नहीं हैं बागी विधायक
इस बीच, शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि गुवाहाटी में बैठे 40 बागी विधायक जिंदा लाश की तरह हैं। वे वहां छटपटा रहे हैं। ये 40 लोग जब मुंबई आएंगे तब वे मन से जिंदा नहीं होंगे, उनकी आत्मा वहीं रह जाएगी।

शिंदे के पोस्टर से 10 दिन में बाल ठाकरे गायब
एकनाथ शिंदे के पोस्टर से 10 दिन के भीतर बाल ठाकरे गायब हो गए हैं। 16 जून को सोशल मीडिया पर शिंदे ने एक पोस्टर शेयर किया था, जिसमें बाल ठाकरे, उद्धव और आदित्य नजर आ रहे हैं। वहीं रविवार को शिंदे ने जो पोस्टर शेयर किया है, उसमें उद्धव और आदित्य के साथ बाल ठाकरे भी गायब हैं।

बागी नेता एकनाथ शिंदे ने एक वीडियो ट्वीट किया है। इसमें बागी विधायक भरतशेट गोगावले कह रहे हैं कि सीएम उद्धव ठाकरे ने 2.5 साल में शिवसेना के उन विधायकों के साथ कोई बैठक नहीं की जो 2019 का चुनाव हार गए थे। इसके उलट उप मुख्यमंत्री ने उन ‌एनसीपी उम्मीदवारों को फंड दिया जो 2019 में विधानसभा चुनाव हार गए थे।

शिंदे गुट फ्लोर टेस्ट का सामना करने को तैयार
एकनाथ शिंदे खेमे के विधायक दीपक केसरकर ने कहा कि किसी भी समय महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का सामना करने के लिए तैयार हैं, लेकिन पहले एकनाथ शिंदे समूह को मान्यता दी जानी चाहिए। हम महा विकास अघाड़ी सरकार के साथ नहीं जाएंगे। एक से दो विधायक और आएंगे और हमारे साथ जुड़ेंगे। उनके समर्थन और अन्य निर्दलीय उम्मीदवारों के साथ हमारी संख्या 51 हो जाएगी। हम 3-4 दिनों में किसी निर्णय पर पहुंचेंगे जिसके बाद हम सीधे महाराष्ट्र वापस जाएंगे

16 जून को शिंदे ने जो पोस्टर जारी किया था उसमें बाल ठाकरे भी थे, लेकिन 26 जून के पोस्टर से बाल ठाकरे गायब दिखे।
16 जून को शिंदे ने जो पोस्टर जारी किया था उसमें बाल ठाकरे भी थे, लेकिन 26 जून के पोस्टर से बाल ठाकरे गायब दिखे।

पवार के घर भी कानूनी मसलों पर राय मशविरा

इधर, शरद पवार के घर पर भी कानूनी मसलों को लेकर राय-मशविरा जारी है। सूत्रों के मुताबिक मीटिंग में इस बात पर डिस्कस किया जा रहा है कि डिप्टी स्पीकर के पास क्या विकल्प है?

सियासी संकट के बीच 3 बड़े बयान...

1. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी- मुझे आज अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। मैं बिल्कुल ठीक हूं। हालांकि, मुझे कुछ दिनों के लिए आराम करने की सलाह दी गई है।

2. NCP चीफ शरद पवार - मुझे उद्धव पर भरोसा है। विधायक गुवाहाटी से आए तो गठबंधन को सपोर्ट करेंगे। संजय राउत का शव वाला बयान सही नहीं है।

3. शिवसेना सांसद संजय राउत- महाराष्ट्र को तीन टुकड़े करने की साजिश रची जा रही है। शिवसेना को भी तोड़ने की कोशिश है, मगर कामयाबी नहीं मिलेगी।

अब 5 पॉइंट्स में जानिए 5 दिन का घटनाक्रम

  • पहले दिन करीब 30 विधायक एकनाथ शिंदे के साथ सूरत के होटल में पहुंचे। इन विधायकों को ली मेरेडियन होटल में रखा गया। कांग्रेस ने कमलनाथ को मुंबई भेजा।
  • दूसरे दिन सूरत से करीब 40 विधायकों को गुवाहाटी ले जाया गया। मुख्यमंत्री उद्धव ने बागी एकनाथ शिंदे से फोन पर बात की। बागियों को समझौते का प्रस्ताव दिया गया
  • तीसरे दिन एकनाथ शिंदे ने 34 विधायकों की सूची जारी की। शिवसेना ने 12 विधायकों को अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर से शिकायत की। शरद पवार संजय राउत से मिले।
  • चौथे दिन शिवसेना हिंसा पर उतर आई। शिवसैनिकों ने कुर्ला में बागी विधायक के घर पर तोड़फोड़ की। हिंसा को देखते हुए महाराष्ट्र में हाईअलर्ट जारी किया गया।
  • पांचवे दिन शिवसैनिकों ने शिंदे के सांसद बेटे श्रीकांत के दफ्तर पर तोड़फोड़ की। वहीं शिवसेना की हाईलेवल मीटिंग में बागियों पर कार्रवाई का अधिकार उद्धव को दिया गया। डिप्टी स्पीकर ने 16 विधायकों को नोटिस भी थमाया
महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी 5 दिन बाद रविवार को अस्पताल से राजभवन लौटे हैं। वे कोरोना से संक्रमित थे।
महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी 5 दिन बाद रविवार को अस्पताल से राजभवन लौटे हैं। वे कोरोना से संक्रमित थे।

शिंदे-फडणवीस मुलाकात पर भाजपा अध्यक्ष का बयान आया
वडोदरा में एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस के मुलाकात पर भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील का बयान सामने आया है। पाटील ने कहा कि मुझे कुछ भी नहीं पता है। पार्टी महाराष्ट्र संकट पर नजर बनाए हुई है। यह शिवसेना का इंटरनल मामला है।

सामना में राउत ने लिखा- भाजपा ने शिंदे के साथ धोखा किया
शिवसेना के मुखपत्र में संजय राउत ने लिखा- 2019 में उद्धव ठाकरे ने शिंदे को सीएम बनाने का वचन दिया था, लेकिन भाजपा ने ढाई साल वाला करार तोड़ दिया, जिस वजह से शिंदे मुख्यमंत्री नहीं बन पाए। राउत ने आगे लिखा- हॉर्स ट्रेडिंग का गंदा खेल खेला जा रहा है। अगर भाजपा में इसमें शामिल होती है, तो महाराष्ट्र की जनता माफ नहीं करेगी।