• Hindi News
  • National
  • Uddhav Thackeray Eknath Shinde; Maharashtra Shiv Sena MLA LIVE Updates | Amit Shah, Devendra Fadnavis, Sanjay Raut, Sharad Pawar Maharashtra Political Crisis News

सरकार और सेना दोनों के एकनाथ:शिंदे बागियों से BJP का नाम लिए बगैर बोले- महाशक्ति हमारे साथ; कुछ और MLA गुवाहाटी पहुंचे

7 दिन पहलेलेखक: गुवाहाटी से मनीषा भल्ला और मुंबई से आशीष राय

महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना के बागी विधायकों के नेता एकनाथ शिंदे का एक वीडियो सामने आया है। इसमें शिंदे तमाम विधायकों के साथ बातचीत कर रहे हैं। यहां शिंदे ने विधायकों से कहा कि हमारे हर निर्णय के साथ एक महाशक्ति, राष्ट्रीय दल खड़ा है। एकनाथ का इशारा भाजपा की ओर था।

इधर, रात करीब साढ़े 9 बजे गुवाहाटी के रेडिसन होटल में 7 लोग और पहुंचे हैं। इनमें दो एमएलए और 1 एमएलसी हैं। बाकी इनमें स्टाफ हैं। बताया जा रहा है कि बागी विधायकों की संख्या और बढ़ सकती है।

वहीं, शिवसेना के नवनियुक्त विधायक दल के नेता अजय चौधरी ने महाराष्ट्र विधानसभा के उपाध्यक्ष को पत्र लिखकर उन विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है जो बुधवार को हुई विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए थे।

एकनाथ शिंदे के साथ महाराष्ट्र शिवसेना विधायक दादाजी भुसे, विधायक संजय राठौड़ और एमएलसी रवींद्र फाटक के साथ गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में।
एकनाथ शिंदे के साथ महाराष्ट्र शिवसेना विधायक दादाजी भुसे, विधायक संजय राठौड़ और एमएलसी रवींद्र फाटक के साथ गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में।

उद्धव ने पार्टी के मुंबई विभाग प्रमुखों के साथ मीटिंग की
एक दिन पहले सरकारी आवास वर्षा छोड़कर मातोश्री पहुंचे उद्धव ठाकरे ने गुरुवार देर शाम शिवसेना के मुंबई विभाग प्रमुखों के साथ बैठक की। ठाकरे ने पदाधिकारियों से कहा कि वे बीएमसी चुनाव की तैयारियां शुरू करें। सारा फोकस बीएमसी चुनाव पर ही होना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने पार्टी संगठन को भी मजबूत करने पर जोर दिया।

आज के 3 बड़े बयान...

1.एकनाथ शिंदे ने बागी विधायकों से कहा- जो कुछ भी सुख-दुख है, वह हम सभी का एक है। चाहे जो कुछ हो जाए, हम सब एकजुट हैं और वह भी हमारे अपने ही हैं। वे नेशनल पार्टी हैं। वे महाशक्ति हैं। जिन्होंने पूरे पाकिस्तान यानी आप समझ रहे हैं, वहां कौन है। उन्होंने मुझसे कहा है कि तुमने यह जो निर्णय लिया है, वह बहुत ही ऐतिहासिक है। तुम्हारे पीछे हमारी पूरी शक्ति है। यदि कहीं कुछ भी कमी महसूस हुई तो हम वह महसूस नहीं होने देंगे। इस बात का आश्वासन उन्होंने मुझे दिया है।

2. शरद पवार ने कहा- सरकार बचाने के लिए हर कोशिश करेंगे। बागियों को बड़ी कीमत चुकानी होगी। सरकार बहुमत में है, ये बात तो विधानसभा में तय होगी। उद्धव ठाकरेजी ने कहा है कि मुंबई आकर बात करें बागी। वो मुंबई आएंगे तो सब साफ होगा। हम सरकार बचाने के लिए हर कोशिश करेंगे। अगर वे हमसे भी कहते कि गठबंधन से अलग होना है तो हम अलग भी हो सकते थे।

3.संजय राउत बोले- विचार-विमर्श से रास्ता निकल सकता है। चर्चा हो सकती है। घर के दरवाजे खुले हैं। जंगल में क्यों भटकना है? आइए गुलामी के बजाय स्वाभिमान से फैसला करें।

भाजपा भी सरकार बनाने की तैयारी में
सूत्रों के मुताबिक सरकार गठन और आगे की प्रक्रिया को लेकर महाराष्ट्र भाजपा में भी बैठक शुरू हो गई है। भाजपा ने शिंदे को महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में 8 कैबिनेट रैंक और 5 राज्य मंत्री रैंक का ऑफर दिया है। साथ ही केंद्र में भी 2 मंत्री पद देने की पेशकश की है।

सियासी घमासान के 5 बड़े अपडेट्स...

1. फडणवीस भाजपा नेताओं के साथ बैठक के बाद दिल्ली रवाना हुए।

2. उद्धव ठाकरे ने आज शाम मातोश्री पर बैठक बुलाई। इसमें जिला स्तर के शिवसेना नेता शामिल होंगे।

3. ठाकरे गुट के 3 और MLA शिंदे गुट से जुड़े, इनमें रविन्द्र फाटक, दादाजी भउसे और संजय राठौड़ शामिल हैं। पहले ये जानकारी सामने आ रही थी कि ये तीनों बागी विधायकों को समझाने गए थे।

4. मेघालय के मुख्यमंत्री कोनार्ड संगमा गुवाहाटी में शिवसेना के बागी विधायकों से मिलने होटल में पहुंचे हैं।

5. सूत्रों के मुताबिक शिवसेना के विधायकों को गोवा ले जाया जा सकता है, जिसके बाद वहां से परेड कराने के लिए मुंबई राजभवन लाया जाएगा।

उद्धव को शिंदे खेमे की ओर से लिखी गई चिट्ठी
इससे पहले,​​​ बागी नेता एकनाथ शिंदे ने एक चिट्ठी शेयर की है। चिट्ठी संजय शिरसाट ने लिखी है, मगर इसमें सभी विधायकों की भावनाएं बताईं गई है। चिट्ठी में लिखा है- शिवसेना विधायकों के लिए आपका दरवाजा हमेशा बंद रहता था। आप इन विधायकों की सुनते नहीं थे। वहीं शिंदे हमेशा विधायकों की सुनते थे और आगे भी सुनेंगे।

पूरी चिट्‌ठी यहां पढ़ें...
कल वर्षा बंगले के दरवाजे सचमुच जनता के लिए खोल दिए गए। बंगले पर भीड़ देखकर खुशी हुई। पिछले ढाई साल से शिवसेना विधायक के तौर पर हमारे लिए ये दरवाजे बंद थे। हमें ऐसे लोग चला रहे थे, जिन्हें लोगों ने नहीं चुना था। ये लोग विधान परिषद और राज्यसभा के माध्यम से आए थे।

तथाकथित (चाणक्य लिपिक) बडवे हमें हराने और राज्यसभा और विधान परिषद चुनाव की रणनीति तय करने का काम कर रहे थे। इसका परिणाम सिर्फ महाराष्ट्र ने देखा है। शिवसेना विधायक के रूप में हमें वर्षा बंगले तक सीधी पहुंच नहीं मिली। मुख्यमंत्री मंत्रालय की छठी मंजिल पर सभी से मिलते हैं, लेकिन हमारे लिए कोई जगह ही नहीं थी, क्योंकि आप कभी मंत्रालय ही नहीं गए। कई बार निर्वाचन क्षेत्र के काम, अन्य मुद्दों, व्यक्तिगत समस्याओं के लिए सीएम साहब से मिलने का अनुरोध करने के बाद हमें बुलाया जाता और बंगले के गेट पर घंटों खड़ा रखा जाता। मैंने कई बार सीएम को फोन किया पर फोन रिसीव नहीं होता था। आखिरकार हम ऊब जाते और चले जाते। हमारा सवाल यह है कि अपने ही विधायकों के साथ ऐसा अपमानजनक व्यवहार क्यों? ऐसे विधायकों से इस तरह का व्यवहार जिन्हें तीन-चार लाख मतदाता चुनते हैं?

भास्कर कार्टूनिस्ट की नजर से देखिए महाराष्ट्र का सियासी संकट...

गुवाहाटी होटल के बाहर TMC कार्यकर्ताओं का हंगामा
महाराष्ट्र के सियासी घमासान में ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस की एंट्री हो गई है। 41 शिवसेना और 9 निर्दलीय विधायकों के साथ एकनाथ शिंदे जिस होटल में ठहरे हैं, उसके बाहर TMC कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। इनका कहना था कि विधायकों की खरीद-फरोख्त की जा रही है। इसे रोका जाए। पुलिस ने इन्हें हिरासत में ले लिया है।

गुवाहाटी: 12 घंटे में 7 विधायक एकनाथ के पास पहुंचे
पिछले 12 घंटे में शिवसेना के पांच और दो निर्दलीय विधायक महाराष्ट्र से गुवाहाटी पहुंचे। इनमें गुलाबराव पाटील, योगेश कदम, सदा सर्वंकर, योगेश पवार और मंगेश कुलांकर शामिल हैं। बाकी दो विधायक मंजुला गावित और चंद्रकांत पाटिल निर्दलीय हैं। सदा, योगेश और मंगेश गुरुवार सुबह गुवाहाटी की रेडिसन ब्लू होटल पहुंचे।

महाराष्ट्र: मातोश्री में उद्धव की बैठक, फडणवीस के पोस्टर लगे
सियासी संकट के बीच उद्धव ठाकरे ने मातोश्री में पार्टी के दिग्गज नेताओं की बैठक बुलाई है। बैठक में इस्तीफा देने पर फैसला किया जा सकता है। इधर, महाराष्ट्र के कई जगहों पर भाजपा के देवेंद्र फडणवीस को सीएम की शुभकामनाएं देते हुए पोस्टर लगाया गया है।

उद्धव के पास अब विकल्प क्या है?
उद्धव के पास अब 2 विकल्प बचे हैं। पहला, शरद पवार की बात मान कर एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाने का ऑफर दें। हालांकि, शिंदे ने महाविकास अघाड़ी के साथ सरकार में रहने से इनकार कर दिया है। दूसरा, फ्लोर टेस्ट का है। संजय राउत फ्लोर टेस्ट की बात कह चुके हैं।

(एकनाथ के साथ 49 विधायक, अब आगे क्या... संभावित सिनेरियो जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें)

सियासी संकट के दूसरे दिन क्या-क्या हुआ?
सियासी उठापटक के बीच उद्धव ने मुख्यमंत्री आवास छोड़ दिया। उद्धव ने फेसबुक लाइव कर कहा- शिंदे मेरे से बात करें, मैं सीएम कुर्सी के साथ ही शिवसेना अध्यक्ष का पद भी छोड़ दूंगा। वहीं शरद पवार ने उद्धव को सलाह दिया कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को ही बना दो, पार्टी टूट से बच जाएगी। इधर, गुवाहाटी में बैठे शिंदे ने शिवसेना के चीफ व्हिप सुनील प्रभु को हटा दिया।

सियासी संकट के पहले दिन क्या-क्या हुआ?
शिवसेना के करीब 14 विधायक एकनाथ शिंदे के साथ सूरत पहुंच गए। यहां सभी विधायक होटल ली मैरेडियन में रुके। विधायकों के बगावत को देखते हुए उद्धव ठाकरे ने दो दूत को समझौते के लिए भेजा। वहीं शरद पवार ने कहा कि शिवसेना का यह इंटरनल मैटर है। एक विधायक नितिन देशमुख की पत्नी ने अकोला थाने में पति के गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई।