पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Mamata Banerjee | West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee On PM Narendra Modi Jammu And Kashmir Leaders Meeting

2024 के लिए ममता का पहला बड़ा संकेत:कश्मीर पर बैठक शुरू होते ही PM मोदी पर किया हमला, कहा - अनुच्छेद 370 हटाने से देश की बदनामी हुई

कोलकाताएक महीने पहले

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा को राज्य की सत्ता से दूर रखने में कामयाब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अब 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई हैं। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों पर लगातार हमलावर हैं।

गुरुवार को प्रधानमंत्री की कश्मीरी नेताओं के साथ मीटिंग पर ममता ने कहा कि कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाया जाना, कश्मीरियों की आजादी छीनना है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से वैक्सीन के लिए देश की बदनामी हुई, उसी तरह आर्टिकल-370 हटाने पर भी देश की बदनामी हुई है।

राजनीतिक पंडितों का कहना है कि एक तरफ ममता जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों पर लगातार हमले कर रही हैं। वहीं विधानसभा चुनाव में उनके चुनावी रणनीतिकार रहे प्रशांत किशोर और TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा तीसरे मोर्चे को मजबूत करने की प्रक्रिया में जुट गए हैं।

प्रशांत किशोर पिछले 10 दिनों में एनसीपी प्रमुख शरद पवार से 3 बार मुलाकात कर चुके हैं। वहीं सिन्हा ने एक दिन पहले ही राष्ट्र मंच के बैनर तले दिल्ली स्थित शरद पवार के घर बैठक की। यह बैठक करीब ढाई घंटे चली, जिसमें कांंग्रेस और बीएसपी को छोड़कर आम आदमी पार्टी, एनसीपी, टीएमसी, समाजवादी पार्टी, आरजेडी और अन्य दल शामिल हुए थे।

इस मीटिंग को मोदी के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने की रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। अगले साल उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में यह तैयारी विपक्षी दलों के लिटमस टेस्ट के तौर पर देखा जा रहा है। प्रधानमंत्री और संघ भी पिछले कुछ दिनों से यूपी को लेकर कई बैठकें कर चुका है। राज्य की 72 लोकसभा सीटें दिल्ली की दिशा तय करती हैं। ऐसे में सत्ता पक्ष और विपक्ष की बैठकों को बड़ी तैयारियों के रूप में देखा जा रहा है।

ममता का सवाल- क्या PM ने कश्मीरी जनता को बैठक में बुलाया?
ममता ने कहा कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर के लोगों को बुलाकर कश्मीर पर मीटिंग कर रहे हैं। राज्य का दर्जा वापस लिए जाने की क्या जरूरत थी। लोगों को पहले आजादी चाहिए। आपने आजादी छीन ली। ये फैसला देश के किसी काम नहीं आया और दो साल तक जम्मू-कश्मीर में कोई टूरिस्ट भी नहीं जा पाया है। देश की बहुत बदनामी हुई है।

जो आवाज उठाता है, भाजपा उसे एंटी नेशनल कहती है
ममता ने कहा कि भाजपा हर किसी को एंटी नेशनल बोलती है और खुद को ही नेशनलिस्ट बताती है। जो भी आवाज उठाने की कोशिश करता है, उसे एंटी नेशनल और टेररिस्ट घोषित कर देती है। जो लोग देश के लोगों को एक वैक्सीन भी नहीं दे सकते हैं। लाशें गंगा में बहती रहती हैं, उनका रिकॉर्ड भी मिटा देते हैं, वो इतनी बड़ी-बड़ी बातें कैसे करते हैं?

PM आवास पर 14 दलों के नेताओं की मीटिंग
जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाए जाने के करीब 2 साल बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को राज्य के 14 दलों के नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे हैं। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती समेत गुपकार अलायंस के बड़े नेता भी मौजूद हैं। इनके अलावा गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद भी बैठक में शामिल हुए हैं।

खबरें और भी हैं...