• Hindi News
  • National
  • Mamata Banerjee BJP | TMC Party Chief Mamata On 5 State Assembly Elections And Lok Sabha Election 2024

दीदी का खेला 2024:बंगाल से बाहर खुद को मजबूत कर रहीं ममता; गोवा, असम के बाद बिहार-हरियाणा में TMC से जुड़े बड़े चेहरे

नई दिल्ली6 दिन पहले

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा को धूल चटाने के बाद ममता बनर्जी 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों में अभी से जुट गई हैं। बंगाल में खेला होबे का नारा देने के बाद दीदी का अगला टारगेट लोकसभा चुनाव के बाद खुद को तीसरे विकल्प के रूप में खड़ा करने का है। दीदी ने इसके लिए देशभर में पार्टी संगठन को मजबूत करने की कवायद भी शुरू कर दी है। आइए जानते हैं ममता का पूरा गेम प्लान...

5 राज्यों के विधानसभा चुनाव से जमीनी पकड़ मजबूत करने की तैयारी
यूपी, गोवा, उत्तराखंड, पंजाब और मणिपुर में अगले साल विधानसभा के चुनाव हैं। ममता बनर्जी अगले साल होने वाले इन राज्यों के विधानसभा चुनाव के बहाने पार्टी की जमीनी तैयारी शुरू कर चुकी हैं। वे फिलहाल यहां पार्टी की उपस्थिति चाहती हैं। उन्होंने यहां पार्टी संगठन को विस्तार देने का काम शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में इन राज्यों से भाजपा और कांग्रेस समेत स्थानीय पार्टियों के कई दिग्गज नेता तृणमूल कांग्रेस में शामिल भी हो चुके हैं।

गोवा में ममता ने पूर्व मुख्यमंत्री लुइजिन्हो फलेरियो को साधा

के पूर्व मुख्यमंत्री व सात बार के कांग्रेस विधायक रहे लुइजिन्हो फलेरियो ने 29 सितंबर को पूर्व IPS अधिकारी लवू ममलेदार, साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता एन शिवदास और पर्यावरणविद राजेंद्र शिवाजी काकोडकर के साथ TMC में शामिल हुए।
के पूर्व मुख्यमंत्री व सात बार के कांग्रेस विधायक रहे लुइजिन्हो फलेरियो ने 29 सितंबर को पूर्व IPS अधिकारी लवू ममलेदार, साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता एन शिवदास और पर्यावरणविद राजेंद्र शिवाजी काकोडकर के साथ TMC में शामिल हुए।

गोवा में कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री लुइजिन्हो फलेरियो TMC में शामिल हो चुके हैं। ममता ने उन्हें बंगाल से राज्यसभा भी भेज दिया है। लुइजिन्हो फलेरियो ईसाई समुदाय से आते हैं, जो गोवा में हिन्दुओं के बाद सबसे बड़ी आबादी है। ममता यहां ईसाई समुदाय को साधने के साथ उन हिन्दू वोटर्स को भी अपने पाले में करना चाहती हैं जो कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ किसी तीसरे दल को विकल्प के तौर पर देखना चाहते हैं।

असम में सुष्मिता देव तो UP में ललितेश पति त्रिपाठी TMC में आएं

उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में ब्राह्मण चेहरा ललितेश पति त्रिपाठी ने पिछले महीने कांग्रेस का हाथ छोड़कर तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया।
उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में ब्राह्मण चेहरा ललितेश पति त्रिपाठी ने पिछले महीने कांग्रेस का हाथ छोड़कर तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया।

बंगाल जीतने के बाद ममता ने असम और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को बड़ा नुकसान पहुंचाया। ममता ने असम की सिलचर से कांग्रेस की सांसद रह चुकीं सुष्मिता देव को पार्टी में शामिल कराया। TMC ने उनहें बंगाल से ही राज्यसभा का सांसद बनाकर भेजा है। वहीं उत्तर प्रदेश में पूर्वांचल में ब्राह्मण चेहरा बने ललितेश पति त्रिपाठी ने कांग्रेस का हाथ छोड़कर तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया। ललितेश UP के पूर्व मुख्यमंत्री पं. कमलापति त्रिपाठी के प्रपौत्र हैं। वे 2012 में नक्सल प्रभावित मड़िहान सीट से विधायक भी रह चुके हैं। ललितेश का परिवार चार पीढ़ियों से कांग्रेस के साथ रहा।

त्रिपुरा में भाजपा को दिया ममता ने झटका

असम की सिलचर से कांग्रेस की सांसद रह चुकीं सुष्मिता देव भी TMC का दामन थाम चुकी हैं। वे कांग्रेस के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री रहे संतोष मेाहन देव की बेटी भी हैं।
असम की सिलचर से कांग्रेस की सांसद रह चुकीं सुष्मिता देव भी TMC का दामन थाम चुकी हैं। वे कांग्रेस के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री रहे संतोष मेाहन देव की बेटी भी हैं।

ममता बनर्जी त्रिपुरा में भाजपा को जोरदार झटका दे चुकी हैं। दरअसल भाजपा विधायक आशीष दास यहां TMC का दामन थाम चुके हैं। TMC प्रदेश में भाजपा को पछाड़ने की तैयारी कर रही है। पार्टी की नजर भाजपा के असंतुष्टों पर दिख रही है। विधायक आशीष दास को TMC में शामिल कराना इसी अभियान का हिस्सा माना जा रहा है। यहां बांग्ला भाषी वोटर्स के अलावा मुस्लिम मतदाताओं की संख्या बड़ा उलटफेर करने का मादा रखती है। बंगाल में जिस तरह पार्टी ने महिलाओं और खासकर मुस्लिम मतदाताओं को खुद से जोड़े रखा, उसी तरह त्रिपुरा में भी TMC इन्हें अपना कोर वोटर बनाने की तैयारी में है। ये अब तक वाम दलों के वोटर्स रहे हैं।

कीर्ति आजाद और अशोक तंवर के बहाने बिहार और हरियाणा पर नजर

कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद, पत्नी पूनम आजाद को ममता बनर्जी ने पार्टी की सदस्यता दिलाई। कीर्ति आजाद पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए थे।
कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद, पत्नी पूनम आजाद को ममता बनर्जी ने पार्टी की सदस्यता दिलाई। कीर्ति आजाद पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए थे।

ममता बनर्जी 22 से 25 नवंबर तक दिल्ली दौरे पर हैं। वे यहां सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिलने वाली हैं। इस मुलाकात से पहले ही उन्होंने कई बड़े नेताओं को पार्टी में शामिल कराया। सबसे पहले JDU के सांसद रह चुके पवन वर्मा ने पार्टी की सदस्यता ली। इसके बाद कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद पत्नी पूनम आजाद के साथ ममता के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर पहुंचे। यहां पहले से मौजूद ममता बनर्जी ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। इसके चंद घंटे बाद ही हरियाणा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद रह चुके अशोक तंवर भी ममता से मिले और TMC में शामिल हो गए। तंवर कभी राहुल के करीबियों में गिने जाते थे। ममता कीर्ति आजाद और अशोक तंवर के सहारे बिहार और हरियाणा में पार्टी संगठन को मजबूत करने का प्लान बना रही हैं।

जावेद अख्तर और सुधींद्र कुलकर्णी भी ममता से मिले

जावेद अख्तर और लालकृष्ण आडवाणी के करीबी रहे सुधींद्र कुलकर्णी ने मंगलवार को ममता बनर्जी से मुलाकात की। तीनों की मीटिंग करीब एक घंटे तक चली।
जावेद अख्तर और लालकृष्ण आडवाणी के करीबी रहे सुधींद्र कुलकर्णी ने मंगलवार को ममता बनर्जी से मुलाकात की। तीनों की मीटिंग करीब एक घंटे तक चली।

मशहूर लेखक जावेद अख्तर और भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के करीबी रहे सुधींद्र कुलकर्णी ने भी मंगलवार को दिल्ली में ममता बनर्जी से मुलाकात की। ये मुलाकात करीब 1 घंटे तक चली। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इनके बीच क्या चर्चा हुई। सूत्रों के अनुसार, उन्होंने वर्तमान सामाजिक और राजनीतिक स्थिति पर चर्चा की।

कुलकर्णी कभी अटल बिहारी वाजपेयी के सलाहकार हुआ करते थे। वाजपेयी की तबीयत खराब होने के बाद वे लालकृष्ण आडवाणी के सलाहकार बन गए। कुलकर्णी ने ही 2009 लोकसभा चुनाव से पहले आडवाणी फॉर PM कैंपने शुरू किया था राजनीतिक क्षेत्र में सुधींद्र को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कट्टर विरोधी के रूप में जाना जाता था।

नरेंद्र मोदी के विरोधी रहे हैं कुलकर्णी

अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी के साथ नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)
अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी के साथ नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

कुलकर्णी 13 साल तक भाजपा में सक्रिय रहे। 2009 में लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद उन्होंने पार्टी से किनारा कर लिया था। हालांकि उन्होंने उस दौरान कहा था कि वे पार्टी के शुभ चिंतक बने रहेंगे। 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद वे लगातार उन पर टिप्पणी करते रहे। बाद में वे राहुल गांधी के समर्थन में भी बयान देते रहे। 2019 में मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद कुलकर्णी पूरी तरह से हाशिए पर चले गए। हालांकि, इसके बाद आडवाणी से भी वे दूर ही रहे।

यशवंत सिन्हा और प्रणव मुखर्जी के बेटे ने जॉइन की TMC
बंगाल विधानसभा में भारी जीत के बाद भाजपा के दिग्गज नेता रहे और पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा TMC में शामिल हो गए। सिन्हा अभी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं। इसके बाद पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के बेटे और कांग्रेस नेता अभिजीत मुखर्जी भी इसी साल जुलाई में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रपति बनने के बाद 2012 और 2014 के चुनाव में अभिजीत बंगाल की जंगीपुर लोकसभा सीट से दो बार सांसद रहे। हालांकि, 2019 के चुनाव में वे तीसरे नंबर पर पहुंच गए।

खबरें और भी हैं...