• Hindi News
  • National
  • Manish Sisodia Vs Hemant Biswa Sharma: Delhi Deputy CM Accuses Assam Chief Minister

सिसोदिया-सरमा में जुबानी जंग:सिसोदिया बोले- कोरोना की आड़ में हिमंत ने पत्नी को बिना टेंडर ठेके दिए, सरमा बोले- मानहानि का केस करूंगा

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने असम के सीएम हेमंत बिस्व सरमा पर भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान हेमंत स्वास्थ्य मंत्री थे, तब उन्होंने बिना टेंडर के पीपीई किट का ठेका अपनी पत्नी को दे दिया था। इस पर सीएम सरमा की ओर से पलटवार किया गया है। उन्होंने कहा कि मेरी पत्नी ने लोगों की जान बचाने के लिए करीब 1500 पीपीई किट दान की थी। मैं सिसोदिया के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दायर करूंगा।

सिसोदिया ने आरोप लगायय कि मार्केट में किट की कीमत लगभग 600 रुपए थी, लेकिन बिस्वा ने अपनी पत्नी की कंपनी को 990 रुपए रेट के हिसाब से ठेका दिया था। इसके अलावा सरमा ने अपने बेटे के पार्टनर्स की कंपनी को भी ठेका दिया था। सरमा ने कहा कि उनकी पत्नी ने किट के लिए कोई बिल ही नहीं लगाया था।

सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी के बाद AAP ने किया खुलासा
ईडी ने सोमवार को दिल्ली के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्येंद्र जैन को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार कर लिया था। पिछले महीने जैन परिवार और उनसे जुड़ी कंपनियों की करोड़ों की संपत्ति भी कुर्क की गई थी। सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी के बाद सीएम केजरीवाल लगातार केंद्र सरकार पर परेशान करने का आरोप लगा रहे थे।

सिसोदिया ने जैन पर लगे आरोपों को बताया फर्जी
डिप्टी सीएम सिसोदिया ने दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर लगे सभी आरोपों को फर्जी बताया है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के सभी आरोप हरदम झूठे साबित होते हैं, क्योंकि उनके नेता हमेशा झूठे आरोप लगाते हैं। एक बार फिर फर्जी आरोप लगाकर सत्येंद्र जैन को जेल में डाल रखा है।

केजरीवाल ने कहा था- जल्द होगा बीजेपी का पर्दाफाश
आज दोपहर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया आज भाजपा के एक वरिष्ठ नेता का पर्दाफाश करेंगे, जो कथित तौर पर भ्रष्टाचार में लिप्त हैं।

उन्होंने एक अखबार की रिपोर्ट भी शेयर किया था और कहा था कि सत्येंद्र जैन को भ्रष्ट नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि केंद्र ने खुद तर्क दिया है कि वह मामले में आरोपी नहीं हैं।