आरटीआई / विदेश मंत्रालय ने माल्या और नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की जानकारी देने से इनकार किया



विजय माल्या और नीरव मोदी। विजय माल्या और नीरव मोदी।
X
विजय माल्या और नीरव मोदी।विजय माल्या और नीरव मोदी।

  • मंत्रालय ने कहा- आरटीआई के अधिनियम के तहत कोई जानकारी नहीं दी जा सकती
  • विजय माल्या पर भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपए बकाया
  • नीरव मोदी पर पीएनबी के 13 हजार करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप

Dainik Bhaskar

May 15, 2019, 10:00 PM IST

नई दिल्ली. विदेश मंत्रालय ने भगोड़े कारोबारी विजय माल्या और नीरव मोदी के प्रत्यर्पण संबंधी जानकारी देने से इनकार कर दिया है। एक पत्रकार ने आरटीआई के तहत इस संबंध में सूचना मांगी थी। मंत्रालय ने आरटीआई के नियम का हवाला देते हुए कहा कि इससे प्रत्यर्पण की प्रक्रिया में बाधा आएगी।

 

मंत्रालय ने कहा कि प्रत्यर्पण को लेकर ब्रिटेन के अधिकारियों से बातचीत चल रही है। माल्या और नीरव के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन सरकार को आवेदन भेजा जा चुका है। आरटीआई अधिनियम की धारा 8 (1) (एच) के तहत कोई जानकारी नहीं दी जा सकती है।

 

माल्या ब्रिटेन में जमानत पर रिहा

माल्या ब्रिटेन में जमानत पर है। उसके खिलाफ धोखाधड़ी, मनी लॉन्ड्रिंग, फेमा के उल्लंघन का आरोप है। उस पर भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। वह 2016 में लंदन भाग गया। मुंबई की विशेष अदालत उसे भगोड़ा घोषित कर चुकी है। ईडी उसकी अधिकांश संपत्ति जब्त कर चुका है। ब्रिटेन ने इस साल फरवरी में माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी दी थी। इसके खिलाफ माल्या ने वहां की हाईकोर्ट में अपील की, जिस पर 2 जुलाई को सुनवाई होगी।

 

नीरव ब्रिटेन की जेल में बंद

पंजाब नेशनल बैंक के 13 हजार करोड़ रुपए के घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया लंदन में चल रही है। ब्रिटेन की कोर्ट ने तीसरी बार उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी है। उसे स्कॉटलैंड यार्ड से 19 मार्च को गिरफ्तार किया गया था। नीरव साउथ-वेस्ट लंदन की वांड्सवर्थ जेल में है। नीरव मोदी कोर्ट के सामने अगली सुनवाई के लिए 30 मई को पेश होगा।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना