कश्मीर / महबूबा ने आतंकियों को 'माटी का सपूत' बताया, कहा- केंद्र सरकार उनके नेतृत्व से बातचीत करे



Mehbooba calls local militants sons of soil
X
Mehbooba calls local militants sons of soil

  • महबूबा ने कहा- मेरा मानना है कि कुछ स्तरों पर हुर्रियत और आतंकियों से भी बात होनी चाहिए
  • पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा- जब से मैं राजनीति में आई हूं, कह रही हूं आतंकियों को बचाने के अधिकतम प्रयास होने चाहिए
  • उन्होंने कहा- फायदा लेने के लिए कांग्रेस ने 2014 चुनाव से पहले अफजल गुरु को फांसी दी

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2019, 08:19 PM IST

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने स्थानीय आतंकियों को 'माटी का सपूत' बताते हुए कहा कि उन्हें बचाने के लिए कोशिश की जानी चाहिए। महबूबा ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में 'गन-कल्चर' को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार को स्थानीय आतंकी संगठनों से बातचीत करनी चाहिए।

'जिनके हाथ में बंदूकें, वही गन कल्चर खत्म कर सकते हैं'

  1. महबूबा ने अनंतनाग में पार्टी के कार्यक्रम के बाद कहा- इस वक्त पाकिस्तान और अलगाववादियों से बात होनी चाहिए। इसी तरह आतंकी नेतृत्व से भी बात होनी चाहिए, ये वही लोग हैं, जिनके हाथ में बंदूकें हैं और यही राज्य में 'गन कल्चर' खत्म कर सकते हैं।

  2. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा- मेरा मानना है कि कुछ स्तरों पर हुर्रियत और आतंकियों से भी बात होनी चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा कि आतंकियों से बात करना अभी जल्दी होगी। उन्होंने कहा कि स्थानीय आतंकियों को हिंसा के रास्ते पर जाने से रोकना चाहिए।

  3. उन्होंने कहा कि 1996 में राजनीति में आई, तभी से मैं कह रही हूं कि स्थानीय आतंकी 'माटी के सपूत' हैं। उन्हें बचाने के अधिकतम प्रयास होने चाहिए, क्योंकि वे हमारी संपत्ति हैं। महबूबा ने कहा- अगर कहीं मुठभेड़ में आतंकी और सुरक्षाबल आमने-सामने होते हैं, तब उस वक्त कोई कुछ नहीं कर सकता।

  4. इससे पहले सोमवार को महबूबा ने लोकसभा चुनाव के तीन महीने पहले जेएनयू मामले में चार्जशीट दाखिल होने पर भी सवाल उठाए। इस चार्जशीट में 7 कश्मीरी छात्रों की भी आरोपी बनाया गया। उन्होंने कहा कि सरकार छात्रों का इस्तेमाल कर राजनीतिक फायदा उठाने का प्रयास कर रही।

  5. 2014 में फायदा लेने के लिए कांग्रेस ने अफजल को फांसी दी- महबूबा

    महबूबा ने कहा, ऐसा महसूस हो रहा है कि 2019 के चुनाव की तैयारी में कश्मीर के लोगों को मोहरा बनाया जा रहा है, उनको इस्तेमाल किया जा रहा है। वोट की राजनीति हो रही है। इसी तरह से कांग्रेस ने 2014 चुनाव से पहले अफजल गुरु को फांसी दी, ये सोचकर की शायद उन्हें इस तरह से कामयाबी मिलेगी। आज वही भाजपा दोहरा रही है।

COMMENT