गुजरात / पिता का करोड़ों का कारोबार छोड़ युवक ने मांजे बर्तन, महिंद्रा ने अपनी कंपनी में ऑफर दिया



द्वारकेश ठक्कर (बीच में)। द्वारकेश ठक्कर (बीच में)।
X
द्वारकेश ठक्कर (बीच में)।द्वारकेश ठक्कर (बीच में)।

  • पादरा के करोड़पति का बेटा द्वारकेश ठक्कर खुद को साबित करने के लिए 14 अक्टूबर को घर से निकला था 
  • अखबार में खबर छपने और वायरल होने पर आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर इंटर्नशिप करने का ऑफर दिया
  • पिता ने कहा- द्वारकेश का केवल एक सपना है, खुद के प्रयासों से एक दिन बड़ा आदमी बनना

Dainik Bhaskar

Nov 12, 2019, 01:48 PM IST

वडोदरा. गुजरात के कारोबारी पिता के करोड़ों रुपए के तेल कारोबार को छोड़कर अपनी कमाने की क्षमता साबित करने के लिए घर से निकले युवक को उद्योगपति और महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने अपनी कंपनी में इंटर्नशिप करने का ऑफर दिया है। दरअसल, कुछ दिन पहले युवक द्वारकेश को शिमला की होटल में प्लेट धोते और पत्थर पर सोते पाया गया था। 

 

द्वारकेश ठक्कर की खबर अखबार में छपने के बाद आनंद महिंद्रा ने ट्विटर पर लिखा, "मैं इस युवा का प्रशंसक हूं। वह अपने दम पर आगे बढ़ना चाहता है। अभी ऐसा लगता है कि उसने सनक में घर छोड़ दिया, लेकिन भविष्‍य में वह एक कामयाब, आत्‍मनिर्भर उद्योगपति हो सकता है। मैं कंपनी महिंद्रा राइज में इंटर्नशिप का ऑफर देकर बहुत खुश होऊंगा।" 

 

1250 रुपए लेकर घर से निकला था युवक
द्वारकेश के पिता राकेश ठक्कर ने कहा, "द्वारकेश का केवल एक सपना है। खुद के प्रयासों से एक दिन बड़ा आदमी बनना। उन्‍होंने अपने बेटे की ईमानदारी के बारे में कहा कि द्वारकेश ने मात्र 1250 रुपए लेकर घर छोड़ा था। इसमें से उसने 1070 रुपए टिकट पर और 20 रुपए पानी की बॉटल पर खर्च किया। बाकी बचे हुए 160 रुपए मुझे लौटा दिए। उसके पास और कुछ नहीं था। यह द्वारकेश का मेहनती रवैया और विपरीत परिस्थित‍ि में खुद को बचाए रखने की क्षमता को दर्शाता है।"

 

द्वारकेश ने कहा- महिंद्रा का ऑफर बड़ा अवसर

द्वारकेश ने इस ऑफर पर कहा कि उसने अभी अपने भविष्‍य के बारे में कोई फैसला नहीं किया है। आनंद महिंद्रा का ऑफर मेरे लिए एक बड़ा अवसर है। यदि महिंद्रा राइज कंपनी से किसी ने संपर्क किया तो मैं निश्चित रूप से इस बारे में सोचूंगा।’

 

द्वारकेश के 23 दिन का सफर

 

  • 14 अक्टूबर :  पादरा के करोड़पति तेल कारोबारी राकेश का बेटा द्वारकेश अपने इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए घर से निकला था। इसके बाद वह खुद को साबित करने के लिए शिमला चला गया था।
  • 15 अक्टूबर : परिजनों ने पादरा पुलिस स्टेशन में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट की।
  • 16 अक्टूबर : पुलिस ने उस रिक्शा ड्राइवर का पता लगाया, जिसने उसे अक्षर चौक छोड़ा था। सीसीटीवी फुटेज में ठक्कर वडोदरा के रेलवे स्टेशन पर नजर आया।
  • 16 अक्टूबर :  पुलिस ने उसे अंकलेश्वर, सूरत, मुंबई और गुजरात के दूसरे शहरों में खोजा।
  • इधर, 17 अक्टूबर को द्वारकेशव दिल्ली से बस द्वारा शिमला पहुंच गया। वडोदरा से दिल्ली का सफर उसने ट्रेन में किया।
  • 4 नवंबर :  उसने शिमला के एक हॉटल मैनेजर से जॉब मांगी। मैनेजर ने शक होने पर पुलिस को जानकारी दी।
  • 4-5 नवंबर : दरम्यानी रात द्वारकेश पुलिस को शिमला में रोड किनारे सोता मिला।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना