वायुसेना में शामिल होंगे 54 किलर ड्रोन, भारत सरकार ने इजराइल से करार किया

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • थल सेना के लिए 72 हजार सिग सॉर असॉल्ट राइफल्स जर्मनी से खरीदे जाएंगे
  • एसपी मॉडल के तहत नौसेना के लिए 111 हेलीकॉप्टर खरीदेगी मोदी सरकार

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने वायुसेना के लिए 54 हारोप किलर ड्रोन खरीदने को मंजूरी दे दी है। यह ड्रोन इजराइल से खरीदे जाएंगे। हारोप किसी भी शक्तिशाली दुश्मन ठिकाने को तबाह करने की क्षमता रखते हैं इसीलिए इन्हें इजराइल में किलर ड्रोन भी कहा जाता है। सरकार ने थलसेना और नौसेना के लिए असॉल्ट राइफल और 111 नेवल हेलिकॉप्टर खरीदने के करार किए हैं।

1) दुश्मन के ठिकानों का पता लगा लेता है हारोप ड्रोन

इजराइल के हारोप ड्रोन दुश्मन ठिकानों पर क्रैश होकर उन्हें तबाह कर देते हैं। इनमें इलेक्ट्रो ऑप्टिकल सेंसर भी लगा होता है, जिससे ठिकाने के बारे में भी पता लगाया जा सकता है। मौजूदा समय में वायुसेना के पास ऐसे 110 ड्रोन हैं, जिनका नाम पी-4 रखा जा चुका है।

रक्षा मंत्रालय ने एक पत्र (एक्सप्रेशन ऑफ इंस्ट्रेस्ट) जारी किया है। इसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार ने नौसेना के लिए 111 हेलिकॉप्टर खरीदने का फैसला किया है। यह सभी हेलिकॉप्टर रणनीतिगत साझेदारी (एसपी) मॉडल के तहत खरीदे जाएंगे। सरकार फिलहाल स्ट्रैटेजिक पार्टनर और विदेशी ओरिजनल इक्विपमेंट मैन्यूफैक्चरर (ओईएम) की तलाश में हैं, जिसके जरिए वह इन 111 नेवल यूटिलिटी हेलीकॉप्टर्स का बंदोबस्त करेगी।

थल सेना के लिए भी 72 हजार सिग सॉर असॉल्ट राइफल्स खरीदे जाएंगे। इसके लिए मोदी सरकार ने जर्मनी की कंपनी से करार किया है। यह निर्णय फास्ट्रैक प्रक्रिया के तहत लिया गया है।