• Hindi News
  • National
  • Modi Reached The Meeting; 3 Big Leaders Including Former CM Refuse To Contest Elections

गुजरात में आज BJP की लिस्ट आ सकती है:मोदी की मौजूदगी में बैठक हुई; पूर्व CM समेत 3 बड़े नेता बोले- चुनाव नहीं लड़ेंगे

अहमदाबाद\ नई दिल्ली3 महीने पहले

गुजरात विधानसभा चुनाव में टिकटों के बंटवारे को लेकर दिल्ली में भाजपा सेंट्रल इलेक्शन कमेटी (CEC) की मीटिंग रात 11.30 बजे तक चली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बैठक में पहुंचे थे। मीटिंग से पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, पूर्व डिप्टी CM नितिन पटेल और सीनियर विधायक भूपेंद्र सिंह चुडास्मा ने चुनाव लड़ने से मना कर दिया है।

गुरुवार को हो सकता है टिकटों का ऐलान
बुधवार शाम दिल्ली में भाजपा सेंट्रल इलेक्शन कमेटी की मीटिंग हुई। मीटिंग में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा, महाराष्ट्र के डिप्टी CM देवेंद्र फडणवीस समेत कमेटी के सभी सदस्य पार्टी हेडक्वार्टर में मौजूद थे। संभावना जताई जा रही थी कि देर रात टिकटों का ऐलान हो सकता है।

भाजपा हेडक्वार्टर पहुंचने पर पीएम मोदी का पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने स्वागत किया।
भाजपा हेडक्वार्टर पहुंचने पर पीएम मोदी का पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने स्वागत किया।

रूपाणी और पटेल ने कहा- युवाओं को मिले मौका
रूपाणी और नितिन पटेल ने कहा कि वे चुनाव नहीं लड़ रहे, ताकि युवाओं को मौका मिले। हालांकि चर्चा है कि पार्टी ने इन दोनों नेताओं को बड़ी जिम्मेदारी देकर विधानसभा चुनाव से दूर किया है। विजय रूपाणी को पंजाब की जिम्मेदारी दी गई थी। नितिन पटेल को भी दूसरे राज्य में बड़ी जिम्मेदारी देकर गुजरात चुनाव से दूर रखा जाएगा।

रूपाणी ने सीनियर नेताओं को भेजा लेटर
गुजरात के पूर्व CM विजय रूपाणी ने पार्टी के सीनियर लीडर्स को लेटर भेजकर कहा- सभी के सहयोग से पांच साल CM के रूप में काम किया। इन चुनावों में नए कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी जाए। मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा। पार्टी द्वारा चुने गए उम्मीदवार को जिताने के लिए काम करूंगा।

दो बार सीएम रहे विजय रूपाणी
विजय रूपाणी 7 अगस्त 2016 को पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे। 2017 का चुनाव उन्हीं के नेतृत्व में लड़ा गया था। तब भाजपा ने 99 सीटें जीती थीं। रूपाणी ने 26 दिसंबर 2017 को दूसरी बार गुजरात के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

नितिन पटेल के हाथ से 4 बार निकला CM बनने का मौका
पूर्व डिप्टी CM नितिन पटेल वित्त, स्वास्थ्य, कृषि, राजस्व, सिंचाई और शहरी विकास मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। उनके हाथ से चार बार गुजरात का मुख्यमंत्री बनने का मौका निकला है। पहली बार 2014 में जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने। उस समय गुजरात CM के लिए उनका नाम चल रहा था, लेकिन पार्टी ने आनंदीबेन पटेल को मुख्यमंत्री बनाया।

इसके बाद 2015-16 के पाटीदार आंदोलन के बाद जब आनंदीबेन पटेल को CM पद से हटाया गया, तब भी उनका नाम उछला, लेकिन विजय रूपाणी को मुख्यमंत्री बनाया गया। 2017 का चुनाव परिणाम उम्मीद के अनुरूप नहीं आने के बाद ऐसा लग रहा था कि अब नितिन पटेल का CM बनना तय है, लेकिन रूपाणी दोबारा CM बने। इसके बाद 2021 में बीजेपी ने विजय रूपाणी को हटाकर भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बना दिया। तब भी उनका नाम चर्चाओं में था।

जानिए गुजरात चुनाव की तारीखें

गुजरात चुनाव से जुड़ीं ये खबरें भी पढ़ें...

10 बार विधायक रहे राठवा ने BJP जॉइन की

गुजरात में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और 10 बार विधायक रहे मोहन सिंह राठवा ने मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा जॉइन कर ली है। वे पिछले काफी समय से पार्टी से नाराज थे। पूरी खबर पढ़ें

ब्रिज हादसे ने बदला चुनावी गणित

30 अक्टूबर को हुए ब्रिज हादसे में 135 लोगों की मौत हुई।
30 अक्टूबर को हुए ब्रिज हादसे में 135 लोगों की मौत हुई।

गुजरात विधानसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद प्रदेशभर में चुनावी सरगर्मियों का दौर शुरू हो गया है, लेकिन मोरबी मौन है। यहां चुनाव की कोई बात नहीं होती। एक साथ 135 मौतों की सिसकियां चुनावी सरगर्मियों पर भारी पड़ रही हैं। ऐसे समय में राजनीतिक दल किस मुंह से लोगों के पास वोट मांगने जाएं, इसको लेकर उलझन में हैं। यहां प्रचार में किस मुद्दे को उठाएं, इस पर भी अजीब सी स्थिति बनी हुई है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

कोरोना ने कम कर दिए 1,50,962 मतदाता...?

कोरोना महामारी के वर्ष 2020 और 2021 के दो वर्षों में गुजरात में हुई मौतों के सही आंकड़े को लेकर सरकार के खिलाफ सवाल उठते रहे हैं। हकीकत यह है कि वर्ष 2019 के बाद दो वर्ष में प्रदेश में 1,50,962 मतदाता कम हो गए हैं। सामान्य तौर पर लोकसभा और विधानसभा चुनाव के दौरान नई मतदाता सूची तैयार होती है। जिसमें कितने मतदाताओं के नाम काटे गए, इसका विश्लेषण होता है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

गढ़वी के सीएम चेहरा घोषित होते ही इंद्रनील कांग्रेस में

गुजरात के सबसे अमीर विधायकों में टॉप पर हैं इंद्रनील राज्यगुरु।
गुजरात के सबसे अमीर विधायकों में टॉप पर हैं इंद्रनील राज्यगुरु।

राजकोट के पूर्व विधायक और आम आदमी पार्टी के नेशनल जॉइंट सेक्रेटरी इन्द्रनील राज्यगुरु शुक्रवार शाम को फिर से घर वापसी करते हुए कांग्रेस में शामिल हो गए। आप के इशुदान गढवी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने के कुछ ही घंटों में राज्यगुरु ने आप छोड़कर दोबारा कांग्रेस का हाथ पकड़ लिया। पूर्व विधायक इंद्रनील राज्यगुरु अप्रैल में कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी में आए थे। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...