मौसम / दिल्ली के बाद सबसे कम बरसात हरियाणा में, 57% कमी, 5 साल से लगातार जुलाई में ऐसे हाल



जींद: अमूमन मॉनसूनी सीजन में काले बादल छाए रहते हैं। खेल-खलिहान पानी से भरे होते हैं। इस बार ऐसा नहीं है। दूर-दूर तक धूल उड़ रही है। जींद: अमूमन मॉनसूनी सीजन में काले बादल छाए रहते हैं। खेल-खलिहान पानी से भरे होते हैं। इस बार ऐसा नहीं है। दूर-दूर तक धूल उड़ रही है।
X
जींद: अमूमन मॉनसूनी सीजन में काले बादल छाए रहते हैं। खेल-खलिहान पानी से भरे होते हैं। इस बार ऐसा नहीं है। दूर-दूर तक धूल उड़ रही है।जींद: अमूमन मॉनसूनी सीजन में काले बादल छाए रहते हैं। खेल-खलिहान पानी से भरे होते हैं। इस बार ऐसा नहीं है। दूर-दूर तक धूल उड़ रही है।

  • खरीफ की खेती पर संकट के बादल, आधे हरियाणा में बिगड़े हालात
  • कल से प्रदेश के कई हिस्सों में एक साथ झमाझम की उम्मीद

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 06:49 AM IST

राजधानी हरियाणा (सुशील भार्गव). देश में दिल्ली के बाद हरियाणा में सबसे कम 57 फीसदी कम 43 एमएम बरसात हुई है। दिल्ली में 90 और देशभर में बरसात की कमी 12 फीसदी है। अब तक माॅनसून सीजन (1 जून से 30 सितंबर) के 42 दिन बीत जाने के बाद भी राज्य का एक भी जिला ऐसा नहीं है, जहां सामान्य बरसात हुई हो।

 

बहरहाल, रविवार से राज्य के कई हिस्सों में अच्छी बारिश की संभावना जताई जा रही है। हरियाणा पिछले पांच साल से जुलाई में माॅनसून की बेरुखी झेल रहा है। करीब आधे प्रदेश में जुलाई में ठीक-ठाक बरसात हो रही है, तो आधे से अधिक हरियाणा में सामान्य से कम। पांच सालों में आठ जिलों में जुलाई में सामान्य या अधिक बरसात हुई है, जबकि 13 जिलों में सामान्य से कम बारिश हुई है। सालभर में करीब 180 लाख टन खाद्यान्न पैदा करने वाले हरियाणा के 16.17 लाख किसान परिवारों पर संकट आए साल बढ़ रहा है।

 

कहां कितनी बरसात

 

जिला बारिश     कम वर्षा
फरीदाबाद     9.7 मिमी 90%
पंचकूला 46.0 मिमी 79%
मेवात 24.3 मिमी 76%
पानीपत 30.0 मिमी 74%
फतेहाबाद 19.0 मिमी 72%
रोहतक 32.2 मिमी 71%
जींद 30.3 मिमी 69%
सोनीपत 34.5 मिमी 68%
कैथल 27.0 मिमी 67%
झज्जर 27.6 मिमी 63%
गुड़गांव 40.8 मिमी 61%

 

 

यहां पांच साल से मानसून में कम हो रही है वर्षा 

अम्बाला, कैथल, फतेहाबाद, पंचकूला, पानीपत, रोहतक, सिरसा, सोनीपत में पिछले पांच साल में जुलाई में सामान्य से कम बरसात हुई है। वहीं कुरुक्षेत्र व महेंद्रगढ़ में चार साल से जुलाई में कम बरसात हुई है। भिवानी, गुड़गांव, हिसार, झज्जर, जींद, करनाल में दो बार ऐसी स्थिति आई है जब पांच साल में जुलाई में सामान्य से कम बरसात हुई।

 

90% कम बारिश दिल्ली में

 

राज्य          बारिश वर्षा
दिल्ली 13.8 मिमी 90 % कम
हरियाणा 43.1 मिमी 57% कम
मणिपुर 245 मिमी 57% कम
उत्तराखंड 188.2 मिमी 41% कम
यूपी 209 मिमी 11% अधिक
पंजाब 62.2 मिमी 37% कम
हिमाचल प्रदेश 112.8 मिमी 40% कम

 

10 लाख हेक्टेयर में खरीफ बिजाई बाकी

प्रदेश में करीब 10 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बिजाई बाकी है, जबकि लक्ष्य 30.36 लाख हेक्टेयर है। सबसे बड़ी दिक्कत धान में है। सात लाख हेक्टेयर में रोपाई हो पाई है। इससे अधिक क्षेत्र में बाकी है।

 

फिलहाल मॉनसून कमजोर है। राज्य में 14 जुलाई से कुछ जिलों में अच्छी बरसात हो सकती है। अभी तक सामान्य से 57 फीसदी तक कम बरसात हुई है। यह माॅनसून के कमजोर होने के कारण ही हुआ है। -डॉ. सुरेंद्र पाल, निदेशक आईएमडी चंडीगढ़

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना