• Hindi News
  • National
  • monsoon season in India 2019 | more than two thousand people lost their lives during this monsoon season in India.

मानसून / इस साल बाढ़ और बारिश से देशभर में 2,155 लोगों की जान गई, 45 लापता



महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर ले जाती सेना। -फाइल फोटो महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर ले जाती सेना। -फाइल फोटो
X
महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर ले जाती सेना। -फाइल फोटोमहाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर ले जाती सेना। -फाइल फोटो

  • इस साल देश के 22 राज्यों में हुई भारी बारिश से 26 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए
  • बाढ़ से सबसे अधिक 430 मौत महाराष्ट्र में हुई जबकि प.बंगाल में 227 मौत हुई
  • देश के 361 जिलों के 2.23 लाख घरों को पूर्ण रूप से और 2.06 लाख घरों को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा

Dainik Bhaskar

Oct 25, 2019, 07:10 PM IST

नई दिल्ली. मानसून में देश के कई हिस्सों में आई बाढ़ से इस साल 2155 लोगों की जान गई जबकि 45 लोग लापता हो गए। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि देश के 22 राज्यों में भारी बारिश से इस साल 26 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए। बाढ़ से सबसे अधिक 430 मौतें महाराष्ट्र में हुई जबकि पश्चिम बंगाल में 227 लोगों की मौत हुई।

 

देश के 361 जिलों को बारिश से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ा। देशभर में 2.23 लाख घरों को पूर्ण रूप से जबकि 2.06 लाख घरों को आंशिक रूप से बारिश ने नुकसान पहुंचाया। 14.09 लाख हेक्टेयर में लगी फसलें भी नष्ट हो गई। हालांकि, इस साल का मानसून अधिकृत तौर पर 30 सितंबर को समाप्त हो गया लेकिन अभी भी देश के कुछ राज्यों में बारिश जारी है।

 

साल 1994 के बाद सबसे अधिक बारिश

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार चार महीने के मानसून काल में इस बार साल 1994 के बाद सबसे अधिक बारिश हुई है। महाराष्ट्र के 22 जिले बाढ़ से प्रभावित हुए। इन जिलों में 398 लोग बारिश के कारण हुए हादसों में जख्मी हुए जबकि 7.19 लाख लोगों को घर छोड़कर दूसरे स्थान पर शरण लेनी पड़ी।

 

बिहार में बाढ़ और बारिश से 166 की मौत

पश्चिम बंगाल के 22 जिलों में बारिश के कारण परेशानी हुई। यहां पर 37 लोग घायल हुए जबकि चार लापता हो गए। बारिश प्रभावित लोगों के लिए पश्चिम बंगाल में 280 राहत शिविर बनाए गए थे। इन शिविरों में 43,444 लोगों ने शरण ली। बिहार में भी बाढ़ ने तबाही मचाई,जहां 166 लोगों की जान गई। बिहार के 28 राज्यों में मानसून के दौरान कुल 282 राहत शिविर बनाए गए, जहां 1.96 लाख लोगों ने शरण ली।

 

बारिश के कारण मध्यप्रदेश में 189 मौत

बारिश के कारण मध्यप्रदेश में इस साल 189 लोगों की जान गई है। 39 लोग जख्मी हुए और 7 लोग लापता हुए। मध्यप्रदेश के 38 जिलों में बाढ़ और बारिश प्रभावितों के लिए 98 राहत केंद्र बनाए गए थे। इन राहत केंद्रों पर 32,996 लोगों ने शरण ली। केरल में बारिश से 181 लोगों की मौत हुई और 72 लोग घायल हुए। केरल सरकार द्वारा राज्यभर में बारिश प्रभावितों के लिए 2,227 राहत केंद्र बनाए गए थे, जिनमें 4.46 लाख लोगों ने शरण ली।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना