• Hindi News
  • National
  • Mukesh Ambani saved younger brother Anil Ambani from jail by helping his struggling wireless unit repay Swedish supplier Ericsson
विज्ञापन

बड़े भाई की मदद के बाद जेल जाने से बचे अनिल अंबानी, डेडलाइन खत्म होने से एक दिन पहले चुकाया अपना बकाया

dainikbhaskar.com

Mar 19, 2019, 12:14 PM IST

मदद से खुश छोटे भाई ने इस इमोशनल लेटर के जरिये बड़े भाई को कहा शुक्रिया

Mukesh Ambani saved younger brother Anil Ambani from jail by helping his struggling wireless unit repay Swedish supplier Ericsson
  • comment

नेशनल डेस्क. देश के सबसे अमीर मुकेश अंबानी ने अपने छोटे भाई अनिल अंबानी की मदद करते हुए उन्हें जेल जाने से बचा लिया। सोमवार को आरकॉम (रिलायंस कम्युनिकेशन) के चेयरमैन अनिल अंबानी ने सुप्रीम कोर्ट की ओर से मिली डेडलाइन खत्म होने के ठीक एक दिन पहले स्वीडिश कंपनी एरिक्सन का बकाया 459 करोड़ रु. चुका दिया। इसके बाद अनिल की कंपनी आरकॉम ने मुकेश को शुक्रिया कहने के लिए दोनों भाइयों की एक तस्वीर शेयर की है। इसके साथ ही अनिल का इमोशनल बयान भी जारी किया। जिसमें उन्होंने बड़े भाई और भाभी को पुरानी बातों को भूलकर आगे बढ़ने के लिए शुक्रिया कहा।

अनिल ने इमोशनल लेटर लिख कहा- शुक्रिया...

- बड़े भाई के नाम लिखे लेटर में अनिल ने कहा... 'मुश्किल वक्त में मेरे साथ खड़े रहने और मदद करने के लिए मैं अपने आदरणीय बड़े भाई मुकेश व भाभी नीता को हृदय से धन्यवाद देता हूं। वक्त पर मदद करके उन्होंने परिवार के मजबूत मूल्यों और परिवार के महत्व को रेखांकित किया है। मैं और मेरा परिवार बहुत आभारी है कि हम पुरानी बातों को पीछे छोड़कर आगे बढ़ चुके हैं। आपके इस व्यवहार ने मुझे दिल की गहराइयों तक प्रभावित किया है।'


ये है पूरा मामला

- सुप्रीम कोर्ट ने 19 फरवरी को अनिल अंबानी को अवमानना का दोषी ठहराया था। साथ ही एक महीने में 453 करोड़ रु. चुकाने को कहा था। ऐसा नहीं करने पर अनिल को तीन महीने के लिए जेल भेजने की बात कही थी।
- इसके बाद सोमवार को बकाया चुकाते हुए आरकॉम ने कहा कि एरिक्सन को 459 करोड़ रु. चुका दिए गए हैं। इनमें 6 करोड़ रु. ब्याज भी शामिल है।

Mukesh Ambani saved younger brother Anil Ambani from jail by helping his struggling wireless unit repay Swedish supplier Ericsson
  • comment
X
Mukesh Ambani saved younger brother Anil Ambani from jail by helping his struggling wireless unit repay Swedish supplier Ericsson
Mukesh Ambani saved younger brother Anil Ambani from jail by helping his struggling wireless unit repay Swedish supplier Ericsson
COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन