• Hindi News
  • National
  • mumbai amol palekar stopped to talk for criticising narendra modi government in an event at national art gallery

मुंबई / अमोल पालेकर को आर्ट गैलरी के कार्यक्रम में मोदी सरकार की आलोचना करने से रोका गया



अमोल पालेकर। -फाइल अमोल पालेकर। -फाइल
X
अमोल पालेकर। -फाइलअमोल पालेकर। -फाइल

  • पालेकर ने कहा- आज दिल्ली से तय होता है कि किस कलाकार की प्रदर्शनी लगेगी
  • संस्कृति मंत्रालय ने स्थानीय कलाकारों की समिति भंग कर दी, इसके बाद कई लोगों ने उन्हें टोका

Dainik Bhaskar

Feb 10, 2019, 06:18 PM IST

मुंबई. केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की आलोचना करने पर अभिनेता अमोल पालेकर के भाषण में कई बार रोक-टोक की गई। वे शनिवार को नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (एनजीएमए) के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। पालेकर ने एनजीएमए में लगाई जा रही आर्ट गैलरी पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि स्थानीय कलाकारों की समितियों को भंग कर दिया गया। दिल्ली से तय होता है कि किस कलाकार की प्रदर्शनी लगेगी।

 

एनएमजीए में आर्टिस्ट प्रभाकर बर्वे की याद में एग्जिबिशन लगाई गई है। पालेकर इसके उद्घाटन में अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कहा, ''2017 में यह जानकर बहुत खुशी हुई कि एनजीएमए कोलकाता और पूर्वोत्तर में अपनी शाखा खोलने जा रहा है। मुंबई में भी इसको बढ़ाने की खबर आई थी। लेकिन 13 नबंवर, 2018 को एक और त्रासदीपूर्ण निर्णय ले लिया गया।'' इसके बाद क्यूरेटर जेसल ठक्कर ने उन्हें टोका और कहा कि आप प्रभाकर बर्वे के बारे में बोलिए, यह कार्यक्रम उनके योगदान को लेकर हो रहा है।

 

आजादी का सागर सिमट रहा है: पालेकर

लगातार टोके जाने पर पालेकर ने कहा, ''क्या आप चाहती हैं कि मैं आगे न बोलूं। ये जो सेंसरशिप है, हमसे कहा जा रहा है कि ये मत बोलो, वो मत बोलो, ये मत खाओ, वो मत खाओ। एनजीएमए कला की अभिव्यक्ति और विविध कला को देखने का पवित्र स्थान है, उस पर कैसा नियंत्रण। मैं इससे परेशान हूं। आजादी का सागर सिमट रहा है। इसे लेकर खामोश क्यों हैं? कुछ दिन पहले अभिनेत्री नयनतारा सहगल को मराठी साहित्य सम्मेलन में आने से रोका गया, क्योंकि वह जो बोलने वाली थीं, वो मौजूदा हालात की आलोचना थी। क्या हम यहां भी ऐसे हालात बना रहे हैं।''

COMMENT