• Hindi News
  • National
  • Bulli Bai App Mumbai Police | Mumbai Police Detained Engineering Student From Bangalore, Delhi Police Also Started Investigation

बुली बाई ऐप केस:मुंबई पुलिस ने बेंगलुरु से इंजीनियरिंग स्टूडेंट को हिरासत में लिया, दिल्ली पुलिस ने भी शुरू की जांच

20 दिन पहले

मुस्लिम महिलाओं की ऑनलाइन नीलामी करने वाले बुली बाई ऐप के मामले में मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने सोमवार को एक युवक को हिरासत में लिया है। मुंबई पुलिस ने आरोपी की पहचान का खुलासा नहीं किया है, लेकिन यह जानकारी दी है कि 21 साल का आरोपी युवक बेंगलुरु में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है। उसे बुली बाई ऐप के 5 फॉलोअर्स में से एक बताया गया है। अब पुलिस उसे मुंबई ला रही है।

उधर, दिल्ली पुलिस ने गिटहब प्लेटफॉर्म से इस ऐप के डेवलपर की जानकारी मांगी है। साथ ही ट्विटर को अपने प्लेटफॉर्म से इससे जुड़ा आपत्तिजनक कंटेट हटाने को कहा है।

अज्ञात आरोपी के खिलाफ FIR
वेस्ट मुंबई साइबर पुलिस स्टेशन में इस मामले में रविवार को दिन में अज्ञात आरोपी के खिलाफ IT एक्ट और IPC की विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। यह FIR उन शिकायतों के आधार पर दर्ज की गई है, जिनमें गिटहब प्लेटफॉर्म पर बुली बाई ऐप में महिलाओं के एडिटेड फोटो अपलोड कर उनकी नीलामी करने का आरोप लगाया गया है।

साइबर एक्ट की धाराओं में मुकदमा
मुंबई पुलिस ने इस FIR में IPC की धारा 153-ए (धार्मिक आधार पर दो समुदायों के बीच भेदभाव को बढ़ाना), 153-बी (जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचाने की कोशिश करना), 354-डी (पीछा करना), 509 (महिला के सम्मान को ठेस पहुंचाने की नीयत वाले शब्द या व्यवहार का उपयोग करना) और 500 (आपराधिक मानहानि) शामिल की गई हैं। साथ ही IT एक्ट की धारा 67 (इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में आपत्तिजनक मटीरियल पब्लिश करना या भेजना) भी शामिल की गई है।

पुलिस ने डेवलपर की जानकारी मांगी
दिल्ली पुलिस ने सोमवार सुबह डॉजी एप्लिकेशन (dodgy application) के डेवलपर के बारे में गिटहब प्लेटफॉर्म से जानकारी मांगी है। वहीं, ट्विटर से अपने प्लेटफॉर्म पर संबंधित कंटेंट को ब्लॉक करने और हटाने के लिए कहा गया है। पुलिस ने ट्विटर से ऐप के बारे में सबसे पहले ट्वीट करने वाले अकाउंट हैंडलर के बारे में भी जानकारी मांगी है।

प्रियंका चतुर्वेदी ने की थी शिकायत
मुस्लिम महिलाओं और कई राजनीतिक दलों ने बुली बाई ऐप का विरोध किया था। शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने इस बारे में ट्वीट के जरिए केंद्रीय IT मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव से शिकायत भी की थी।

IT मिनिस्टर ने ऐप को ब्लॉक कराया
शिवसेना सांसद की शिकायत पर IT मिनस्ट्री ने बुली बाई ऐप को ब्लॉक कर दिया है। IT मिनिस्टर वैष्णव ने शनिवार देर रात प्रियंका को रिप्लाई करते हुए ऐप को ब्लॉक करने की जानकारी दी थी। साथ ही बताया था कि पुलिस ऐप के डेवलपर्स पर कार्रवाई की तैयारी कर रही है।

दिल्ली और मुंबई पुलिस ने शुरू की जांच
इसके बाद प्रियंका चतुर्वेदी की शिकायत पर मुंबई पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा दिल्ली पुलिस में एक जर्नलिस्ट ने भी शिकायत दर्ज कराई है। कुछ मुस्लिम महिलाओं के साथ उन्हें भी इस ऐप पर नीलामी के लिए रखा गया था।

पिछले साल सुल्ली डील्स को लेकर हुआ था विरोध
बुली बाई ऐप को सुल्ली डील्स का क्लोन बताया जा रहा है। पिछले साल जुलाई में सुल्ली डील को लेकर भी काफी विरोध किया गया था। सुल्ली वह टर्म है, जिसका इस्तेमाल चरमपंथी मुस्लिम महिलाओं का अपमान करने के लिए करते हैं।

हालांकि, दोनों ही मामलों में किसी तरह की नीलामी को अंजाम नहीं दिया गया है, लेकिन इन ऐप्स का मकसद मुस्लिम महिलाओं को प्रताड़ित करना, उन्हें शर्मिंदा करना और नीचा दिखाना है।

खबरें और भी हैं...