सेंट्रल विस्टा का ड्रोन VIDEO:20 हजार करोड़ का प्रोजेक्ट; इसमें रेड ग्रेनाइट का वॉकवे, 16 पुल और फूड स्टॉल

नई दिल्ली3 महीने पहले

दिल्ली के ऐतिहासिक राजपथ और सेंट्रल विस्टा लॉन का रीडेवलपमेंट किया गया है। अब इनका नाम बदल कर 'कर्तव्य पथ' रख दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 8 सितंबर को इसका उद्घाटन करेंगे। सेंट्रल विस्टा एवेन्यू विजय चौक से इंडिया गेट तक 3.2 किमी में फैला हुआ है। प्रोजेक्ट को पूरा करने में 20 हजार करोड़ रुपए लगे हैं। इसे डिजाइन करने वाले डॉ बिमल पटेल है। यहां रेड ग्रेनाइट से बने 15.5 किमी के वॉकवे से लेकर 16 पुल और फूड स्टाल तक की व्यवस्था की गई है। इसे लगभग 20 महीने बाद आम लोगों के लिए खोला जाएगा।

यह पहला ऐसा प्रोजेक्ट है, जो मोदी सरकार के सेंट्रल विस्टा रीडेवलपमेंट प्लान के तहत पूरा हुआ है। सेंट्रल विस्टा प्लान की घोषणा सितंबर 2019 में की गई थी। 10 दिसंबर 2020 को PM नरेंद्र मोदी ने इसकी नींव रखी थी। हालांकि यहां की कुछ इमारतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इनमें राष्ट्रपति भवन, इंडिया गेट, वॉर मेमोरियल, हैदराबाद हाउस, रेल भवन, वायु भवन रि-डेवलपमेंट प्रोजेक्ट का हिस्सा नहीं हैं।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में ये डेवलपमेंट भी शामिल

  • नया त्रिकोणीय संसद भवन
  • सामान्य केंद्रीय सचिवालय (सेक्रेट्रिएट)
  • तीन किलोमीटर के राजपथ का सुधार
  • नया प्रधानमंत्री आवास
  • नया प्रधानमंत्री कार्यालय
  • नया उपराष्ट्रपति एन्क्लेव

नया त्रिकोणीय संसद भवन पार्लियामेंट हाउस स्टेट के प्लॉट नंबर 118 पर तैयार हो रहा है। पूरा प्रोजेक्ट 64,500 स्क्वायर मीटर में फैला है। संसद की मौजूदा बिल्डिंग 16,844 वर्ग मीटर में फैली है। संसद की नई बिल्डिंग 20,866 वर्ग मीटर में फैली हुई है। यानी, पुरानी बिल्डिंग से करीब 4 हजार वर्ग मीटर ज्यादा बड़ी है। इसमें सांसदों के लिए लाउंज, महिलाओं के लिए लाउंज, लाइब्रेरी, डाइनिंग एरिया जैसे कई कम्पार्टमेंट होंगे।

फोटोज में देखें पहले और अब का सेंट्रल विस्टा...

इंडिया गेट से राष्ट्रपति भवन तक राजपथ के दोनों तरफ के हिस्से को सेंट्रल विस्टा कहते हैं।
इंडिया गेट से राष्ट्रपति भवन तक राजपथ के दोनों तरफ के हिस्से को सेंट्रल विस्टा कहते हैं।
विजय चौक से इंडिया गेट तक 3 किमी लंबा राजपथ कई सुविधाओं के साथ तैयार किया गया है।
विजय चौक से इंडिया गेट तक 3 किमी लंबा राजपथ कई सुविधाओं के साथ तैयार किया गया है।
रेड-ग्रेनाइट वॉकवे जो चारों ओर हरियाली के साथ लगभग 1.1 लाख वर्ग मीटर फैला हुआ है।
रेड-ग्रेनाइट वॉकवे जो चारों ओर हरियाली के साथ लगभग 1.1 लाख वर्ग मीटर फैला हुआ है।
नए सिरे से बनाए गए फूड स्टॉल और पार्किंग में चौबीस घंटे सुरक्षा व्यवस्था रहेगी।
नए सिरे से बनाए गए फूड स्टॉल और पार्किंग में चौबीस घंटे सुरक्षा व्यवस्था रहेगी।
यहां 133 से ज्यादा लाइट पोल लगाए गए हैं। एवेन्यू में पार्किंग एक-दो महीने के लिए फ्री रहेगी।
यहां 133 से ज्यादा लाइट पोल लगाए गए हैं। एवेन्यू में पार्किंग एक-दो महीने के लिए फ्री रहेगी।
नहर को पूरी तरह से साफ किया गया है, पैदल चलने वालों के लिए 16 पुल भी बनाए गए हैं। यहां बोटिंग भी कर सकते हैं।
नहर को पूरी तरह से साफ किया गया है, पैदल चलने वालों के लिए 16 पुल भी बनाए गए हैं। यहां बोटिंग भी कर सकते हैं।
यहां 3 लाख 90 हजार स्कवायर मीटर ग्रीन एरिया है, जहां 4,087 पेड़ लगाए गए हैं। यहां
यहां 3 लाख 90 हजार स्कवायर मीटर ग्रीन एरिया है, जहां 4,087 पेड़ लगाए गए हैं। यहां
वॉकवे के साइड में लगे बोल्डर और चेन्स को भी बदला गया है। 1,125 कारों और 40 बसों की पार्किंग की जा सकती है।
वॉकवे के साइड में लगे बोल्डर और चेन्स को भी बदला गया है। 1,125 कारों और 40 बसों की पार्किंग की जा सकती है।
लोगों के टहलने के लिए 16.5 किमी का पाथ वे तैयार किया गया है। इस रास्ते पर रेड ग्रेनाइट लगाए गए हैं।
लोगों के टहलने के लिए 16.5 किमी का पाथ वे तैयार किया गया है। इस रास्ते पर रेड ग्रेनाइट लगाए गए हैं।

इस खबर से जुड़ी अन्य खबरें यहां पढ़ें...