• Hindi News
  • National
  • Narendra Modi Government 8 Years: BJP Leaders And Ministers Meeting In Delhi Today

मोदी सरकार के 8 साल:दिल्ली में भाजपा के बड़े नेताओं की मीटिंग आज, दो हफ्ते में बड़े इवेंट्स की तैयारी

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

30 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के 8 साल पूरे होंगे। इस मौके पर भाजपा देश भर में बड़े स्तर पर इवेंट्स आयोजित करने जा रही है। इसकी तैयारी के लिए आज भाजपा के दिल्ली हेडक्वार्टर में केंद्रीय मंत्रियों और सीनियर भाजपा नेताओं की बैठक होने वाली है। यह इवेंट्स 30 मई से 14 जून तक आयोजित किए जाएंगे।

भाजपा मुख्यालय में होने वाली मीटिंग की अध्यक्षता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा करेंगे। साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा महासचिव बीएल संतोष और सभी केंद्रीय मंत्री मौजूद रहेंगे। मीटिंग में सरकार की ओर से लाए गए पब्लिक वेलफेयर स्कीम को जनता तक पहुंचाने को लेकर चर्चा की जाएगी। इन इवेंट्स का आयोजन 'सेवा, सुशासन और गरीब कल्याण' थीम पर किया जाएगा।

सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी दी जाएगी
भाजपा के सूत्रों के मुताबिक, मीटिंग में 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले सभी सभी सांसदों को पार्टी को मजबूत करने की जिम्मेदारी दी जाएगी। सभी सांसद अपने- अपने संसदीय क्षेत्रों में जुटने की जिम्मेदारी दी जाएगी। इन इवेंट्स का आयोजन जनता तक सरकार की सभी पॉलिसी पहुंचाने के उद्देश्य से किया जा रहा है।

इससे पहले 20 मई को जयपुर में हुई भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं की बैठक में एक ब्लूप्रिंट तैयार किया गया। इसमें जनता के सामने सरकार के कामों की रिपोर्ट कार्ड पेश करने की बात हुई।

बूथ सशक्तिकरण अभियान

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आज दिल्ली भाजपा कार्यालय में आयोजित 'बूथ सशक्तिकरण अभियान' कार्यक्रम में अपनी बात रखी।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आज दिल्ली भाजपा कार्यालय में आयोजित 'बूथ सशक्तिकरण अभियान' कार्यक्रम में अपनी बात रखी।

इससे पहले आज भी भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने एक मीटिंग ली। इस मीटिंग में देशभर में पार्टी बूथ को मजबूत करने की बात कही गई। इस दौरान पार्टी के सभी सचिव मीटिंग में मौजूद थे। इसके अलावा भाजपा के सभी सांसद और विधायक मीटिंग से वर्चुअली जुड़े हुए थे।

इस मीटिंग का मुख्य फोकस कमजोर बूथ को मजबूत करना और ऐसे इलाकों में लोगों तक पहुंच बनाना था। हर विधायक को 25 कमजोर बूथ की जिम्मेदारी दी गई। वहीं, सांसदों को 100 बूथ की जिम्मेदारी दी गई।