चर्चित किस्सा / दिलीप कुमार के ‘प्रचार’ से हार गए थे एनडी तिवारी



ND Tiwari was defeated by Dilip Kumar's 'campaign'
X
ND Tiwari was defeated by Dilip Kumar's 'campaign'

  • राजीव गांधी के निधन के बाद प्रधानमंत्री पद के संभावित दावेदारों में से शामिल थें तिवारी

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 06:28 AM IST

तीन बार यूपी और एक बार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे दिग्गज कांग्रेसी नेता स्व. नारायण दत्त तिवारी 1991 का लोकसभा चुनाव स्टार प्रचारक अभिनेता दिलीप कुमार की वजह से हार गए थे। तब तिवारी नैनीताल से चुनाव लड़ रहे थे उनका मुकाबला भाजपा के नए उम्मीदवार बलराज पासी से था। लग रहा था तिवारी आसानी से चुनाव जीत जाएंगे। लेकिन ऐसा हो नहीं पाया।

 

तिवारी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि ‘दिलीप कुमार ने बहेड़ी में चुनाव प्रचार किया। बरेली जिले की यह विधानसभा तब नैनीताल लोकसभा सीट का हिस्सा थी। दिलीप कुमार ने जनता से तिवारी को जिताने की अपील की।’ बकौल तिवारी उन्हें पता नहीं था कि दिलीप कुमार का असली नाम ‘यूसुफ खान’ है।

 

बहेड़ी की जनता में यह संदेश गया कि यूसुफ खान उनकी सिफारिश कर रहे हैं और उन्होंने तिवारी को 11 हजार वोटों से हरा दिया। तिवारी को सभी विस क्षेत्रों में अधिक वोट मिले लेकिन सिर्फ बहेड़ी में विरोध में पड़े वोटों की वजह से हार गए।

 

राजीव गांधी के निधन के बाद कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री पद के संभावित दावेदारों में तिवारी भी शामिल थे। तिवारी का वरिष्ठता के चलते दावा सर्वाधिक मजबूत था, लेकिन उनकी हार की वजह से पीवी नरसिम्हाराव को प्रधानमंत्री बनने का मौका मिला।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना