पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Parliament Winter Session: NDA Allies Demand Convenor For Better Coordination In Meeting With Narendra Modi

मोदी ने सहयोगियों से कहा- हमारा परिवार बड़ा है, छोटे-मोटे मतभेदों से यह बिखरना नहीं चाहिए

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संसद में रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी और संसदीय मामलों के राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल।
  • महाराष्ट्र के सियासी हालात को देखते हुए सहयोगी दलों ने समन्वय के लिए संयोजक बनाने की मांग की
  • लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा- छोटे-मोटे मतभेद को दूर करने के लिए एक व्यवस्था बनाई जाए

नई दिल्ली. संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने से एक दिन पहले रविवार को एनडीए के सहयोगी दलों की बैठक हुई। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह के अलावा अन्य वरिष्ठ मंत्री और नेता शामिल हुए। मोदी ने कहा कि एनडीए एक बहुत बड़ा परिवार है और छुटपुट मतभेदों से हमें बिखरना नहीं चाहिए। महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन टूटने के बाद बैठक के दौरान सहयोगी दलों ने कहा कि समन्वय को बेहतर बनाने के लिए संयोजक बनाया जाए। लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि छोटे-मोटे मतभेदों को दूर करने के लिए एनडीए में एक व्यवस्था का निर्माण किया जाना चाहिए।
 

एनडीए 130 करोड़ भारतीयों की आशाओं का प्रतिनिधि- मोदी
नरेंद्र मोदी ने बैठक में कहा- एनडीए के सहयोगियों की विचारधारा अलग-अलग हो सकती है, लेकिन हम एक बड़े परिवार की तरह हैं और छोटे-मोटे मतभेदों के चलते हमें बिखरना नहीं चाहिए। बैठक के बाद मोदी ने कहा- बैठक बहुत अच्छी रही। हमारा गठबंधन भारत की विविधता और 130 करोड़ भारतीयों की आशाओं का प्रतिनिधित्व करता है। हम किसानों, युवाओं, नारी शक्ति और गरीबों की जिंदगी में बदलाव लाने के लिए कोई भी कसर बाकी नहीं रखेंगे। अमित शाह और जेपी नड्डा ने सहयोगियों से अपील की कि शीतकालीन सत्र के दौरान बेहतर फ्लोर मैनेजमेंट और संयोजन किया जाना चाहिए।
 

शिवसेना पुरानी सहयोगी थी, बैठक में गैरमौजूदगी का अहसास हुआ- चिराग
चिराग ने कहा- मैंने व्यक्तिगत तौर पर आज बैठक के दौरान शिवसेना की गैरमौजूदगी को महसूस किया है। शिवसेना एनडीए के पुराने सहयोगियों में से एक थी। यह चिंता का विषय है कि पहले तेदेपा और फिर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने एनडीए को छोड़ दिया। भाजपा और शिवसेना के बीच महाराष्ट्र में जो हुआ, उसे टाला जा सकता था अगर एनडीए के सहयोगियों के बीच बेहतर समन्वय होता। आने वाले सत्र में हम सभी सहयोगी मिलकर काम करेंगे, इस तरह की और बैठकें भी होनी चाहिए। एनडीए संयोजक या संयोजन समिति का गठन किया जाना चाहिए। अपना दल, जदयू और कुछ अन्य दलों ने भी यही मांग उठाई।
 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिवार में प्रॉपर्टी या किसी अन्य मुद्दे को लेकर जो गलतफहमियां चल रही थी आज वह किसी की मध्यस्थता से दूर होंगी। जिसकी वजह से परिवार का माहौल शांतिपूर्ण हो जाएगा। घर में नवीनीकरण या परिवर्तन सं...

और पढ़ें