आज का इतिहास:आज भी रहस्य है नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत, तीन कमेटियों की जांच के बाद भी नहीं सुलझी गुत्थी

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आज 125वीं जयंती है। देश के लोग अब इंडिया गेट पर भी उन्हें देख सकेंगे। प्रधानमंत्री मोदी आज नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करेंगे। सुभाष चंद्र बोस साहस, नेतृत्व कौशल और असाधारण वक्ता थे। वे खुद तो भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल थे ही साथ ही अन्य कई लोगों को भारतीय राष्ट्रीय सेना में शामिल होने और भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए प्रेरित किया था। ऐसे में पिछले साल सरकार ने उनकी जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया था।

नेताजी का निधन हुए 76 साल हो चुके हैं, लेकिन, उनकी मौत आज भी रहस्य बनी हुई है। उनकी मौत का सच जानने के लिए तीन कमेटियां बनीं। दो ने कहा उनकी मौत प्लेन क्रैश में हुई। तीसरी रिपोर्ट में कहा गया ‍कि ऐसा कोई प्लेन क्रैश ही नहीं हुआ तो हादसे में जान जाने की बात कैसे सही मानी जाए। उनके निधन के सालों बाद तक देश के अलग-अलग हिस्सों में नेताजी को देखे जाने के दावे किए जाते रहे।

बात 18 अगस्त 1945 की है। जापान दूसरा विश्व युद्ध हार चुका था। अंग्रेज नेताजी के पीछे पड़े हुए थे। इसे देखते हुए उन्होंने रूस से मदद मांगने का मन बनाया। 18 अगस्त 1945 को उन्होंने मंचूरिया की तरफ उड़ान भरी। इसके बाद किसी को फिर वो दिखाई नहीं दिए।

5 दिन बाद टोक्यो रेडियो ने जानकारी दी कि नेताजी जिस विमान से जा रहे थे वो ताइहोकू हवाई अड्डे के पास क्रैश हो गया। इस हादसे में नेताजी बुरी तरह से जल गए। ताइहोकू सैनिक अस्पताल में उनका निधन हो गया। उनके साथ सवार बाकी लोग भी मारे गए। आज भी उनकी अस्थियां टोकियो के रैंकोजी मंदिर में रखी हुई हैं।

इधर, आजाद भारत की सरकार ने तीन बार इस घटना की जांच के आदेश दिए। पहले दोनों बार प्लेन क्रैश को हादसे का कारण बताया गया। 1999 में तीसरा आयोग मनोज कुमार मुखर्जी के नाम पर बना। इस आयोग की रिपोर्ट में ताइवान सरकार के हवाले से कहा गया कि 1945 में कोई प्लेन क्रैश की घटना ही नहीं हुई। इस प्लेन क्रैश का कोई रिकॉर्ड नहीं है। हालांकि, सरकार ने इस रिपोर्ट को अस्वीकार कर दिया था।

गुमनामी बाबा के नेताजी होने का दावा किया जाता है

नेताजी के निधन के बाद भी देश के कई इलाकों में उनको देखे जाने के दावे किए जाते रहे। फैजाबाद में गुमनामी बाबा से लेकर छत्तीसगढ़ में उनको देखे जाने की खबरें आईं। छत्तीसगढ़ में ये मामला राज्य सरकार के पास गया, लेकिन, सरकार ने मामले में हस्तक्षेप करने से मना कर दिया।

जिन गुमनामी बाबा के नेताजी होने का दावा किया जाता है, उनके निधन के बाद उनके पास से नेताजी के परिवार की तस्वीरें, पत्र-पत्रिकाओं में छपे नेताजी से जुड़े लेख, कई अहम लोगों के पत्र, नेताजी की कथित मौत के मामले की जांच के लिए गठित शाहनवाज आयोग एवं खोसला आयोग की रिपोर्ट जैसी चीजें मिलीं।

भारत और दुनिया में 23 जनवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं इस प्रकार हैंः

2009: फिल्मों और टीवी प्रोग्राम पर धूम्रपान के दृश्यों पर प्रतिबंध लगाया गया।

2002: अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल को पाकिस्तान के कराची में किडनैप कर उनकी हत्या कर दी गई।

1997: मेडलीन अल्ब्राइट राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की सरकार में विदेश मंत्री बनीं। वे अमेरिका की पहली महिला विदेश मंत्री थीं।

1977: इंदिरा गांधी के नेतृत्व के खिलाफ कई राजनीतिक दलों ने मिलकर जनता पार्टी की स्थापना की।

1989: तजाकिस्तान में भूकंप में सैकड़ों लोगों की जान गई।

1976: गौतम बुद्ध के लापता शहर कपिल वस्तु को खुदाई के बाद ढूंढा गया था।

1973: अमेरिका के प्रेसीडेंट निक्सन ने वियतनाम शांति समझौते की घोषणा की। ये अमेरिका की तरफ से लड़ा गया सबसे लंबा युद्ध था। युद्ध विराम 27 जनवरी से लागू हुआ था।

1926: शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे का जन्म हुआ।

1920: वायु परिवहन और वायु डाक सेवा की शुरुआत की गई थी।

1664: शिवाजी के पिता शाहूजी का निधन हुआ था।

1474: पेंटाट्यूच (Pentateuch) यहूदियों की पवित्र पुस्तकें पहली बार प्रिंट की गईं। ये मूसा की बनाई पांच पुस्तकें थीं।