अमेरिकी चुनाव / अब फेसबुक नहीं, इंस्टाग्राम से बड़ा खतरा

इंस्टाग्राम (फाइल)। इंस्टाग्राम (फाइल)।
X
इंस्टाग्राम (फाइल)।इंस्टाग्राम (फाइल)।

दैनिक भास्कर

Jan 05, 2020, 09:58 AM IST

द इकोनॉमिस्ट से विशेष अनुबंध के तहत- फेसबुक अपने प्लेटफॉर्म पर फेक न्यूज, पक्षपातपूर्ण कंटेंट, अजीबो-गरीब लेख, कॉन्स्पीरेसी थ्योरी आदि के लिए काफी बदनाम रही है। 2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में फेसबुक काफी विवादित रही। चुनाव के बाद रूस का दखल भी सामने आया। अब इस साल होने वाले अमेरिकी चुनाव में यही काम फोटो और वीडियो शेयरिंग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम पर हो सकता है। यह भी फेसबुक की ही कंपनी है।

इंस्टाग्राम दुनियाभर में तेजी से प्रसिद्ध हो रहा है। इसका एक बड़ा कारण है कि फेसबुक के अव्यवस्थित इंटरफेस और प्राइवेसी पर उठ रहे सवाल से लोग अब इस प्लेटफॉर्म से दूरी कर रहे हैं। जबकि इंस्टाग्राम पर पोस्ट की जाने वाली खूबसूरत तस्वीरें यूजर्स को आकर्षित कर रही हैं। इंस्टाग्राम की ‘स्टोरीज’ लोगों को काफी पसंद आती है। इसमें 24 घंटे के लिए पिक्चर्स और वीडियो की फीड डाली जा सकती है।

जून 2016 में इंस्टाग्राम के 50 करोड़ यूजर्स थे, जो जून 2018 तक बढ़कर एक अरब हो गए। अमेरिकन कांग्रेस के करीब आधे सदस्य और एक तिहाई सिनेटर्स से ज्यादा इंस्टाग्राम पर हैं। इसका इस्तेमाल भी बहुत ज्यादा किया जा रहा है। पॉलिटिक्स वेबसाइट एक्सीओज के मुताबिक इंस्टाग्राम का दसवां सबसे बड़ा अकाउंट, फेसबुक के सबसे बड़े अकाउंट से तीन गुना ज्यादा हिट पाता है।

सीनेट इंटेलिजेंस कमेटी की एक रिपोर्ट कहती हैं कि 2016 के चुनाव में इंस्टाग्राम की भूमिका पर ज्यादा बात नहीं हुई है। न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी ने भी चेतावनी दी है कि इस चुनाव में इंस्टाग्राम पर भ्रमित करने वाली जानकारियां फैलाई जा सकती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना