• Hindi News
  • National
  • once little noticed PhonePe is now emerging as surprise benefit for Walmart post Flipkart acquisition

फायदा / वॉलमार्ट को फ्लिपकार्ट डील में मिले फोन-पे का मौजूदा वैल्यूएशन 68 हजार करोड़ रुपए



once little noticed PhonePe is now emerging as surprise benefit for Walmart post Flipkart acquisition
X
once little noticed PhonePe is now emerging as surprise benefit for Walmart post Flipkart acquisition

  • वॉलमार्ट ने पिछले साल मई में फ्लिपकार्ट को 1.07 लाख करोड़ रुपए में खरीदा था
  • यानी जितना खर्च किया उसका 64% फोन-पे के वैल्यूएशन से ही कवर हो गया
  • डिजिटल पेमेंट सेगमेंट में फोन-पे देश की दूसरी बड़ी कंपनी

Dainik Bhaskar

Jul 11, 2019, 08:48 AM IST

बेंगलुरु. पिछले साल वॉलमार्ट ने जब भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी को करीब 1.07 लाख करोड़ रुपए खरीदा था, तब डील में मिली डिजिटल पेमेंट इकाई फोन-पे के ऊपर वॉलमार्ट ने शायद ही ज्यादा ध्यान दिया होगा। आज की तारीख में फोन-पे देश टॉप स्टार्टअप की सूची में शामिल है और ताजा आंकड़ों के मुताबिक फोन-पे का वैल्यूएशन 68,000 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है।

पिछले एक साल में फोन-पे के लेन-देन की वैल्यू में 4 गुना इजाफा

  1. फ्लिपकार्ट के बोर्ड ने हाल ही में फोन-पे को नई इकाई में बदलने और करीब 6,800 करोड़ रुपए जुटाने की अनुमति दी है। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद फोन-पे का वैल्यूएशन करीब 68,000 करोड़ रुपए हो जाएगा। अगले 1-2 महीने में डील होने की संभावना है।

  2. फोन-पे देश में डिजिटल पेमेंट सेक्टर में प्रमुख कंपनियों में से एक है। पिछले कुछ समय में पैसे भेजने और बिजनेस लेनदेन में डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल ज्यादा शुरू हुआ है। इसका फायदा फोन-पे को भी मिला है। पिछले एक साल में कंपनी के वॉल्यूम और लेनदेन की वैल्यू में चार गुना का इजाफा हुआ। फोन-पे का मुकाबला पेटीएम से है। कीबैंक कैपिटल मार्केट के एक एनालिस्ट का कहना है कि फोन-पे, वॉलमार्ट के लिए एक वैल्यूएबल एसेट है।

  3. एक साल में ही बिक गई थी फोन-पे

    फ्लिपकार्ट को छोड़कर तीन दोस्तों ने दिसंबर 2015 में फोन-पे की शुरुआत की थी। फ्लिपकार्ट के फाउंडर बिन्नी बंसल और सचिन बंसल ने एक साल के अंदर ही फोन-पे को खरीद लिया। सरकार ने 8 नवंबर 2016 को अचानक नोटबंदी का फैसला लिया। इससे डिजिटल पेमेंट कंपनियों की तेजी से ग्रोथ हुई।

  4. बिन्नी और सचिन बंसल फ्लिपकार्ट को बेचते समय फोन-पे के पोटेंशियल को समझ नहीं पाए। वॉलमार्ट को फोन-पे, फ्लिपकार्ट के साथ हुई डील में मिली। इसका अंदाजा शायद लोगों को नहीं था कि कंपनी का कारोबार बहुत तेजी से बढ़ेगा और वह देश की प्रमुख डिजिटल पेमेंट कंपनियों में शुमार हो जाएगी।

  5. कंपनी के यूजर्स पिछले एक साल में चार गुना बढ़े

    कंपनी के अनुसार इस साल में जून में 29 करोड़ लोगों तक फोन-पे एप की पहुंच थी और कुल लेनदेन करीब 85 अरब डॉलर का रहा जबकि एक साल पहले कंपनी के पास 7.1 करोड़ उपभोक्ता थे और कुल लेनदेन 22 अरब डॉलर का रहा था। कंपनी ने हाल में म्यूचुअल फंड, मूवी टिकट और एयरलाइन बुकिंग में सेवाएं देना शुरू किया है। इसके अलावा फोनपे ने आमिर खान को ब्रांड एम्बेसडर बनाया है।

  6. 70 लाख करोड़ का होगा डिजिटल पेमेंट ट्रांजेक्शन

    क्रेडिट सुइस की एक रिपोर्ट के अनुसार 2023 तक देश में डिजिटल पेमेंट ट्रांजेक्शन 70 लाख करोड़ रुपए होने की संभावना है। अभी यह 14 लाख करोड़ रु. का है। डिजिटल पेमेंट में पेटीएम सबसे आगे है। फोन-पे के अलावा मोबीक्विक, अमेजन-पे, गूगल-पे, पेपल और रेजर-पे दूसरे प्रमुख खिलाड़ी हैं। वॉट्सऐप भी इस फील्ड में आने वाला है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना