• Hindi News
  • National
  • P Chidambaram, P Chidambaram INX Media Case Live; P Chidambaram Bail Plea Hearing in Supreme Court News Update

सुप्रीम कोर्ट / चिदंबरम की सोमवार तक ईडी मामले में गिरफ्तारी नहीं होगी, सीबीआई केस में राहत नहीं



पी चिदंबरम। पी चिदंबरम।
X
पी चिदंबरम।पी चिदंबरम।

  • चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने कहा- जिस तरह से मामले को डील किया जा रहा है, वह परेशान करने वाला
  • सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को चिदंबरम को 26 अगस्त तक सीबीआई की रिमांड में रखने का आदेश दिया था

Dainik Bhaskar

Aug 23, 2019, 02:11 PM IST

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को आईएनएक्स मीडिया केस में पी चिदंबरम की अंतरिम जमानत याचिका पर सुनवाई हुई। कोर्ट ने ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) मामले में सोमवार तक चिदंबरम को गिरफ्तार न करने के लिए कहा, लेकिन सीबीआई मामले में कोई राहत नहीं दी। पूर्व वित्त मंत्री सोमवार (26 जुलाई) तक सीबीआई की रिमांड पर हैं। आईएनएक्स मामले में ईडी और सीबीआई द्वारा दायर मामलों पर अब सोमवार को ही सुनवाई होगी। आईएनएक्स मामले में ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग और सीबीआई ने भ्रष्टाचार का केस दायर किया है। 

 

सिब्बल ने कहा- न्याय पाना चिदंबरम का बुनियादी हक
चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने कहा, ‘‘इंसाफ पाना चिदंबरम का मूल अधिकार है। दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ हमने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। लेकिन जिस तरह से मामले को डील किया जा रहा है, वह बेचैन करने वाला है। हाईकोर्ट में जिरह खत्म होने के बाद सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जस्टिस गौर को नोटिस दे दिया। हमें जवाब देने का भी मौका नहीं दिया गया।’’

 

इस पर मेहता ने कहा, ‘‘गलत बयानी मत कीजिए। बहस खत्म होने के बाद मैंने कोई नोटिस नहीं दिया।’’ सिब्बल बोले कि क्या कसम खाकर ऐसा कह सकते हैं? सिब्बल के मुताबिक, ‘‘हाईकोर्ट का फैसला शब्दश: यहां है। कॉमा की जगह कॉमा और पूर्णविराम की जगह पूर्णविराम लगा है। कॉपी में सबकुछ है, लिहाजा यही चिदंबरम को जमानत न देने का आधार बन गया।’’

 

 

चिदंबरम जांच में सहयोग नहीं कर रहे: सीबीआई के वकील

सीबीआई के वकील सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने गुरुवार को कहा था कि चिदंबरम ने जांच में सहयोग नहीं किया। पूछताछ के लिए उन्हें 5 दिन की सीबीआई रिमांड पर भेजा जाए। इसका विरोध करते हुए चिदंबरम के वकील ने कहा कि सीबीआई के हिसाब से जवाब न देने को असहयोग नहीं कहा जाएगा। कपिल सिब्बल ने दलील दी थी कि जब सीबीआई के पास सवाल तक तैयार नहीं हैं तो फिर रिमांड क्यों चाहिए?

 

चिदंबरम से मिलने के लिए 30 मिनट का समय मिलेगा
जस्टिस कुहार ने कहा- तथ्यों और हालात के मद्देनजर चिदंबरम को कस्टडी में भेजा जाना न्यायपूर्ण है। रिमांड के दौरान चिदंबरम के वकील और परिजनों को रोजाना 30 मिनट मिलने का समय दिया जाएगा। चिदंबरम को बुधवार रात 10.25 बजे सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। 

 

वित्त मंत्री रहते हुए विदेशी निवेश की मंजूरी दी थी
आरोप है कि चिदंबरम ने वित्त मंत्री रहते हुए रिश्वत लेकर आईएनएक्स को 2007 में 305 करोड़ रु. लेने के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड से मंजूरी दिलाई थी। जिन कंपनियों को फायदा हुआ, उन्हें चिदंबरम के सांसद बेटे कार्ति चलाते हैं। सीबीआई ने 15 मई 2017 को केस दर्ज किया था। 2018 में ईडी ने भी मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया। एयरसेल-मैक्सिस डील में भी चिदंबरम आरोपी हैं। इसमें सीबीआई ने 2017 में एफआईआर दर्ज की थी।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना