• Hindi News
  • National
  • Pakistan FATF: Pakistan Lashkar e Taiba frontal outfit Falah e Insaniyat Foundation Active In Cyber World

आस्ट्रेलिया / केंद्रीय मंत्री किशन रेड्‌डी ने कहा- हाफिज का फाउंडेशन फलाह-ए-इंसानियत आंतकी गतिविधियों में संलिप्त



केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्‌डी।(फाइल फोटो) केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्‌डी।(फाइल फोटो)
X
केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्‌डी।(फाइल फोटो)केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्‌डी।(फाइल फोटो)

  • जी किशन रेड्‌डी ने कहा- गैर-लाभकारी संस्थाओं का दुरुपयोग आतंकियों के हितों के लिए हो रहा है
  • उन्होंने कहा- भारत आतंकी फंडिंग रोकने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है, बाकी देशों को भी आगे आना चाहिए

Dainik Bhaskar

Nov 08, 2019, 07:47 PM IST

मेलबर्न. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्‌डी ने शुक्रवार को ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में ‘नो मनी फॉर टेरर’ सम्मेलन को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भारत में मोस्ट वांटेड आतंकी हाफिज सईद का फाउंडेशन फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन अभी भी साइबर वर्ल्ड में सक्रिय है। रेड्‌डी ने कहा कि अमेरिका भी हाफिज के इस फाउंडेशन को आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने की बात कह चुका है। हाफिज सईद फलाहा-ए-इंसानियत का संस्थापक है।

 

किशन रेड्‌डी ने कहा कि भारत हमेशा कहता रहा है कि कुछ गैर-लाभकारी संस्थाओं का दुरुपयोग कट्‌टरवाद और आतंकियों के हितों के लिए हो रहा है। इन संस्थाओं की मदद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चैरिटी और डोनेशन के माध्यम से फंड जुटाए और भेजे जाते हैं। उन्होंने कहा कि भारत आतंकी फंडिंग रोकने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है और दुनिया के अन्य देशों को भी आगे आना चाहिए। भारत ने अपनी जांच में पाया कि आतंकी संगठन फंडिंग के लिए डिजिटल तरीकों को सहारा ले रहे हैं। आतंकवादी संगठन आईएस ने वित्तीय लेनदेन के लिए क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल किया। इसने आतंकियों की भर्ती और युवाओं को बहकाने के लिए डार्क वेब की मदद ली।

 

अगले साल भारत में होगा सम्मेलन

‘नो मनी फॉर टेरर’ सम्मेलन का आयोजन दुनिया के 100 देशों की वित्तीय खुफिया इकाई एगमोंट ग्रूप द्वारा किया जाता है। इसका गठन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनी लॉन्ड्रिंग और आतंक फंडिंग रोकने के लिए गया है। पांच वर्ष पहले बेल्जियम के ब्रसेल्स के एगमोंट एरेनबर्ग पैलेस में किया गया था। इस समूह में शामिल सभी देश अवैध वित्तीय लेन-देन को रोकने के लिए आपस में जानकारी साझा करते हैं। अगले साल भारत नो मनी फॉर टेरर सम्मेलन की मेजबानी करेगा।

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना