पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Parliament Monsoon Session Bills 2021 Update; Kisan Andolan And Pegasus Phone Tapping

संसद में जासूसी विवाद का शोर:केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी बोले- पेगासस कोई मुद्दा ही नहीं; सरकार जनता के मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार

2 महीने पहले
जोशी ने विपक्ष के व्यवहार को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए लोकसभा में कहा कि स्पाइवेयर मामला कोई गंभीर मसला नहीं है। (फाइल)

पेगासस जासूसी विवाद पर संसद में विपक्ष का हंगामा जारी है। विपक्ष की मांग है कि पेगासस विवाद पर सदन में प्रधानमंत्री या गृह मंत्री की मौजूदगी में चर्चा हो। इस बीच केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा है कि पेगासस कोई मुद्दा ही नहीं है और सरकार जनता से जुड़े मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है।

जोशी ने विपक्ष के व्यवहार को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए लोकसभा में कहा कि स्पाइवेयर मामला कोई गंभीर नहीं है। IT मिनिस्टर इस मुद्दे पर दोनों सदनों में पहले ही विस्तार से बयान दे चुके हैं। जोशी ने कहा कि देश की जनता से सीधे तौर पर जुड़े बहुत से मुद्दे हैं और सरकार उन पर चर्चा के लिए तैयार है।

राज्यसभा-लोकसभा सोमवार तक स्थगित
पेगासस विवाद, किसानों और महंगाई के मुद्दों पर संसद में शुक्रवार को भी हंगामा हुआ। इस बीच राज्यसभा की कार्यवाही सोमवार तक के लिए स्थगित करने से पहले भी दो बार रोकनी पड़ी। सदन पहले 12 बजे तक और फिर 2.30 बजे तक स्थगित कर दिया गया। उधर राज्यसभा में भी हंगामे के चलते पहले कार्यवाही 12 बजे तक और फिर दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।

उधर विपक्ष ने संसद की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही सरकार को घेरने की रणनीति पर चर्चा कर ली थी। इसके लिए राज्यसभा के नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के कमरे में 16 विपक्षी दलों के नेताओं की बैठक हुई। इसमें राज्यसभा और लोकसभा के नेता शामिल थे।

राज्यसभा के ये नेता मौजूद रहे-
मल्लिकार्जुन खड़गे, आनंद शर्मा, जयराम रमेश, केसी वेणुगोपाल (कांग्रेस), सुखेंदु शेखर रॉय (TMC), तिरुची शिवा और आरएस भारती (DMK), ई करीम (CPM), विशंभर निषाद (SP), वंदना चव्हाण और फौजिया खान (NCP), विनय विश्वम (CPI), संजय राउत (शिवसेना), एमवी श्रेयांश कुमार (LJD), श्री वाइको (MDMK)

लोकसभा के ये नेता मौजूद रहे-
अधीर रंजन चौधरी, गौरव गोगोई, सुरेश कोडिकुनिल, माणिक टैगोर (कांग्रेस), टीआर बालू (DMK), हुसैन मसूदी (नेशनल कॉन्फ्रेंस), ए एम आरिफ (CPM), ए शमसुद्दीन (IUML), एनके प्रेमचंद्रन (RSP), थॉमस जी (केरल कांग्रेस-एम), डी रविकुमार (VCK), सौगत रॉय (TMC), श्याम सिंह यादव (BSP)

विपक्ष की मांग है कि पेगासस मामले में सरकार को संसद में चर्चा करनी चाहिए।
विपक्ष की मांग है कि पेगासस मामले में सरकार को संसद में चर्चा करनी चाहिए।

संसद की कार्यवाही शुरू होने से पहले कांग्रेस सांसद माणिक टैगोर ने कहा था कि सरकार संसद में विपक्ष को बोलने नहीं दे रही है। टैगोर ने कहा कि विपक्ष की बात सुनी जानी चाहिए और प्रधानमंत्री या गृह मंत्री मौजूदगी में पेगासस मामले पर चर्चा होनी चाहिए।

इससे पहले गुरुवार को को भी संसद के में हंगामा जारी रहा। इससे दोनों सदनों की कार्यवाही दोपहर बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। हालांकि शोर-शराबे के बीच लोकसभा ने दो विधेयकों को बिना चर्चा के ही पारित कर दिया। ऐसा ही राज्यसभा में हुआ। इससे पहले लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने पर अध्यक्ष ओम बिरला ने विपक्षी सदस्यों के अभद्र व्यवहार पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि वे ऐसी घटनाओं से बहुत आहत हैं।

पहले हफ्ते में सिर्फ 4 घंटे हुआ कामकाज
मानसून सत्र के पहले हफ्ते में संसद के दोनों सदनों में विपक्षी दलों ने तीन नए केंद्रीय कृषि कानूनों और पेगासस जासूसी मामले के साथ कई दूसरे मुद्दों पर जमकर हंगामा किया। पिछले हफ्ते सिर्फ मंगलवार को राज्यसभा में चार घंटे सामान्य ढंग से कामकाज हो पाया, जब कोरोना के चलते देश में बने हालात को लेकर सभी दलों के बीच आपस में बनी सहमति के आधार पर चर्चा हुई थी।

खबरें और भी हैं...