पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • People Raise 'Bharat Mata Ki Jai' Chants At The Funeral Of Special Frontier Force Commando Nyima Tenzin

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शहीद को आखिरी विदाई:भारत-चीन बॉर्डर पर शहीद हुए स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के कमांडो का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, भारत माता की जय के नारे गूंजे

लेह3 महीने पहले
भाजपा महासचिव राम माधव ने भी शहीद नाइमा तेनजिंग को श्रद्धांजलि दी।
  • 29-30 अगस्त की रात लद्दाख में चीन की घुसपैठ की कोशिश भारतीय जवानों ने नाकाम कर दी थी
  • माइन ब्लास्ट में विकास रेजीमेंट के जवान नाइमा तेनजिंग शहीद हो गए थे, इस रेजीमेंट में निर्वासित तिब्बतियों को तरजीह दी जाती है

भारत-चीन बॉर्डर पर शहीद हुए स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के कमांडो नाइमा तेनजिंग (51) का आज लेह में सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान लोगों ने तिरंगा थामकर भारत माता के जयकारे लगाए। अगस्त के आखिरी हफ्ते में लद्दाख में चीन की घुसपैठ की कोशिश के दौरान हुए माइन ब्लास्ट में तेनजिंग शहीद हुए थे।

नाइमा की श्रद्धांजलि देने भाजपा के महासचिव राम माधव भी पहुंचे। नाइमा जिस स्पेशल फोर्स में तैनात थे, उसके बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं है। इस फोर्स के जवानों की शहीद होने पर आमतौर खबरें सामने नहीं आतीं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।

शहीद नाइमा तेनजिंग को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग उमड़े।
शहीद नाइमा तेनजिंग को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग उमड़े।

तिब्बतियों की विकास रेजीमेंट में थे तेजजिंग
तेनजिंग चुशूल के ब्‍लैक टॉप पर चीन के खिलाफ ऑपरेशन के दौरान शहीद हुए थे। 29-30 अगस्‍त की रात भारतीय जवानों ने लद्दाख के पैंगॉन्ग इलाके में चीन की घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर दी थी। ऑपरेशन में तिब्बती जवानों की विकास रेजीमेंट भी शामिल थी। इस रेजीमेंट में तिब्बत के निर्वासित लोगों और गुरिल्ला युद्ध में महारत रखने वाले सैनिकों को तरजीह दी जाती है।

सरकार ने नहीं दी थी नाइमा की शहादत की सूचना

तेनजिंग स्पेशल फ्रंटियर फोर्स (एसएफएफ) में कंपनी लीडर थे। वे 33 साल से फोर् में थे। इस फोर्स का गठन 1962 में भारत-चीन युद्ध के वक्त हुआ था। तेनजिंग की शहादत को लेकर केंद्र सरकार ने कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की थी। रक्षा मंत्रालय ने 29-30 अगस्त की रात चीनी सैनिकों की तरफ से हुई घुसपैठ और भारतीय जवानों द्वारा उन्हें खदेड़ने को लेकर बयान जारी किया था।

तिब्बती संसद की निर्वासित सदस्य नामग्याल डोलकर लघियारी ने एएफपी न्यूज एजेंसी को बताया कि संघर्ष के दौरान तिब्बती मूल का सैनिक शहीद हो गया। नाइमा के परिवार में पत्नी और तीन बच्चे हैं।

आप स्पेशल फोर्स से जुड़ी ये खबर भी पढ़ सकते हैं...
भारतीय सेना की टूटू रेजीमेंट:चीन से लड़ने के लिए तैयार की गई थी एक खुफिया रेजीमेंट, ये सेना के बजाय रॉ के जरिए सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करती है

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें