--Advertisement--

दिलचस्प बयान / अगर मैं राजनीति में आई तो तीसरा विश्वयुद्ध हो जाएगा: इंद्रा नूई



इंद्रा नूई इंद्रा नूई
X
इंद्रा नूईइंद्रा नूई
  • नूई ने पेप्सिको में 12 साल तक सेवाएं देने के बाद 2 अक्टूबर को सीईओ पद छोड़ा था
  • नूई ने कहा कि मुझे स्लीपिंग स्कूल जाने की सलाह मिली, ताकि मैं सीख सकूं कि 8-10 घंटे की नींद कैसे लेते हैं

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2018, 07:43 PM IST

न्यूयॉर्क. पेप्सिको की पूर्व सीईओ इंद्रा नूई (62) ने कहा कि वे बेहद स्पष्टवादी हैं और अगर राजनीति में आईं तो इसकी वजह से तीसरा विश्वयुद्ध हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मैं और राजनीति कभी मेल नहीं खा सकते। नूई ने 2 अक्टूबर को पेप्सिको के सीईओ का पद छोड़ा था। वे 12 साल तक इस पद पर रहीं। हालांकि, वे 2019 की शुरुआत तक पेप्सिको के चेयरमैन पद पर बनी रहेंगी ताकि नए सीईओ को काम संभालने में आसानी हो।

नूई से पूछा गया था- क्या ट्रम्प की कैबिनेट ज्वाइन करेंगी?

  1. एनजीओ ने एशिया सोसायटी इंद्रा नूई को 'गेम चेंजर ऑफ द ईयर' अवॉर्ड से नवाजा। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान उनसे पूछा गया कि अब वे पेप्सिको की सीईओ नहीं हैं तो क्या अब वे डोनाल्ड ट्रम्प की कैबिनेट ज्वाइन करना चाहेंगी?

  2. नूई ने जवाब दिया, "मैं स्पष्टवादी हूं, कूटनीतिज्ञ नहीं। मुझे ये भी नहीं पता कि राजनीति होती क्या है। मेरी वजह से तीसरा विश्वयुद्ध हो जाएगा। ऐसा मत करिए।"

  3. अपने करियर के बारे में उन्होंने कहा- 40 साल तक रोजाना 18 से 20 घंटे काम करने के बाद थोड़ा सा खाली समय मिलना आजादी का अहसास दिलाता है। जब मैंने पद छोड़ा, तब लगा था कि ये बेहद मुश्किल होगा। हालांकि, ऐसा करने के एक दिन बाद मुझे अहसास हुआ कि काम के अलावा भी जिंदगी है।

  4. इंदिरा ने कहा, "दिल से मैं आज भी एक 'पेप्सिको' हूं। हालांकि, मैं इससे अलग हटने और इसके अलावा जिंदगी को समझना सीख रही हूं। मैं आगे का जीवन लिखने और ज्यादा से ज्यादा देशों की यात्रा में बिताना चाहती हूं।'

  5. उन्होंने कहा- मेरा आगे का शेड्यूल काफी व्यस्त है। लेकिन, मैं कुछ अन्य गतिविधियों के लिए भी समय निकालना चाहती हूं। लोगों ने कहा कि मुझे स्लीपिंग स्कूल जाना चाहिए, ताकि मैं ये सीख सकूं कि 6, 8, 10 घंटे की नींद किस तरह ली जाती है।

  6. उन्होंने कहा कि टेनिस खेलने को कहा गया। मुझे नहीं पता कि ये कैसा गुजरेगा, लेकिन ऐसा लगता है कि ये काफी मजेदार होगा।

  7. नूई की सलाह- ओहदे को बीच में मत आने दो

    काम और परिवार के बीच सामंजस्य के मुद्दे पर चर्चा के दौरान नूई ने एक वाकये का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मैंने अपने अनुभवों से जिंदगी के पाठ सीखे हैं। मेरी मां ने एक सलाह दी थी कि अपना ओहदा किनारे रख दो और ये सही भी लगती है।

  8. उन्होंने कहा- अगर आपका पति ओहदे की बात करता है, तो इसमें कोई परेशानी नहीं। लेकिन, अपना ओहदा बीच में मत लाओ। कुछ लोग मेरी इस बात पर मुझसे नफरत करेंगे।

  9. "अगर आपको शादीशुदा रहना है, आप बेटी, पत्नी, मां बनी रहना चाहती हैं तो दुर्भाग्य से आपका ओहदा कार में ही छूट जाता है। किसी को सबको साथ लाने के लिए कदम बढ़ाना होता है।"

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..