पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • PhD Scholar Prepared Milk Cooling Device Topped The BRICS Young Scientist Forum

भारत के पीएचडी स्कॉलर ने दूध ठंडा करने का उपकरण बनाया, ब्रिक्स के यंग साइंटिस्ट फोरम में अव्वल रहे

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रविप्रकाश को 25 हजार डॉलर का अवॉर्ड मिलने पर बधाई देते संस्थान के निदेशक डॉ. आरआरबी सिंह, डॉ. राजन शर्मा।
  • करनाल के एनडीआरआई में रिसर्च कर रहे रविप्रकाश 5 देशों के 100 छात्रों में अव्वल रहे, 25 हजार डॉलर का पुरस्कार मिला
  • ब्रिक्स में भारत, रूस, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील और चीन शामिल हैं, ब्राजील में यह चौथा ब्रिक्स-यंग साइंटिस्ट फोरम था
Advertisement
Advertisement

करनाल (रोहताश शर्मा). राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान (एनडीआरआई) के पीएचडी स्कॉलर रविप्रकाश ने दूध को ठंडा करने का उपकरण तैयार किया है। इससे विकसित देशों के छोटे किसानों को फायदा होगा। नैनो टेक्नोलॉजी के सिद्धांत पर यह उपकरण बनाया गया है। रविप्रकाश ने ब्राजील में आयोजित यंग साइंटिस्ट सम्मेलन में इस डिवाइस की प्रेजेंटेशन दी। 5 देशों के 100 युवा वैज्ञानिकों ने भी अपनी प्रेजेंटेशन दी, जिसमें यह डिवाइस प्रथम रही। रविप्रकाश को 25 हजार डॉलर (करीब 18 लाख रुपए) का अवॉर्ड मिला।
 
रवि ने बीटेक एनडीआरआई करनाल से किया। इसके बाद एनडीआरआई के रीजनल सेंटर बेंगलुरू से एमटेक किया। रविप्रकाश बेंगलुरु से ही पीएचडी कर रहे हैं। चौथे ब्रिक्स-यंग साइंटिस्ट फोरम (वाईएसएफ) रियो डी जेनेरियो में रविप्रकाश 20 भारतीय प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे। ब्रिक्स में भारत, रूस, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील और चीन शामिल हैं।
 

ब्रिक्स सम्मेलन: दो दिन प्रजेंटेशन दी, आखिरी प्रजेंटेशन में तीन चुने गए
दो दिन के कार्यक्रम में सभी युवा वैज्ञानिकों ने अपनी प्रेजेंटेशन दी। पहले चरण में 20 वैज्ञानिकों को चुना गया। दोबारा से प्रेजेंटेशन में तीन वैज्ञानिक चुने गए। इनमें भारत के रविप्रकाश को अव्वल रहे। दूसरे स्थान पर रूस और तीसरे स्थान पर ब्राजील रहा। 
 

डिवाइस दूध को 7 डिग्री तक ठंडा कर देगी 
रविप्रकाश के मुताबिक, डी-फ्रिज दूध को आमतौर पर तीन घंटे में 10 डिग्री तक ठंडा करता है। गाय का तापमान 37 डिग्री होता है, दूध भी इतना ही गर्म होता है। एक डिवाइस पांच से छह लीटर दूध को 37 डिग्री से 10 मिनट में 7 डिग्री तक ठंडा कर देगी। रविप्रकाश बिहार के पश्चिमी चंपारण के हरसरी गांव के रहने वाले हैं। पिता अरविंद कुमार शिक्षक हैं।
 

नैनो सिद्धांत पर आधारित डिवाइस
यह उपकरण नैनो सिद्धांत के आधार पर तैयार किया गया है। पेटेंट के लिए अप्लाई कर दिया है। पेटेंट होने के बाद ही यह मार्केट में आएगा। फिलहाल इसकी कॉस्ट पांच से छह हजार रुपए पड़ेगी, लेकिन ज्यादा मात्रा में बनने के बाद इसकी कीमत भी कम हो जाएगी। यह चार्ज करने के बाद काम करेगा।
 


 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज पिछले समय से आ रही कुछ पुरानी समस्याओं का निवारण होने से अपने आपको बहुत तनावमुक्त महसूस करेंगे। तथा नजदीकी रिश्तेदार व मित्रों के साथ सुखद समय व्यतीत होगा। घर के रखरखाव संबंधी योजनाओं पर भ...

और पढ़ें

Advertisement