पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • PM Modi Cancels WB Visit । Chair 3 High Level Meetings । Address Virtual Rally

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मोदी की मुख्यमंत्रियों से बातचीत:केजरी का सुझाव- ऑक्सीजन प्लांट्स आर्मी के हवाले करें; मोदी बोले- दूसरे राज्यों में जा रहे ऑक्सीजन टैंकर न रोके जाएं

नई दिल्ली21 दिन पहले
मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ चल रही इंटरनल मीटिंग लाइव टेलीकास्ट होने लगी। ये तब हुआ, जब केजरीवाल बोल रहे थे। मोदी ने इस पर आपत्ति जताई।

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग की। इसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुझाव दिया कि ऑक्सीजन प्लांट्स आर्मी के हवाले किए जाएं। वहीं मोदी ने कहा कि दूसरे राज्यों में जा रहे ऑक्सीजन टैंकर न रोके जाएं।

मीटिंग में केजरीवाल ने प्रधानमंत्री के सामने हाथ तक जोड़ लिए। केजरीवाल ने कहा कि ऑक्सीजन की सप्लाई तो बढ़ा दी, अब इसे दिल्ली तक पहुंचाने की व्यवस्था कराएं। राज्यों में हमारे ट्रक रोक लिए जाते हैं, उन्हें आप एक फोन कर दीजिए। केजरीवाल बोले कि मुख्यमंत्री होकर भी कुछ नहीं कर पा रहा हूं। अगर कोई त्रासदी हो गई तो हम कभी अपने आप को माफ नहीं कर पाएंगे।

मीटिंग में प्रधानमंत्री की 5 बड़ी बातें
1. मोदी ने कोरोना के खिलाफ मिलकर लड़ने की अपील की। उन्होंने कहा कि महामारी की पहली लहर के दौरान हमारी कामयाबी की वजह यही थी कि हमने मिलकर प्रयास किए और संगठित स्ट्रैटजी अपनाई। हमें मौजूदा चुनौती से भी इसी तरह निपटना है।
2. मोदी ने कहा कि इस लड़ाई में राज्यों को केंद्र का पूरा सपोर्ट है। स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों के संपर्क में है और स्थिति पर नजर रखे हुए है। वह समय-समय पर राज्यों को जरूरी सलाह भी दे रहा है।
3. प्रधानमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ाने की कोशिशें जारी हैं। तुरंत जरूरत को देखते हुए इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन को भी डायवर्ट किया जा रहा है। सरकार ऑक्सीजन टैंकरों की आवाजाही का समय कम करने के हरसंभव विकल्प पर विचार कर रही है। इसके लिए एयरफोर्स के विमानों से भी ऑक्सीजन टैंकर ट्रांसपोर्ट किए जा रहे हैं।
4. PM ने दवाओं और ऑक्सीजन की जरूरतें पूरी करने के लिए सभी राज्यों से एक-दूसरे के साथ तालमेल रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि राज्यों को ऑक्सीजन और दवाओं की जमाखोरी और ब्लैक मार्केटिंग पर भी निगरानी रखनी चाहिए।
5. मोदी ने कहा कि मरीजों के इलाजों के इंतजाम के साथ-साथ अस्पतालों में सुरक्षा इंतजाम भी अहम हैं। उन्होंने अस्पतालों में ऑक्सीजन लीकेज और आग लगने की घटनाओं पर अफसोस जताया। उन्होंने कहा कि अस्पताल के एडमिनिस्ट्रेटिव स्टाफ को सेफ्टी प्रोटोकॉल के बारे में और ज्यादा अवेयर करने की जरूरत है।

केजरीवाल ने ऑक्सीजन और वैक्सीन का मुद्दा उठाया
केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से कहा, 'हम आभारी हैं कि केंद्र सरकार ने दिल्ली का ऑक्सीजन का कोटा बढ़ा दिया है, लेकिन हालात गंभीर हो चुके हैं। हम किसी को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते। हमने केंद्र के कई मंत्रियों को फोन किए। उन्होंने पहले मदद की, पर अब वो भी थक गए हैं। अगर दिल्ली में ऑक्सीजन की फैक्ट्री नहीं है तो क्या दो करोड़ लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी। जिन राज्यों में ऑक्सीजन प्लांट हैं, वो क्या दूसरों की ऑक्सीजन रोक सकते हैं। अगर किसी अस्पताल में एक-दो घंटे की ऑक्सीजन बच जाए या ऑक्सीजन रुक जाए और लोगों की मौत की नौबत आ जाए तो मैं फोन उठाकर किससे बात करूं, कोई ट्रक रोक ले तो किससे बात करूं?'

दिल्ली के सीएम ने कहा, 'हमें लोगों को भरोसा दिलाना होगा कि एक-एक जिंदगी कीमती है। हम दिल्ली के लोगों की तरफ से हाथ जोड़कर अपील कर रहे हैं कि तुरंत कोई कदम नहीं उठाया गया तो दिल्ली में बड़ी त्रासदी हो सकती है। मैं आपका मार्गदर्शन चाहता हूं। सबसे ज्यादा ऑक्सीजन के ट्रक रोके जा रहे हैं। अगर आप उन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को एक फोन लगा दें तो वह बहुत होगा। मैं मुख्यमंत्री होते हुए भी कुछ नहीं कर पा रहा। ईश्वर न करे कि कुछ अनहोनी हो गई, तो हम कभी अपने आप को माफ नहीं कर पाएंगे।'

देशभर के ऑक्सीजन प्लांट को आर्मी के हवाले करें
केजरीवाल ने कहा, 'एक नेशनल प्लान बनना चाहिए। इसके तहत देश के सभी ऑक्सीजन प्लांट को आर्मी के जरिए सरकार टेकओवर करे। हर ट्रक के साथ आर्मी का एस्कॉर्ट व्हीकल रहेगा तो कोई उसे नहीं रोक पाएगा। 100 टन ऑक्सीजन ओडिशा, बंगाल से आनी है। हम कोशिश कर रहे हैं कि उसे दिल्ली लाने के लिए। हो सके तो हमें हवाई जहाज से उपलब्ध कराएं या आपका आइडिया है ऑक्सीजन एक्सप्रेस का, तो उससे हमें ऑक्सीजन मिले।' इस पर प्रधानमंत्री ने केजरीवाल को बीच में रोकते हुए कहा कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस ऑलरेडी चल रही है।

एक देश में वैक्सीन के दो रेट कैसे?
केजरीवाल ने यह भी कहा, 'वैक्सीन का वन नेशन, वन रेट होना चाहिए। एक ही देश में वैक्सीन के दो रेट कैसे हो सकते हैं। केंद्र सरकार और राज्य सरकार को एक ही रेट पर वैक्सीन मिले। हर जान हमारे लिए कीमती है। हमें यह एहसास हर भारतीय को कराना होगा। सबको दवाई, वैक्सीन और ऑक्सीजन बिना किसी विवाद और रुकावट मिले। कोरोना के खिलाफ एक नेशनल प्लान होगा, तो हम सब मिलकर काम करेंगे।'

छत्तीसगढ़ ने भी की वन नेशन-वन रेट की अपील
छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री से कहा कि जिस रेट पर केंद्र सरकार को वैक्सीन मिल रही है, उसी रेट पर राज्य सरकारों को भी मिलनी चाहिए। 1 मई से शुरू होने वाली वैक्सीनेशन मुहिम से पहले टीके की उपलब्धता के बारे में एक्शन प्लान होना चाहिए।

ऑक्सीजन मैन्यूफेक्चरर्स के साथ मीटिंग
मुख्यमंत्रियों के अलावा मोदी ने देश के प्रमुख ऑक्सीजन मैन्यूफेक्चरर्स के साथ भी मीटिंग की। इस वर्चअल मीटिंग में प्रधानमंत्री ने मैन्यूफेक्चरर्स से कहा कि वे अपनी क्षमता का पूरा इस्तेमाल करें ताकि देश में ऑक्सीजन की कमी जल्द से जल्द पूरी की जा सके। इस मीटिंग में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी भी शामिल थे। रिलायंस के जामनगर से प्लांट से ऑक्सीजन पहले ही महाराष्ट्र सप्लाई की जा रही है। मोदी ने ऑक्सीजन उत्पादकों की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने इस मुश्किल वक्त में इंडस्ट्रियल यूज वाली ऑक्सीजन को मेडिकल इमरजेंसी के लिए सप्लाई किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी के सहयोग से इस मुश्किल जंग को देश जल्द ही जीत लेगा।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

और पढ़ें