पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • PM Narendra Modi CDS Bipin Rawat Ladakh Leh Visit Updates | India China Ladakh Border News | Indian Army And Chinese People Liberation Army (PLA) Face off Today Latest News

लद्दाख में पीएम: चीन को चुनौती, जवानों को भरोसा:गलवान के शहीदों को याद करने के बाद घायल जवानों से मिले मोदी, कहा- पूरी दुनिया आपकी वीरता का एनालिसिस कर रही

लद्दाखएक वर्ष पहले
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अस्पताल में घायल सैनिकों से मिलने पहुंचे। उनसे कहा कि मैं आपको जन्म देने वाली मांओं को नमन करता हूं।
  • जवानों ने वंदेमातरम के नारे लगाए, रक्षा मंत्री ने कहा- सेना का मनोबल बढ़ा
  • गलवान में 20 जवान शहीद हुए थे, मोदी ने कहा था कि बलिदान बेकार नहीं जाएगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अचानक लद्दाख दौरे पर पहुंचे। शाम को उन्होंने अस्पताल में भर्ती घायल सैनिकों से मुलाकात की। ये सैनिक गलवान में चीनी सैनिकों से हुई झड़प में घायल हुए थे। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपको प्रणाम करता हूं। उन माताओं को शत-शत नमन करता हूं, जिन्होंने आप जैसे वीर योद्धाओं को जन्म दिया, पाला और फिर देश के लिए दे दिया। हमारे जवान पराक्रम दिखाते हैं। ऐसी-ऐसी शक्तियों का सामना करते हैं कि दुनिया जानना चाहती है कि ये वीर कौन हैं, उनकी ट्रेनिंग कैसी है? पूरी दुनिया आपकी वीरता का एनालिसिस कर रही है।’’

अस्पताल में मोदी ने अस्पताल में सैनिकों से कहा- आपको छूकर और देखकर एक ऊर्जा मिलती है। आपको नमन करने आया हूं।
अस्पताल में मोदी ने अस्पताल में सैनिकों से कहा- आपको छूकर और देखकर एक ऊर्जा मिलती है। आपको नमन करने आया हूं।
अस्पताल में मोदी ने कहा कि हमारा देश न तो कभी झुका है और न ही कभी किसी विश्व शक्ति के सामने झुकेगा और मैं आप जैसे बहादुरों के कारण यह कहने में सक्षम हूं।
अस्पताल में मोदी ने कहा कि हमारा देश न तो कभी झुका है और न ही कभी किसी विश्व शक्ति के सामने झुकेगा और मैं आप जैसे बहादुरों के कारण यह कहने में सक्षम हूं।

पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जाने वाले थे

लद्दाख रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को जाना तो था, लेकिन चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे के साथ सुबह 9:30 बजे प्रधानमंत्री मोदी पहुंच गए। वे पहले लेह गए। वहां से लद्दाख में 11 हजार फीट की ऊंचाई पर मौजूद फॉरवर्ड लोकेशन नीमू पर पहुंचे। उनका यह दौरा गलवान घाटी में चीन से हुई हिंसक झड़प के 18 दिन बाद हुआ।

सेना की स्ट्रैटजी को समझा

नीमू में प्रधानमंत्री ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल रावत से आर्मी की स्ट्रैटेजिक तैनाती के बारे में समझा। फिर सेना, वायुसेना और आईटीबीपी के जवानों से बात की। इसके बाद जवानों को 26 मिनट का संबोधन दिया। इस संबोधन के जरिए उन्होंने चीन को 5 मैसेज दिए...

1. भारत के जवानों का साहस दुनिया में किसी से कम नहीं
मोदी ने कहा, ‘‘आज जिस कठिन परिस्थिति में आप देश की हिफाजत करते हैं, उसका मुकाबला पूरे विश्व में कोई नहीं कर सकता। आपका साहस उस ऊंचाई से भी ऊंचा है, जहां आप तैनात हैं। आपका निश्चय उस घाटी से भी सख्त है, जिसे आप रोज कदमों से नापते हैं। आपकी इच्छाशक्ति आसपास के पर्वतों जैसी अटल है।’’

2. गलवान के शहीदों को याद कर कहा- दुनिया ने भारत की ताकत देख ली है
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘अभी जो आपने और आपके साथियों ने वीरता दिखाई है, उसने पूरी दुनिया में यह संदेश दिया है कि भारत की ताकत क्या है। मेरे सामने महिला फौजियों को भी देख रहा हूं। राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने लिखा था कि जिनके सिंहनाद से सहमी धरती रही अभी तक डोल कलम, आज उनकी जय बोल। मैं आज अपनी वाणी से आपकी जय बोलता हूं। मैं गलवान घाटी में शहीद हुए जवानों को भी फिर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। आज हर देशवासी का सिर आपके सामने आदरपूर्वक नतमस्तक होकर नमन करता है।’’

3. फायर एंड फ्यूरी, कृष्ण की बांसुरी और चक्र
मोदी ने कहा, ‘‘लद्दाख का पूरा हिस्सा भारत का मस्तक है। 14वीं कोर की जांबाजी के किस्से तो हर तरफ हैं। दुनिया ने आपका अदम्य साहस देखा है, जाना है। आपकी शौर्य गाथाएं घर-घर में गूंज रही हैं। भारत माता के दुश्मनों ने आपकी फायर (आग) और फ्यूरी (आक्रोश) भी देखी है। आप उसी धरती के वीर हैं, जिसने कई आक्रांताओं के हमलों का मुंहतोड़ जवाब दिया है। हम वो लोग हैं, जो बांसुरीधारी कृष्ण की पूजा करते हैं, हम वही लोग हैं जो सुदर्शन चक्रधारी कृष्ण को आदर्श मानकर चलते हैं। इसी प्रेरणा से भारत हर आक्रमण के बाद और सशक्त बनकर उभरा है।’’

4. चीन की विस्तारवादवादी नीति पर निशाना
मोदी ने कहा, ‘‘विस्तारवाद का युग खत्म हो चुका है। ये युग विकासवाद का है। तेजी से बदलते हुए वक्त में विकासवाद ही प्रासंगिक है। इसी के लिए अवसर हैं। विकासवाद ही भविष्य का आधार भी है। बीती शताब्दियों में विस्तारवाद ने ही मानवता का विनाश करने का प्रयास किया। विस्तारवाद की जिद जब किसी पर सवार हुई, उसने हमेशा विश्व शांति के सामने खतरा पैदा किया है। इतिहास गवाह है कि ऐसी ताकतें मिट गई हैं या मुड़ने के लिए मजबूर हो गई हैं। विश्व का हमेशा यही अनुभव रहा है। पूरे विश्व ने विस्तारवाद के खिलाफ मन बना लिया है।’’

पूरी खबर पढ़ें...

प्रधानमंत्री ने चीन की नीतियों पर कहा- विस्तारवाद ने ही मानव जाति का विनाश किया, इतिहास बताता है कि ऐसी ताकतें मिट गईं

5. भगवान बुद्ध का जिक्र किया, जिनके बौद्ध धर्म के चीन में सबसे ज्यादा अनुयायी हैं
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘भगवान गौतम बुद्ध ने कहा है कि साहस का संबंध प्रतिबद्धता से है। साहस करुणा है। साहस वो है, जो हमें निर्भीक और अडिग होकर सत्य के पक्ष में खड़े होना सिखाए। साहस वो है, जो हमें सही को सही कहने और करने की ऊर्जा देता है। देश के वीर सपूतों ने गलवान घाटी में जो अदम्य साहस दिखाया, वो पराक्रम की पराकाष्ठा है।’’

चीन की बौखलाहट सामने आई
इससे बीच चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा कि मिलिट्री और डिप्लोमैटिक बातचीत के जरिए दोनों देश तनाव कम करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में किसी भी पक्ष को ऐसा काम नहीं करना चाहिए, जिससे हालात बिगड़ें।

इससे पहले मोदी ने नीमू में 11 हजार फीट ऊंची फॉरवर्ड लोकेशन पर आर्मी, एयरफोर्स और आईटीबीपी के जवानों से बात की। नीमू से चीन की दूरी सिर्फ 250 किलोमीटर है। प्रधानमंत्री ने जवानों से बातचीत का फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर किया। 

सेना के लिए मोदी के दौरे के क्या मायने?
डिफेंस सेक्टर के एक्सपर्ट्स का कहना है कि मोदी के दौरे से सेना का ही नहीं बल्कि पूरे देश का हौसला बढ़ेगा। इस दौरे का पॉजिटिव पक्ष यह है कि नेता जब खुद स्पॉट या फ्रंटलाइन पर जाते हैं तो वे पर्सनली सिचुएशन को रिव्यू करते हैं। पूरी खबर पढ़ें...

फ्रंट पर प्रधानमंत्री का पहुंचना हौसले का हाईडोज, इससे उन्हें असल हालात पता चलेंगे, ताकि तुरंत एक्शन ले सकें

जवानों ने भारत माता की जय के नारे लगाए

चीन के साथ-साथ पूरी दुनिया को संदेश
मोदी के इस दौरे को चीन के लिए मैसेज देने के तौर पर देखा जा रहा है। विदेश मामलों के जानकार हर्ष वी पंत का कहना है कि प्रधानमंत्री खुद लद्दाख पहुंचकर चीन को मैसेज दे रहे हैं कि भारत अपनी एक इंच जमीन नहीं छोड़ेगा, पूरा लद्दाख भारत का है। यह मैसेज सिर्फ चीन के लिए ही नहीं, बल्कि उन देशों के लिए भी है, जो इस कन्फ्यूजन में हैं कि आखिर भारत का स्टैंड क्या है? पूरी खबर पढ़ें...

मोदी के लद्दाख दौरे के कूटनीतिक मायने: प्रधानमंत्री ने चीन और दुनिया को बताया- लद्दाख का पूरा इलाका भारत का है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- सेना का मनोबल बढ़ा

राजनाथ के जाने का कार्यक्रम था, मोदी पहुंच गए
राजनाथ सिंह का गुरुवार को लद्दाख जाने का कार्यक्रम था, लेकिन टाल दिया गया। शुक्रवार को फिर उम्मीद की जा रही थी कि राजनाथ लद्दाख पहुंचेंगे, लेकिन अचानक मोदी पहुंच गए। मोदी का लद्दाख दौरा विपक्ष को जवाब के तौर पर भी देखा जा रहा है। चीन के मुद्दे पर राहुल लगातार मोदी पर निशाना साध रहे थे। उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री चीन का समर्थन क्यों कर रहे हैं? उन्हें सब कुछ साफ-साफ बताना चाहिए।

राहुल का तंज- कोई तो झूठ बोल रहा है
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक वीडियो शेयर कर कटाक्ष किया है कि एक तरफ लद्दाख के लोग चीन की सेना की घुसपैठ की बात कह रहे हैं, दूसरी ओर प्रधानमंत्री कहते हैं कि ऐसा नहीं हुआ। इससे साफ है कि कोई तो झूठ बोल रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने ट्वीट कर कहा कि जब इंदिरा गांधी लेह गई थीं तो पाकिस्तान के 2 हिस्से हुए थे। अब देखते हैं कि मोदी क्या करते हैं?

मोदी ने कहा था- हमें जवाब देना आता है
मोदी ने 28 जून को मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला। हमें दोस्ती निभाना और आंखों में आंखें डालकर जवाब देना आता है। अपने वीर सपूतों के परिवारों के मन में जो जज्बा है, उन पर देश को गर्व है। लद्दाख में हमारे जो वीर जवान शहीद हुए हैं, उनके शौर्य को पूरा देश नमन कर रहा है।

शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा- जवानों का हौसला बढ़ेगा

सर्वदलीय बैठक में कहा था- सेना को फ्री हैंड दिया
गलवान की घटना के बाद मोदी ने 19 जून को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। मीटिंग में उन्होंने कहा कि सेना को फ्री हैंड दे दिया है। इससे पहले कहा था कि हमारे जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। हम शांति चाहते हैं, लेकिन कोई उकसाएगा तो जवाब देने में भी सक्षम हैं।

भारत-चीन सीमा विवाद पर आप ये भी खबरें पढ़ सकते हैं...

1. फ्रंट पर प्रधानमंत्री का पहुंचना हौसले का हाईडोज, इससे उन्हें असल हालात पता चलेंगे, ताकि तुरंत एक्शन ले सकें
2. मोदी ने चीन और दुनिया को बताया- लद्दाख का ये पूरा इलाका भारत का है, जहां न सिर्फ सेना खड़ी है, बल्कि देश के प्रधानमंत्री भी मौजूद हैं
3. मोदी ने फिर चौंकाया, चीन से जारी तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे; मैप के जरिए सीमा की रणनीति भी समझी
4. 5 लाइव रिपोर्ट्स से जानिए इन दिनों क्या हैं लेह में हालात, पढ़ें उनकी कहानी भी जिनके अपने गलवान में तैनात हैं

खबरें और भी हैं...