तमिलनाडु / शी जिनपिंग चेन्नई से महाबलीपुरम चीनी कार में गए, हेलिकॉप्टर इस्तेमाल नहीं किया



यह फोटो हॉन्गशी कार का है। इसे राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए चीन से लाया गया। यह फोटो हॉन्गशी कार का है। इसे राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए चीन से लाया गया।
X
यह फोटो हॉन्गशी कार का है। इसे राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए चीन से लाया गया।यह फोटो हॉन्गशी कार का है। इसे राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए चीन से लाया गया।

  • राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चेन्नई से महाबलीपुरम का 57 किमी का सफर चीन से लाई गई हॉन्गशी कार में तय किया
  • चीन की नीति के मुताबिक, वहां के नेता हेलिकॉप्टर से सफर नहीं करते

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2019, 09:03 AM IST

महाबलीपुरम. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार को चेन्नई पहुंचे थे। यहां से उन्होंने महाबलीपुरम का 57 किमी का सफर हेलिकॉप्टर की बजाय सड़क मार्ग से तय किया। इसके लिए चीन से हॉन्गशी कार लाई गई। चीन में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक माओ के वक्त से ही नेता इस कार में चलते हैं। चीन की नीति के मुताबिक, वहां के नेता हेलिकॉप्टर से सफर नहीं करते।

 

अफसरों को मुताबिक, वे इस कार का इस्तेमाल दो दिवसीय यात्रा के दौरान घूमने के लिए किया। इससे पहले शुक्रवार को महाबलीपुरम (मामल्लापुरम) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका स्वागत किया। तमिलनाडु के पारंपरिक परिधान वेष्टि, आधी बांह की कमीज और अंगवस्त्रम पहने मोदी ने जिनपिंग को अर्जुन की तपस्थली, पंच रथ और शोर मंदिर दिखाए। 7वीं सदी में बना यह स्थान विश्व धरोहर है। यहां पहुंचने वाले जिनपिंग तीसरे चीनी नेता हैं। 7वीं सदी में मशहूर चीनी यात्री ह्वेन सांग और 1956 में तत्कालीन राष्ट्रपति झाऊ एन लाई यहां आ चुके हैं। 63 साल से यहां कोई चीनी नेता नहीं आया था। मामल्लापुरम का चीन से 1700 साल पुराना नाता याद करते हुए मोदी ने कहा कि अब भारत और चीन के रिश्ते और गहरे होंगे।

 

90 सदस्यों का प्रतिनिधिमंडल आया है
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, 'अनौपचारिक शिखर सम्मेलन भारत-चीन के संपर्कों को उच्चतर स्तर पर मजबूत करेगा और भविष्य का रास्ता दिखाएगा।' जिनपिंग 90 सदस्यों का प्रतिनिधिमंडल लेकर भारत आए हैं। शनिवार सुबह चेन्नई में मोदी से बातचीत के बाद जिनपिंग अपनी टीम के साथ नेपाल रवाना होंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना