प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 55 महीने में 93 विदेश दौरे किए, 100 से 7 कदम दूर

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने 10 साल में 93 और इंदिरा गांधी ने 16 साल में 113 विदेशी दौरे किए थे
  • मोदी 5 साल में दूसरी बार दक्षिण कोरिया गए, राष्ट्रपति मून जेई इन से की मुलाकात

सियोल.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर गुरुवार तड़के दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल पहुंचे। यह 5 साल में उनका दूसरा दक्षिण कोरियाई दौरा है। 2019 आम चुनाव से पहले बतौर प्रधानमंत्री मोदी का यह आखिरी आधिकारिक विदेश दौरा भी है। हालांकि, उनके भूटान जाने की चर्चा भी है, पर दोनों देशों ने अब तक कोई तारीख तय नहीं की है। 


पीएम मोदी विदेश दौरों का शतक बनाने से महज 7 कदम दूर रह गए हैं। क्रिकेट के शब्दों में कहेंगे तो वह विदेश में नर्वस नाइनटी में पहुंच गए हैं। मोदी का प्रधानमंत्री बनने के बाद यह 55 महीने में 93वां (इसमें एक ही देश के दो या उससे ज्यादा दौरे भी शामिल हैं) विदेश दौरा है। मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बराबरी की है। वह 10 साल में 93 बार विदेश दौरे पर गए थे। हालांकि मोदी, पूर्व पीएम इंदिरा गांधी से इस मामले में पीछे रह गए हैं, उन्होंने 16 साल में 113 विदेश दौरे किए थे। पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने 48 विदेशी दौरे किए, जबकि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू 1947 से लेकर 1962 के बीच 68 बार विदेशी दौरे पर गए। 


 

मोदी को शांति अवाॅर्ड मिलेगा, यह पाने वाले 3 लोग नोबेल पा चुके

 

  • मोदी गुरुवार सुबह सबसे पहले सियोल में भारतीय समुदाय के लोगों से मिले। इसके बाद उन्होंने गांधीजी की प्रतिमा का अनावरण किया। यहां वह द. कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन से स्पेशल स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप को लेकर बातचीत की।
  • मोदी को शुक्रवार को सियोल शांति पुरस्कार से भी सम्मानित किया जाएगा। 1988 में सियोल ओलिंपिक के बाद यह पुरस्कार शुरू हुआ था। 1990 से यह हर 2 साल बाद दिया जाता है। मोदी यह सम्मान पाने वाले 14वें व्यक्ति हैं। इसके तहत प्रशस्ति पत्र और 1.42 करोड़ रु. दिया जाता है। इसे पाने वाले 3 लोग नोबेल प्राइज भी जीत चुके हैं।

 

कहां-कहां गए : सबसे ज्यादा 5-5 बार अमेरिका, चीन; 3-3 बार फ्रांस-जापान गए

 

  • मोदी 5 साल में कुल 49 बार विदेश के लिए रवाना हुए। इस दौरान वह 93 देश (इनमें 2 या उससे ज्यादा दौरे भी) गए। इनमें 41 देश ऐसे रहे, जहां वह एक बार गए।
  • 10 देशों में वह दो बार गए। फ्रांस और जापान 3-3 बार गए। रूस, सिंगापुर, जर्मनी और नेपाल 4-4 बार गए। चीन और अमेरिका 5-5 बार गए हैं।

 

 

कितना खर्च : मोदी की यात्रा पर 2021 करोड़ रु. खर्च हुए,  यानी 1 पर 22 करोड़

 

  • दक्षिण कोरिया से पहले मोदी ने जो 92 दौरे किए हैं, उन पर कुल 2021 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। यानी एक यात्रा पर औसतन 22 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं।
  • यूपीए-1 सरकार में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के 50 विदेश दौरों पर 1350 करोड़ रुपए खर्च हुए थे। यानी उनकी एक यात्रा पर औसतन 27 करोड़ रुपए खर्च हुए थे।

 

क्या मिला : प्रधानमंत्री ने अलग-अलग देशों में 480 समझौते किए

 

  • प्रधानमंत्री मोदी ने इन 93दौरों में अलग-अलग देशों में कुल 480 समझौतों और एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं। मोदी ने सबसे ज्यादा दौरे साल 2015 में किए। इस साल वह 24 देश गए।
  • 2016 और 2018 में 18-18 देश गए। 2017 में वह 19 देश गए। वह अपने पहले साल 2014 में 13 देश गए थे। 2019 में दक्षिण कोरिया पीएम मोदी का पहला विदेशी दौरा है।  इससे पहले वह अर्जेंटीना गए थे।

 

मोदी की बात : गांधी जी के संदेशों में आतंक और जलवायु परिवर्तन का समाधान

मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी कहा करते थे कि परमात्मा ने मनुष्य की जरूरत के लिए सबकुछ दिया है, लेकिन मनुष्य की लालच के लिए यह सारी चीजें कम पड़ जाएंगी। इसलिए मनुष्य को जरूरत के हिसाब से जीवन बिताना चाहिए न कि लालच के हिसाब से। गांधीजी के समय में कोई ग्लोबल वॉर्मिंग पर चर्चा नहीं होती थी। उन्होंने कोई कार्बन फुटप्रिंट्स नहीं छोड़े। उन्होंने हमेशा आने वाली पीढ़ी के लिए संसाधन छोड़ने की बात कही। वे कहते थे कि अगर हम ऐसा नहीं करेंगे तो हम अपने बच्चों का हिस्सा खा लेंगे, उनका अधिकार ले लेंगे।